वर्चुअल रियलिटी क्या है | Virtual reality technology hindi

वर्चुअल रियलिटी , Virtual reality in hindi

क्या आपने कभी वर्चुअल रियलिटी ( virtual reality )के बारे में सुना है या जाना है ? अगर नहीं तो आप बिलकुल सही जगह पर आये हो। क्योंकि यहाँ मैं अपको बताने वाला हूँ की virtual reality technology क्या है ?

वर्चुअल रियलिटी | virtual reality 


virtual reality एक ऐसा अनुभव है जो हमें हकीकत सा लगता है। लेकिन असल में वह हकीकत नहीं होता बल्कि
एक screen पर चल रही Film होती है और हमें लगता है सब कुछ हमारे ही सामने हो रहा है। 

वर्चुअल रियलिटी , Virtual reality in hindi
वर्चुअल रियलिटी देखता आदमी

उदहारण के तौर पर कहूँ तो मानो एक Movie है जिसमे एक बर्फीला सीन है तो अगर आप virtual reality headset पहन कर कोई 360 degree supported Film देख रहे हैं तो आपको ऐसा लगेगा जैसे आप भी उस बर्फीली जगह पर ही खड़े हैं और आपके उपर ही बर्फ गिर रही है। यदि आप बायीं तरफ घूमते हैं, तो आपको बायीं तरफ का ही सीन दिखाई देगा । जैसे आपको असल में दिखता है। और यदि आप दायीं तरफ मुड़ते हैं, तो आपको दायीं तरफ का ही सीन दिखाई देगा जैसा real में दिखता है।

वर्चुअल रियलिटी कैसे काम करती है ?


वर्चुअल रियलिटी को अनुभव करने के लिए आपको एक gadget जिसको हम virtual reality headset कहते हैं को पहनना होगा
जिसमे एक प्लास्टिक या Fiverr cover, देखने के  लिए Lens, और आवाज सुनने के लिए headphone लगा होता है। इसके
लिए ख़ासतौर पर 360 degree film शूट की जाती है। जिस से चारो तरफ का नज़ारा दिखाई दे।

वर्चुअल रियलिटी हेडसेट में Video Play करने के लिए दो तरीको का स्तेमाल किया जाता है।

1.  VR Headset – इस तरीके का स्तेमाल खास तौर पर gaming के लिए या किसी  Live Event  देखने के इए किया जाता है। जिसमें हमें किसी भी third party screen की जरुरत नहीं होती यह VR headset में ही होती है। बस हमको इसमें किसी  लोकल नेटवर्क के जरिये विडियो भेजना होता है।

यह भी पढ़ें – Internet of things क्या है 

2.  Mobile screen – आपको आजकल Internet पर बहुत सारी 360 डिग्री सपोर्ट करने वाली फिल्म मिल जाएँगी जिसको हम अपने मोबाइल में download करके और मोबाइल फ़ोन को अपने virtual reality headset के lens से सामने रखते हैं।
इसके लिए VR headset खासतौर पर design किये गए होते हैं ताकि वह मोबाइल फ़ोन के feature को समझ सके
फिर आपके मोबाइल में लगा हुआ gyroscope sensor भी काम करता है। और VR headset को यह बताता है कि
आप किस दिशा में और कितना डिग्री घूम रहे हैं, और कितना हिल रहे हैं, और उसी के अनुसार
VR headset आपको फिल्म दिखाता है। और आपको बिलकुल भी यह महसूस नहीं होने देता है कि आप फिल्म देख
रहे हैं बल्कि आपको ऐसा महसूस होता कि screen पर जो कुछ भी चल रहा है वह आपके सामने ही हो रहा है।

वर्चुअल रियलिटी की शुरुवात 


Virtual Reality किस शुरवात 1980 के दशक में अमेरिका के Jaron Lanier नाम के व्यक्ति ने की थी। इस आभासी दुनिया को
लोगो के सामने लाने में उनका काफी बड़ा योगदान है हम उनको V.R. technology का जनक भी कह सकते हैं।
Jaron Lanier ने 1985 में VPL Research कंपनी की स्थापना भी की। जहां से उन्होंने बहुत सारे V.R. headset बनाये
जैसे कि the Eye Phone, the Data Glove, the Audio Sphere

यह भी पढ़े – Li-Fi क्या है ?

लेकिन तब किसी को इस Technology के बारे में ज्यादा मालूम नहीं था और लेकिन धीरे धीरे जब इसकी खासियत
लोगो के सामने आई तो लोग इसके दीवाने होने लग गये और 2010 से यह VR headset पूरी दुनिया में
famous हो गया। और आज कई तरह के वर्चुअल रियलिटी हेडसेट आपको मार्किट में और E-comers website पर आसानी से मिल जायेंगे जिनको आप आसानी से कम दाम में खरीद सकते हैं मगर इसमें देखे जाने वाले 360 Supported video content की अभी मार्किट में कमी है। लेकिन जिस तरह से हमारी Technology आगे बढ रही है उसके हिसाब से  बहुत जल्दी ही मार्किट में बहुत सारा कंटेंट उपलब्ध हो जायेगा।

Types of  virtual reality headset 


Google Cardboard –

सबसे सस्ता VR है google cardboard जो बहुत ही simple है। और कार्डबोर्ड से बना एक डिब्बा होता है जिसमे
Mobile को फिट करना होता है और फिर हाथ से पकड़ कर इसको आँखों से दूरबीन की तरह देखना पड़ता।
है यह आपको E-Commerce वेबसाइट पर आसानी से मिल जायेगा और इसकी कीमत भी 150 रुपये से 300 रुपये तक है ।

Plastic VR Headset –

इनको हम Mid range वर्चुअल रियलिटी हेडसेट कह सकते हैं। क्योंकि ये न तो ज्यादा महंगे होते हैं और न
सस्ते और facilities भी इनमे मीडियम क्लास की ही ही मिलती है यह प्लास्टिक से बना हुआ एक frambox होता है। और इसमें lens भी फिट होता है जो virtual reality का मज़ा देता है, इसके आगे लेंस के सामने Mobile को फिट करने के लिए जगह दी गयी होती है वहाँ पर mobile फिट करके पीछे की तरफ लगे बैंड से इसे सिर पर इस तरह बांधा जाता है  लेंस हमारी आँखों के सामने रहे और हमें  हाथ से पकड़ने की जरुरत भी न पड़े। इस रेंज में कुछ पोपुलर VR हेडसेट ANT VR,  AuraVR, Procus VR आदि हैं। इनकी कीमत 1500 रुपये से 3500 रुपये तक है जो आपको Flipkart, amazon पर आसानी से मिल जायेंगे ।

Gear VR –

अगर आपको सबसे Best quality का VR हेडसेट चाहिए तो फिर आपको Gear VR option ही choose करना चाहिए।
क्योंकि ये Affordable तो हैं ही लेकिन इनमे अपको आपकी जरुरत की हर चीज मिल जाती है ।

यह भी पढ़े – Bitcoin क्या है जाने हिंदी में 

इसको अगर आप घंटो तक भी पहन के रखोगे तो आपको ज्यादा तकलीफ नहीं होगी।क्योंकि इसमें ग्रिप अच्छी तरह  बनायीं जाती है और लेंस भी high quality के लगे होते हैं जिस से आप virtual reality का अच्छा ख़ासा मज़ा ले सकते हैं। इन virtual reality के हेडसेट को बड़ी बड़ी जानी मानी कंपनिया डिजाईन करती हैं उनमे कुछ पोपुलर हैं जैसे –

  1. Samsung Gear VR
  2. Sony PS VR
  3. HTC VIVE
  4. Valve VR

इनकी कीमत 8000 से 12000 रुपये तक होती है ।

ओक्यूलस रिफ्ट (Oculus Rift) 

यह अब तक का सबसे महंगा और सबसे premium quality का VR headset है। जिसकी कीमत 20,000 rs से 40,000 रुपये तक है
नाम है ओक्यूलस रिफ्ट (Oculus Rift) इसमें आपको बेस्ट क्वालिटी के लेन्स के साथ साथ बेस्ट Sound और gyroscope sensor
भी मिलता है।  जिस से virtual reality का मज़ा कइ गुना मज़ेदार हो जाता है।

इस कंपनी की शुरुवात 2012 में की गयी थी। और 2016 तक आते आते यह कंपनी बहुत successful हो गई।
और इसकी अपार सफलता के कारण मार्च 2017 में Facebook ने इस कंपनी को $2 Billion में खरीद लिया । 

तो दोस्तों यह थी वर्चुअल रियलिटी (virtual reality) के बारे में जानकारीआपको कैसी लगी कमेन्ट में जरुर बताये और दोस्तों के साथ भी share करे और ऐसी ही जानकारी पढ़ने के लिए विजिट करते रहे hindish.com वेबसाइट पर ।

Share post, share knowledge

2 thoughts on “वर्चुअल रियलिटी क्या है | Virtual reality technology hindi”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *