क्यों मनाया जाता है Valentine Day जरा सच जान लो

क्यों मनाया जाता है Valentine Day जरा सच जान लो

दोस्तों आज का युवा कल का भविष्य होता है,  जिस दिशा में आज का युवा जायेगा देश का भविष्य भी उसी दिशा में जायेगा। लेकिन आज हम देखते हैं भारत के युवा अपने धर्म से अपनी संस्कृति से और अपनी परम्पराओं से दूर होते जा रहे हैं। हम जरा भी नहीं सोचते हैं और आँख बंद करके पश्चिमी सभ्यता पर भरोसा कर लेते हैं, लेकिन हमें थोड़ा रूककर यह भी सोचना चाहिए कि हमारी भारत की संस्कृति सबसे पुरानी है।

  • जिस भारत में संस्कृति सबसे पहले आयी
  • जिस भारत में शिक्षा के लिए सबसे पहले गुरुकुल परम्परा चलायी गयी
  • जिस भारत ने दुनिया को गणित सिखाई
  • जिस भारत ने दुनिया को हवाई जहाज बनाना सिखाया
  • जिस संस्कृति को दुनिया की सबसे सभ्य संस्कृति माना जाता है
  • जिस भारत ने पूरी दुनिया को गृह नक्षत्रो से परिचित करवाया
  • जिस संस्कृत भाषा को वैज्ञानिक तौर पर इस्तेमला की जाने वाली सबसे सटीक भाषा माना जाता है
  • जिस संस्कृत भाषा ने दुनिया को सैकड़ो भाषाएँ दी
  • जिसने दुनिया को जीरो दिया।
  • जिसने भगवद गीता जैसा सटीक दार्शनिक, और प्रेरणात्मक ग्रन्थ दुनिया को दिया।

उसी भारत पर गर्व करने के बजाय हम उस भारत की संस्कृति को पुराना कहते हैं और अपनी परम्पराओ को भूलकर हम पश्चिमी परम्पराओ को मनाने लगे हैं। अगर वे छोटे कपडे पहनते हैं तो हम भी उनकी नक़ल करना शुरू कर देते हैं, अगर वे फटे कपडे पहनते हैं तो हम भी वही पहनने लगते हैं। अरे अगर वे नंगे घूमने लग जाये तो क्या हम भी लगे घूमने लगेंगे ? नहीं न

  • तो फिर क्यों आप अपना सभ्य इंसानो जैसा स्टाइल नहीं चुनते ?
  • क्यों आप ऐसा स्टाइल नहीं चुनते कि दुनिया आपकी नक़ल करने लगे ?
  • क्यों आप इतनी हद तक किसी की  नक़ल करते हैं ?
  • क्यों आप थोड़ा सा लॉजिक नहीं लगाते ?

मेरे देश की बहनो मैं आपको गारंटी देता हूँ कि आप शॉर्ट कपड़ो की बजाय फुल कपडे पहनो, बदन दिखाने की बजाये बदन छुपाओ,

मेरा विश्वाश करो आप बहुत सुन्दर दिखोगी और भूखे भेड़ियों के मन के इरादे भी बदल जायेंगे । 

जरा सोचिये ! हम युवा अपने भारत को किस दिशा में ले जा रहे है।  हम अपने बच्चो के लिए आने वाली पीढ़ी के लिए कैसी सभ्यता छोड़कर जाने वाले हैं ? खैर मेरा आज का टॉपिक था क्यों मनाया जाता है Valentine Day जरा सच जान लो वैलेंटाइन डे की सच्चाई भी। 

क्यों मनाया जाता है Valentine Day जरा सच जान लो –

तो यह बात है आज से करीब 1350 साल पहले की जब  इटली में एक वैलेंटाइन नाम के व्यक्ति का जन्म हुआ, जो यह कहता था कि हम जो शारीरिक सम्बन्ध रखते हैं कुत्ते बिल्ली और अन्य जानवरो की तरह किसी से के साथ भी और कभी भी यह करना ठीक नहीं है। क्योंकि यूरोपीय देशो में शादी से पहले ही लोग सम्बन्ध बना लेते थे और किसी के साथ भी बना लेते थे, और आज भी इसका असर आप यूरोपीय देशो में देख सकते हैं, शादी से पहले वे लोग Live In relationship में रहते हैं तो वैलेंटाइन यही सिखाते थे कि सबको  इंसानो की तरह रहना चाहिए और शादी करने के बाद ही  सम्बन्ध बनाने चाहिए, और उसके संपर्क में जो भी व्यक्ति आता था वो उन सबको यही सिखाता था। कुछ दिनों बाद वे संयोग से एक चर्च के पादरी हो गए  जिसके बाद वे Sant Valentine के  नाम से भी जाने जाते हैं। और उसके बाद उन्होंने सभी लोगो को यही शिक्षा देनी शुरू कर दी की शादी करो उसी के बाद सम्बन्ध रखो उस से पहले नहीं।

यह भी पढ़ें – दुनिया में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली 10 भाषाएँ

तो फिर जब भी कोई आदमी समाज में अलग बात करता है तो लोग उसका विरोध करते ही हैं और उस से सवाल भी पूछते हैं। तो ऐसे ही लोग वैलेंटाइन से भी सवाल पूछते थे की ये सब आप क्यों कहते हैं और आपको इसके बारे में कहाँ से पता चला की इसके क्या फायदे हैं और क्या नुकसान।  तो वैलेंटाइन जवाब दिया करते थे कि ये सब मैं Eastern Philosophy (पूर्वी दर्शन) का अध्ययन करके जानता हूँ। और East उस वक़्त पूरा भारत ही था। क्योंकि आज से करीब 1500-1600 साल पहले चीन, मलेशिया, सिंगापुर, पाकिस्तान अफगानिस्तान, ईरान, श्रीलंका, सब जगह भारत भारत की ही संस्कृति थी भले ही आज देश टुकड़ो में बंट गया हो। उस वक़्त वैलेंटाइन वे भारतीय दर्शनों का अध्ययन किया करते थे और कहते थे कि ये एकदम परफेक्ट है इसमें सारी बाते सत्य हैं, इसीलिए मैं आपको यह बता रहा हूँ कि आप उनकी सभ्यता को अपनाओ।

यह भी पढ़ें – भगवद्गीता के १० सबसे जबरदस्त श्लोक

तो इस तरह वे चर्च में बच्चो को शादियां करवाने लग गए और इस तरह उन्होंने सैकड़ो शादियां भी चर्च में करवायी।  तो उसी वक़्त रोम का एक राजा हुआ करता था Claudius यह  वहां का बड़ा राजा था तो उसको लगा की यह वैलेंटाइन हमारे यूरोप की परम्परा  को बिगाड़ रहा है। की कहा हम मौज मजे में  रहने वाले लोग। मन मर्जी से किसी के  साथ भी सम्बन्ध बनाने वाले लोग और ये शादियां करावा रहा है ?

तो उसने Claudius ने Valentine को अपने दरबार में बुलाया और कहा की ऐसा क्यों कर रहे, हमारी परंपरा तोड़  हो तो वैलेंटाइन ने कहा मुझे यही अच्छा और सत्य लगता है इसीलिए करता हूँ तो क्लॉडियस ने उसकी एक न सुनी और Valentine को फांसी देने का आदेश दे दिया और दुर्भाग्यवश  14 फरवरी 269 AD को वैलेंटाइन को फांसी दे दी गयी।

यह भी पढ़ें – IAS इंटरव्यू में पूछे गए रोचक सवाल और उनके जवाब

अब आप जरा देखिये valentine पर आरोप क्या था ? कि वो बच्चों की शादियाँ करवाते हैं, यानी की कुत्ते बल्लियों की तरह सम्बन्ध बनाने की प्रथा को छोड़कर इंसानो की शादी करके सम्बन्ध बनाने वाले को, सभ्य सामाज बनाने वाले को ही फांसी दे दी।

तो जिन बच्चो की शादियां वैलेंटाइन ने करवाई थी उन्होंने 14 फ़रवरी ( 14 February ) को Valentine Day मानाना शुरू कर दिया। तो इस प्रकार यूरोप में पहले शादियाँ नहीं होती थी और  जिनकी शादी हो जाती थी वे लोग 14 February को वैलेंटाइन डे मनाते हैं। और हमारा भारत तो लाखो सालो से पूरी दुनिया को ये सब सिखाता आ रहा है। हमको वैलेंटाइन डे मानाने की क्या जरुरत।

यह भी पढ़ें – राजीव दीक्षित जी का जीवन परिचय Rajeev Dikshit 

लेकिन हाँ मैं आपसे यह नहीं कह रहा की आप अपनी पत्नियों  प्यार न करे या उनके लिए कुछ स्पेशल न करे।  बेशक आप अपनी पत्नी से प्यार करे और जरुरी नहीं की हम उनको सिर्फ वैलेंटाइन डे पर ही कुछ स्पेशल फील करवाएं आप किसी भी महीने के किसी भी दिन और किसी भी क्षण उनको प्यार जता सकते हैं।  लेकिन एक दुसरे के प्रति अपने मन में सच्चा प्यार रखिये इस प्यार के लिए आपको किसी एक दिन ( 14 February ) का इंतज़ार करने की जरुरत नहीं आप हर दिन प्यार करिये और एक दूसरे की क़द्र करिये । आशा है कि Valentine Day क्यों मनाया  जाता है आपको इसके पीछे की कहानी पता चल गयी होगी।

Share post, share knowledge

One thought on “क्यों मनाया जाता है Valentine Day जरा सच जान लो”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *