Barcode क्या है और कैसे काम करता है ?

2 Dimensional Barcodes

बारकोड ( Barcode ) किसी उत्पाद के बारे में आंकड़े या सूचना को लिखने का एक तरीका है। यह बारकोड किसी उत्पाद के बारे में पूरी जानकारी जैसे उसका मूल्य, उसकी मात्रा, किस देश में बना, किस कंपनी ने बनाया आदि दिया गया होता है। बारकोड को  ऑप्टिकल स्कैनर (optical scanners) की सहायता से पढ़ा जा सकता है जिन्हें बारकोड रीडर (barcode readers) भी कहते हैं।

जब आप किसी भी स्टोर से कोई आइटम खरीदते हैं, तो आपको अलग-अलग नंबरों की भिन्नता के साथ पतली, काली रेखाओं के साथ एक लेबल दिखाई देगा। यह लेबल तब कैशियर द्वारा स्कैन किया जाता है, और आइटम का विवरण और मूल्य आटोमेटिकली स्क्रिन पर आते हैं। इसी को बारकोड कहा जाता है, और इसका उपयोग उन छोटी काली रेखाओं की चौड़ाई के आधार पर डेटा और इनफार्मेशन को पढ़ने के लिए किया जाता है।

क्या है बारकोड का इतिहास ?

आधुनिक बारकोड नॉर्मन जॉसेफ वुडलैंड तथा बर्नार्ड सिल्वर नामक दो वयक्तियों द्वारा विकसित किया गया। 1959 के दशक के दौरान रेलमार्ग गाड़ियों पर नजर रखने के लिये डेविड कोलिन्स ने एक प्रणाली विकसित की जिसमें पहली बार बारकोड का इस्तेमाल किया गया। समय के साथ 1969 में बारकोड के विकास की ओर अनेक कार्य किये गए तथा साल 1974  में ओहियो के ट्रॉय मार्श के सुपरमार्केट में पहला UPC स्कैनर लगाया गया । Wrigley’s नामक उत्पाद के पैकेट में पहली बार बारकोड स्थापित किया गया ।

Barcode कितने प्रकार के होते हैं ?

मुख्य रूप से दो प्रकार के होते है –

1. रेखाकार बारकोड (Linear Barcode) या 1 Dimensional बारकोड –

Barcode क्या है और कैसे काम करता है ?

लाइनर बारकोड/रेखाकार बारकोड. इन बारकोड को One डाइमेंशनल बारकोड के नाम से भी जाना जाता है। 1D बारकोड यूपीसी कोड की तरह होते हैं। 1D बार कोड का उपयोग सामान्यत दैनिक जीवन में साबुन, पेन इत्यादि में किया जाता है।

2. द्विबिमीय बारकोड (2 Dimensional Barcodes) या 2D बारकोड (इसे QR कोड के नाम से भी जाना जाता है) –

2 Dimensional Barcodes

Two डाइमेंशनल बारकोड/द्विमीय बारकोड अथवा इन्हें QR कोड स्केनर के नाम से भी जाना जाता है। यह बारकोड नई तकनीक से बने हैं जिनका आपने कई डिजिटल पेमेंट एप जैसे पेटीएम में देखा होगा। 2D बारकोड में 1D बारकोड की तुलना में अधिक जानकारी स्टोर की जा सकती है। तथा इसे आसानी से स्कैन किया जा सकता है। 2D बारकोड का चलन तेजी से बढ़ रहा है क्योंकि इन बारकोड्स को हम स्मार्टफोन से भी आसानी से स्कैन कर सकते हैं।

Barcode कैसे काम करता है ?

किसी कंपनी में विविध प्रकार के सामानों का बिल बनाने के लिए कैश काउंटर में बैठा व्यक्ति सामान को ऑप्टिकल स्कैनिंग की प्रक्रिया से गुजारता है। यह ऑपटिकल स्कैनर उसी कंप्यूटर से कनेक्ट होता है जिस कंप्यूटर से हमें खरीदे गए उत्पाद के बिल की पर्ची प्राप्त होती है। दरअसल किसी प्रोडक्ट में प्रिंटेड बारकोड के ऊपर स्कैनर के गुजरते ही प्रोडक्ट के बारे में कंप्यूटर पूरी जानकारी देता है। तथा इस प्रक्रिया द्वारा कंप्यूटर को उस प्रोडक्ट से जुड़ी जानकारी प्राप्त होती है। कंप्यूटर हमें बिल के रूप में प्रोडक्ट की जानकारी देता है।

यहाँ हमारा यह जानना जरूरी है कि बारकोड में मुख्यतः 5 जोन (Zone) होते हैं। जिसमें क्विट जोन, स्टार्ट जोन, स्टार्ट करैक्टर, डाटा कैरेक्टर तथा स्टॉक कैरेक्टर शामिल है।

इसके साथ ही बारकोड मुख्यतः चार प्रकार के होते हैं. जिनमें पेन स्कैनर, लेज़र स्कैनर, CCD (Charge Coupled Device) स्कैनर तथा 2D कैमरा स्कैनर होते हैं. प्रत्येक बार कोड की शुरुआत स्पेशल कैरक्टर के साथ होती है, जिसे स्टार्ट कोड कहा जाता हैं। स्टार्ट कोड बारकोड स्कैनर को को प्रोडक्ट के शुरवाती जानकारी के बारे में बताता है तथा स्टॉक कोड बारकोड स्कैनर को प्रोडक्ट के आखिरी चरण के बारे मे बताता है।

बार कोड स्कैनर (Bar Code Scanner) –

बार कोड स्कैनर एक Electronic Device है, इसमें कोड को रीड करने के लिए कैमरे का उपयोग किया जाता है, इस कैमरे के लेंस द्वारा प्रकाश को डाला जाता है जिसमें कोड के खानों की सूचना कम्प्यूटर तक पहुंचाई जाती है | स्कैन होने के बाद कोड में दी गयी सूचना कम्प्यूटर में सेव हो जाती है ।

विभिन्न देशों के बारकोड क्या हैं ?

I. 890: भारत
II. 00-13: संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा
III. 30-37: फ्रांस
IV. 40-44: जर्मनी
V. 45, 49: जापान
VI. 46: रूस
VII. 471: ताइवान
VIII. 479: श्रीलंका
IX. 480: फिलीपींस
X. 486: जॉर्जिया
XI. 489: हांगकांग
XII. 49: जापान
XIII. 50: यूनाइटेड किंगडम
XIV. 690-692: चीन
XV. 70: नॉर्वे
XVI. 73: स्वीडन
XVII. 76: स्विट्जरलैंड
XVIII. 888: सिंगापुर
XIX. 789: ब्राजील
XX. 93: ऑस्ट्रेलिया

इस प्रकार ऊपर दी गयी जानकरी के आधार पर आप किसी भी उत्पाद के बारकोड को देखकर यह पता लगा सकते हैं कि कौन सा उत्पाद किस देश में बना है ।

आशा करता हूँ कि आपको Barcode क्या है और कैसे काम करता है ? इन सबके बारे में पूरी जानकारी मिली होगी अगर आपका कोई सवाल हो तो नीचे comment में जरूर लिखें। और ऐसे ही अन्य जानकारी से परिपूर्ण पोस्ट आप Hindish.com पढ़ सकते हैं –


Google Drive क्या है

RDP ( Remote Desktop Protocol ) क्या है जानिए विस्तार से

अपनी फोटो को Painting में कन्वर्ट करें इन 4 वेबसाइट से

बैकलिंक्स क्या होते हैं | What are Backlinks

Cloud computing क्‍या है | What is Cloud computing ?

Roz dhan app ऑनलाइन पैसे कमाने का बढ़िया तरीका 

Bootstrap क्या होता है | What is bootstrap

Share post, share knowledge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *