Swing Trading क्या है जानिए विस्तार से ?

Swing Trading क्या है
जब किसी शेयर को खरीदकर कुछ दिनों से लेकर कुछ हफ्तों तक रखकर बेच दिया जाता है तो इसे Swing Trading  कहते है।  Swing Trading में Shares की Delivery ली जाती है इसलिए इसे Delivery Based Trading भी कहते है।  स्विंग ट्रेडिंग में पोजीशन को Overnight Carry किया जाता है जिसका अर्थ है की Swing Trading में पोजीशन को कम से कम एक रात के लिए रखा जाता है आज खरीद कर कल बेच दे या 1 हफ्ते बाद बेच दे या 1 महीने बाद बेच दे तीनों ही कंडीशन में इस ट्रेड को Swing Trade कहेंगे।
स्टॉक मार्केट में Swing Trading को अलग-अलग नाम से भी जाना जाता है जैसा कि  Delivery based trading,  Short term trading,  Positional trading यह सभी नाम पर भी Swing Trading को कहा जाता है। Swing traders  पिछले दिनों में मार्केट या स्टॉक की चाल के आधार आने वाले दिनों में होने वाले रुझान को समझने का प्रयास करते हैं। स्विंग ट्रेडिंग में कुछ दिनों से लेकर ज़्यादातर 3 -4 सप्ताह तक ट्रेडर को सजग रहना होता है। स्विंग ट्रेडर सपोर्ट और रेजिस्टेंस को ध्यान में रखकर सौदा करता है और किसी भी स्टॉक का प्राइस सीधे एक दिशा में नहीं चलता वह बीच में एक बार रुकता जरूर है फिर थोड़ा रिवर्स लेकर ऊपर या नीचे जाता है। इसलिए स्विंग ट्रेडर का टारगेट प्राप्त करने के चान्सेस बढ़ जाते हैं।

Swing trading vs intraday trading –

Intraday Trading में अगर आप किसी Stock को आज खरीदते हो तो आपको उस Stock को  किसी भी हाल में आज ही बेचना पड़ेगा , यानी आप जिस दिन स्टॉक को खरीदोगे Profit, loss जो भी हो उसी दिन स्टॉक को बेचना होगा। ओर अगर आप नहीं बेचोगे तो जिस भी ब्रोकर कंपनी से अपने शेयर खरीदे है वो 3:00 PM से 3:20PM के बीच में अपने आप ही आपके शेयर Square Off  कर देगी यानी बेच देगी,  क्योंकि यह इंट्राडे का नियम है और सभी  ब्रोकर कंपनी इस नियम का पालन करती हैं।

वहीं Swing Trading में अगर आप फंडामेंटली अच्छे कंपनी को खरीदते हो तो आप अपने risk को बहुत ही ज्यादा कम कर सकते हो। यानी आज खरीदा हुआ share अगर आज अच्छा Performs नहीं करता है तो आप उस स्टॉक को कुछ दिन या जब तक आपकी मर्जी तब ताल होल्ड करकेअच्छा प्रॉफिट कमा सकते हैं।  Swing Trading में अगर आपको पैसा लगाना है तो आपके पास ज्यादा अमाउंट होना चाहिए किसी भी Stock को खरीदने के लिए।  क्योंकि Swing Trading में ज्यादातर Broker house Margin नहीं देता है।  जो कि एक तरफ से Trader के लिए अच्छा ही होता है।

Support and Resistance level in Swing Trading

टेक्निकल एनालिसिस की आधारशिला किसी भी स्टॉक की सपोर्ट और रेजिस्टेंस लाइन को समझना है। इसे समझकर ही सफल ट्रेडिंग रणनीति का निर्माण स्विंग ट्रेडर करते हैं। चार्ट को देखने पर एक रेट या एरिया दिखाई पड़ता है जहां से प्राइस नीचे नहीं जा पाता और उसे बाइंग का सपोर्ट मिलता है। वहीं से प्राइस ऊपर आने लगता है। एक स्विंग ट्रेडर सपोर्ट लाइन के पास उछाल पर अप साइड का ट्रेड बनाएगा और सपोर्ट लाइन के थोड़ा नीचे स्टॉप लॉस लगाएगा।

रेजिस्टेंस लेवल, सपोर्ट लेवल के विपरीत है। चार्ट में साफ दिखाई पड़ता है कि प्राइस एक रेट या एरिया में जाकर वापस आ जाता है, जिससे कीमत एक अपट्रेंड के खिलाफ वापस आ सकती है। इस मामले में एक स्विंग ट्रेडर, रेजिस्टेंस लेवल के पास या थोड़ा ऊपर उछाल आने पर एक सेल साइड की पोजीशन बना सकता है। उसका स्टॉपलॉस रेजिस्टेंस लेवल के थोड़ा ऊपर होगा।

स्विंग ट्रेडिंग के जोख़िम और फ़ायदे – Swing Trading Risk And Benefits  

Monthly Income(Monthly P&L): स्विंग ट्रेडिंग से Monthly Income कमायी जा सकती है प्रॉफिट हुआ या लोस्स ये महीने के अंत में ही पता चल जाता है

Margin: स्विंग ट्रेडिंग के लिए ब्रोकर द्वारा मार्जिन नहीं मिलता है पूरा पैसा अपनी जेब से लगाना पड़ता है इसलिए जिनके पास कम पैसा है वो स्विंग ट्रेडिंग से ज्यादा कमा नहीं सकते है आम तौर पर स्विंग ट्रेडिंग के लिए कम से कम 2 से 5 लाख रुपये की आवश्यकता होती है।

Overnight Holding Risk: स्वींग ट्रेडिंग में Overnight Holding Risk होता है कई बार किसी न्यूज़ की वजह से मार्किट Gap Up या Gap Down Open होता है जिसकी वजह से आकस्मिक लाभ या हानि हो सकती है ऐसी लाभ या हानि का पहले अनुमान नहीं लगाया जा सकता है।

Wrong Trade: स्विंग ट्रेडिंग का सबसे बड़ा नुकसान यही है की अगर ऐसे शेयर में ट्रेड ले लिया जिसमें ज्यादा मूवमेंट न हो तो आपका एक महीना बर्बाद भी हो सकता है क्योंकि स्वींग ट्रेडिंग में Share को कुछ हफ्तों तक होल्ड करके रखा जाता है।


 

 

यह भी पढ़ें –

शेयर बाजार क्या है ?

Share Market में ट्रेडिंग कितने प्रकार की Trading होती है

Future और Option क्या होता है। 

SIP क्या है हिंदी में जाने ?

10 बिज़नस आईडिया, जीरो इन्वेस्टमेंट से शुरू कर सकते हैं

10 सबसे अच्छे online business idea हिंदी में

Share post, share knowledge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *