इन्टरनेट कुकीज (internet cookies) क्या है | What is internet cookies in hindi

इन्टरनेट कुकीज (internet cookies) क्या है | What is internet cookies in hindi

दोस्तो , आजकल हर कोई इन्टरनेट यूज़ करता है और धीरे धीरे इन्टरनेट उसे की रफ़्तार हमारे इंडिया में बढती जा रही है। इसलिए बहुत सारे लोग  Internet के बारे में जो छोटी-छोटी जानकारिय हैं उनको जानना चाहते हैं। इनमे से इन्टरनेट से जुड़ा हुआ एक शब्द है इन्टरनेट कुकीज (cookies)।  और आज मैं आपको इसी के बारे में बताने वाला हूँ कि इन्टरनेट कुकीज (internet cookies) क्या है | What is internet cookies in hindi ताकि आप लोब भी सेफ ब्राउज़िंग कर सके। तो चलिए अब जानते हैं इन्टरनेट कुकीज (internet cookies) क्या है और इसके क्या फायदे और क्या नुक्सान हैं कैसे काम करता है ।

इन्टरनेट कुकीज (internet cookies) क्या है |


दोस्तों यह बात तो हम सभी को पता है, कि Internet चलाने के लिए हमको किसी  browser  की जरुरत पड़ती है जैसे  Google Chrome, Mozilla Firefox,  Internet Explorer हो या फिर UC browser ,  तो  जब भी हम इन्टरनेट चलाते हैं । तो ब्राउज़र हमारी सारी activities  को रिकॉर्ड करता रहता है, कि हम किस वेबसाइट पर गए, किस वेबसाइट पर कितना टाइम्स स्पेंड किया, कौन सा पेज कितनी देर तक देखा ,इन्टरनेट पर किन शब्दों को सर्च किया ,तो browser इन सारी information को कंप्यूटर की Hard Drive में फाइल एक्सटेंशन ( File Extension ) .txt  के रूप में save कर लेता है ,और ब्राउज़र द्वारा सेव की गई इस .txt फाइल को ही इन्टरनेट कुकीज (internet cookies) कहते हैं ।

इन्टरनेट कुकीज इन्टरनेट कुकीज (internet cookies) के प्रकार 

  • सेशन कुकीज ( session cookies )
  • परसिस्टेंट कुकीज ( persistent cookies )
  • सिक्योर कुकीज ( secure cookies )
  • एचटीटीपी ओनली कुकीज ( HTTP only cookies )

अब जानते हैं कि ये  कुकीज क्यों save की जाती हैं और इनका काम क्या होता है ?

इन्टरनेट कुकीज (internet cookies) क्या काम करती हैं 


इन्टरनेट कुकीज (internet cookies) को सेव करने से यूजर का टाइम और डाटा दोनों बचता है , अब आप सोच रहे होंगे ये कैसे होता है , तो मैं आपको बताता हूँ ।

जब भी हम इन्टरनेट चलाते हैं तो वेब ब्राउज़र द्वारा जो भी कुकीज (cookies) सेव की गयी होंगी, उनसे सर्वर को ये पता चलेगा की आपको क्या पसंद है, आप को किस चीज में जायदा इंटरेस्ट है, तो आप जो भी सर्च करेंगे ब्राउज़र आपको उसी तरह के रिजल्ट ला के दे देगा । ताकि जो आपके लिए बेस्ट हो recomended हो वही आप तक पहुचे जिस से आपका टाइम भी कम लगेगा और अगर आपको डायरेक्ट वही चीज मिल जाये जिसको आपने सर्च किया । तो इस से आपका डाटा भी कम लगेगा और टाइम भी, और किसी पेज की कूकीज आपके लिए और भी फायदेमंद होती है आपको एक example के द्वारा बताता हूँ ।

मान लीजिये आप flipkart पर गए और अपने लिए कोई एक red कलर की T-shirt देखि, उसके बाद चेक किया किया की रेड कलर में कौन  लाइट रेड लूं या डार्क रेड और जितनी भी रेड कलर की टी शर्ट थी अपने उनको देखा ढूंडा price चेक किया और फिर अचानक आपको कोई काम आया और अपने इन्टरनेट बंद कर दिया और अपने काम में लग गए ।

तो जब भी आप दुबारा से flipkart वेबसाइट पर जायेंगे तो  flipkart वेबसाइट पर आपको फ्रंट पेज पर टी शर्ट ही दिखाएगी । जो भी कलर अपने देखा था, जिस कीमत की भी देखी थी ,उसी से रिलेटेड शर्ट आपको देखने को मिलेंगे, अगर आप मोबाइल search करते तो आपको उसी से रिलेटेड मोबिएल दिखाए जाते जो अपने सर्च किया था।  जिस प्राइस  रेंज के मोबाइल अपने सर्च किये थे ।

और सिर्फ इतना ही नहीं जब आप flipkart से बाहर किसी दूसरी वेबसाइट पर जायेंगे तो जो google AdSense के ऐड होते हैं । वहाँ भी आपको टी-शर्ट से ही सम्बंधित विज्ञापन (related advertisments ) दिखाई देंगे । क्योंकि ब्राउज़र आपकी हर एक activiti और वेबसाइट पर किया जाने वाला एक-एक क्लिक को रिकॉर्ड कर रहा है, कि आप क्या सर्च कर रहे हैं, आपको क्या पसंद है,  तो इस तरह से इन्टरनेट कुकीज (internet cookies) हमारी हेल्प करती हैं, उन चीजो को ढूंडने में जो acutally हमको चाहिए ।

इन्टरनेट कुकीज (internet cookies) के फायदे 


इन्टरनेट कुकीज (internet cookies) के फायदे तो शायद आपको पता ही चल  गया होगा उपर but फिर भी point to point समझने में और आसानी होगी इन्तेरेंट कूकीज निम्न फायदे हैं ।

  1. सबसे पहले तो हमरा टाइम और डाटा बचाती हैं।
  2. जब भी हमारा ब्राउज़र अचानक बंद हो जाता है तो दुबारा ब्राउज़र ओपन करने पर उसी पेज को resotre कर देती हैं ।
  3. जो प्रोडक्ट एक्चुअली हमको चाहिए वो हम तक पहुचने की कोशिश करती है।
  4.  कसी भी वेबसाइट पर अगर हम लॉग इन करते हैं तो हमारी Login ID सेव करके रखती हैं ताकि जब हम दुबारा उस वेबसाइट पर जाये तो हमें दुबारा से  user ID और पासवर्ड न डालना पड़े और बस लॉग इन पर क्लिक करते ही लोग इन हो जाये। और अपने यह आप्शन फेसबुक में भी पाया होगा जब आपको एक बार सेव कर लेते हैं, तो बार बार नहीं डालना पड़ता फिर।
  5. इनका साइज़ बहुत कम यानी 4kb से भी कम होता है इसलिए जयादा स्पेस नहीं लेती ।

इन्टरनेट कुकीज (internet cookies) के नुकसान


इन्टरनेट कुकीज (internet cookies) के नुकसांन तो ज्यादा नहीं है, बस एक ही नुक्सान है जो अगर हो गया तो, सिर्फ उसी एक नुक्सान से हमको बहुत बड़ा नुकसान हो जाता है ।

  1. सबसे पहली बात तो ये है की एक तरफ हमें लॉग इन करने के लिए one click लॉग इन का बेनिफिट तो मिल रहा है, क्योंकि ID pasword सेव है लेकिन अगर यह इनफार्मेशन लीक हो गयी तो फिर हमारा ID और पासवर्ड दुसरो को या हैकर को पता लग सकता है ।
  2. सोशल मीडिया का तो उतना नुक्सान नहीं होगा पर अगर अपने कही ऑनलाइन शौपिंग की और वहा अपने अपना कार्ड नंबर और expiry डेट इंटर की है। तो फर ऐसे में आपके पैसे खर्च किये जा सकते हैं ।
  3. जिसके कंप्यूटर में कम स्पेस होगा उसके लिए बहुत सारी कुकीज कंप्यूटर स्लो होने का कारण भी बन सकती है ।
  4. Cookies सभी Browser पर निर्भर करती है जैसे कि मान लो आप क्रोम ब्राउज़र का इस्तेमाल करते हैं। तो आप उनकी कुकीज को दूसरे ब्राउज़र जैसे इंटरनेट एक्सप्लोरर, फ़ायरफ़ॉक्स में इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे।

इन्टरनेट कुकीज (internet cookies) को browser में  block/ublock और clear कैसे करें करें 


सबसे पहले मैं आपको बताता हूँ की ब्राउज़र में कुकीज को इन्टरनेट चलने से पहले ही ब्लाक कैसे करें –

  1. सबसे पहले आप top right side  में दिए गए तीन डॉट (menu) पर क्लिक करे ।
  2. फिर settings पर क्लिक करें ।
  3. फिर जो पेज खुलेगा उसमें सबसे नीचे advanced पर क्लिक करें ।
  4. advanced में content setting पर क्लिक करे ।
  5. content setting में Cookies पर क्लिक करे  ।
  6. Cookies आपको तीन optioins मिलेगे जिनको आप enable और disable  कर सकते हैं तीनो को On करेंगे तो कुकीज रिकॉर्ड होगी और Off कर दें तो cookies record नहीं होगी ।

इन्टरनेट कुकीज (internet cookies) क्या है | What is internet cookies in hindi

अगर आपको कुकीज क्लियर (cookies clear) करनी है तो आप Ctrl=H दबाएँ तो जो पेज आपके सामने ओपन होगा वहां पर आपको राईट साइड में Clear browsing data करके एक आप्शन दिखाई देगा। उस पर क्लिक करे और फिर क्लियर ब्राउज़िंग डाटा पर क्लिक दे तो आपकी सारी history, cookies, cache सब clear जायेंगे ।

Final words 


तो दोस्तों कैसा लगा आपको इन्टरनेट कुकीज (internet cookies) क्या है | What is internet cookies in hindi में पढ़कर और कुकीज़ (cookies) के बारे में जानकर अगर जानकारी अच्छी लगी तो दोस्तों के साथ शेयर करें और सबका ज्ञान बढ़ाएं । और अगर कोई सवाल हो आपके मन में तो आप   हमें नीचे कमेंट में पूछ सकते हैं ।

 

About kailash

मेरा नाम कैलाश रावत है और मैं hindish.com का एडमिन व लेखक हूँ और इस ब्लॉग पर निरंतर हिन्दी में ,टेक,टिप्स,जीवनियाँ,रहस्य,व अन्य जानकारी वाली पोस्ट share करता रहता हूँ, मेरा मकसद यह है की जैसे बाकि भाषाए इन्टरनेट पर अपनी एक अलग पह्चान बना रही हैं तो फिर हम भी अपनी मात्र भाषा की इन्टरनेट की दुनियां में अलग पहचान बनाये न की hinglish में ।

Share post, share knowledge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *