स्टीफन हॉकिंग जीवनी | Stephen Hawking biography in hindi

Stephen Hawking
Stephen Hawking
Stephen Hawking

नाम-स्टीफन विलियम हॉकिंग

जन्म– 8 जनवरी,1942

स्थान -Oxford, England,United Kingdom

राष्ट्रीयता-ब्रिटिश

उपाधि-सैद्धांतिक,भौतिक विज्ञानी,ब्रह्मवैज्ञानिक,  Hawking radiation Penrose–Hawking theorems प्रमेय के खोजकर्ता.

स्टीफन हॉकिंग


विश्वविख्यात महान वैज्ञानिक स्टीफन विलियम हॉकिंग (Stephen William Hawking) का जन्म 8 फरवरी 1942 को ऑक्सफ़ोर्ड शहर,इंग्लैंड,UK में हुआ था। इनके पिता का नाम फ्रेंक हॉकिंग तथा माता का नाम  इसाबेल हॉकिंग है और ये दोनों ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़े थे।इनके पिता फ्रेंक एक medical research institute में medical researcher(चिकित्सा शोधकर्ता) के रूप में तथा इनकी माता इसाबेल एक सचिव का काम किया करती थी ।हॉकींग की दो छोटी बहनें, फिलिप्पा और मैरी है और एक दत्तक भाई एडवर्ड हैं।और अभी इनका निवास united kingdom में है। Hawking को 21 साल की उम्र में ही Amyotrophic Lateral Sclerosis (ALS) नामक बीमारी हो गयी थी, जो कभी ठीक नहीं की जा सकती और इसके कारण धीरे-धीरे उनके शरीर के अंगो ने काम करना बंद कर दिया और वे आज वे एक wheelchair पर बैठते हैं, और computer machine से बात करते हैं,उन्होंने अंतरिक्ष विज्ञानं के क्षेत्र में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है।यह एक हैरत की बात है कि महान खगोल शाश्त्री गलीलियो गेलीली और स्टीफन हॉकिंग का जन्मदिन एक ही तिथि को आती है ।

बचपन |childhood


Hawking  का परिवार पहले लन्दन के हायगेट शहर में रहता था जहाँ उन्होंने दो बेटियों को जन्म दिया था और एक पुत्र को गोद भी लिया जिसका नाम एडवर्ड था ।लेकिन द्वितीय विश्व युद्ध के कारण बहुत बमबारी होने के कारण उनके परिवार को वह खतरा महसूस हुआ और उन्होंने वह से किसी सुरक्षित जगह पर जाने का फैसला किया ,फिर उन्हें पता चला की Oxford शहर में बमबारी नहीं होती है तो वहि जा उनके लिए उचित होगा और वे दोनों Oxford चले गए जहाँ स्टीफन विलियम हॉकिंग का जन्म सलामती से हुआ ।जन्म के समय Howking  बिलकुल स्वस्थ थे और उन्हें किसी भी प्रकार की बीमारी नहीं थी ।इनके माता पिता फ्रेंक हॉकिंग तथा इसाबेल पढाई का महत्व जानते थे इसलिए उन्होंने को लंदन के अच्छे और प्रख्यात पब्लिक स्कूल में पढ़ाने का फैसला लिया था मगर बीमारी  के कारण गाव में ही पढ़ाना पड़ा ।

डोनाल्ड ट्रम्प की मजेदार जीवनी यहाँ पढ़ें

शिक्षा|Education


hawking ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा Trinity Hall, Cambridge से पूरी की ,फिर उन्होंने hight school की शिक्षा St Albans High School से और undergraduation University of Oxford से प्रथम श्रेणी से व Ph.d Cambridge University से सम्पन्न की ।

बचपन में वे पढाई लिखाई  में उतने अव्वल नहीं थे मगर जिस मकसद से hawking का जन्म हुआ था उसमे वे अव्वल ही थे ,कहने का मतलब यह है की उन्हें बचपन से गणित विषय में बहुत ज्यादा रूचि थी और घडियो को जोड़ना तोडना उनके पेंच पुर्जे अलग अलग करके फिर से बना देना कर देते थे और उनको इस चीज में बहुत इंटरेस्ट भी था मगर उस समय गणित पढने वालो के पास मास्टर के अलावा और कोई नौकरी होती नहीं थी इसलिए उनके पिता फ्रैंक चाहते थे की वो गणित छोड़ कर बिज्ञान पर ज्यादा ध्यान दे और बड़े होकर एक अच्छे doctor बने ।फिर howking ने भी अपनी पिता की बातो को ध्यान में रखा और गणित के साथ रसायन विज्ञानं और भौतिक विज्ञानं में ही ज्यादा ध्यान देना शुरू कर दिया । और इस तरह उन्होंने 17  साल की उम्र में ही oxford university में दाखिला ले लिया ।

संदीप माहेश्वरी की प्रेरणादायक कहानी

मशरूम लेडी दिव्या रावत के बारे में

होव्किन को शुरुवाती सालो में पढाई में उतनी ज्यादा रूचि  नहीं थी मगर जैसे जैसे उम्र बढती गयी समझ भी बढती गयी  वह ध्यान लगाकर पढने लगे ।वह किताबो को पढने ज्यादा समझने की कोशिश करते थे और हर चीज के नोट्स बनाया करते थे नोट्स बनांये के बाद वे किताबो में गलतियाँ निकलते थे जिनकी सोच यही से पता लग गयी थी की hawking अब कहाँ जाने वाले थे ।जब वे अपनी graduation के final year में पहुंचे तो उन्होंने अपना प्रमुख विषय कोस्मोलोजी(Cosmology) को चुना ।Cosmology में ब्रह्माण्ड बिज्ञान के बारे में पढाई की जाती है । अब उन्होंने सोचा की वे आगे की पढाई यानी Ph.D Cambridge University से करेंगे और और अपने graduation के आखिर साल में जब उन्होंने Cambridge University में admission लेने के लिए apply किया तो उनको कहा गया की अगर वे Cambridge University में दाखिल लेना चाहते हैं तो उन्हें first division से पास होना होगा । इस तरह hawking मेंहनत करने में जुट गए और आखिर कार उन्होंने oxford university से  first division से अपनी graduation complete की और उनको Cambridge University में 1962 में दाखिला मिल गया ।मगर अब यहाँ hawking के लिए एक तरफ से बहुत बुरा(disability) और एक तरफ से अच्छा(scientist) समय शुरू हुआ।

अपंगता |Disability


Cambridge University में दाखिला तो मिल गया था लेकिन उनकी शारीरिक हालत ख़राब होती जा रही थी जिसके चलते यहाँ उनके पाठ्यक्रम का पहला साल अच्छा नहीं निकले उनको छोटे छोटे काम करने में भी दिक्कते आती रहती थी । जब वे 21 साल की उम्र में जब वे घर छुट्टियाँ मनाने आये थे तो अचानक सीढियों से गिर पड़े और बेहोश हो गए तो उनको डॉक्टर के पास ले जाया गया, मगर किसी ने उस वक़्त इस बात को seriously नहीं लिया और यह कहकर  बात को ऐसे ही टाल दिया गया की यह कमजोरी की वजह से ऐसा हुआ।मगर जब यह बार बार होता रहा तो फिर उनको बड़े doctors के पास ले जाया गया जहाँ doctors को यह पता लगा की उनको कोई Amyotrophic Lateral Sclerosis (ALS) नाम की बीमारी है और यह कभी न ठीक होने वाली बीमारी है जिसमें आदमी सिर्फ मानसिक तौर पर ठीक रह सकता है बाकी शारीरिक तौर पर इंसान के सभी अंग काम करना बंद कर देते हैं कह सकते हैं की इंसान एक जिंदा लाश बन जाता है मगर मानसिक तौर पर इंसान स्वस्थ रहता है और stephen hawking के साथ भी यही हुआ ।

भाविश भाटिया ने  कैसे खड़ी की करोडो की कंपनी

शादी और कैरियर|Marriage and Carrier


साल 1965 में उनकी मुलाकात नए साल के जश्न में Jane Wilde से हुयी दोनों एक दूसरे को बहुत  पसंद आ गए और उन्होंने शादी कर ली। बीमारी के शुरवाती दौर में तो वो अपना काम खुद किया करते थे लेकिन बाद में उनके शरीर के अंगो ने पूरी तरह से काम करना बंद कर दिया था  और 1995 में उनकी पहली पत्नी जेन वाइल्ड ने उन्हें तलाक दे दिया। तलाक का कारन यह माना जाता है की Jane Wilde धार्मिक थी और भगवान में यकीन रखती थी वहीं दूसरी तरफ Stephen Hawking भगवान पर यकीन नहीं रखते और कहते हैं God doesn’t exist और इसी नास्तिकता के कारण बहुत बार दुनिया ने उनको भला बुरा भी कहा। फिर उन्होंने दूसरी शादी इलियाना मेसन(Ileana Mason) से की और 2006 में उन्होंने भी Hawking को में तलाक दे दिया। लेकिन मानना तो पड़ेगा की Stephen Hawking ने अपनी जिंदगी में आने वाले इस ग़म का ऐसे रुख मोड़ा की कोई आम इंसान होता तो वह ऐसी बीमारी को सोच सोच कर ही मर जाता लेकिन ने ऐसी हालत में भी अपनी पीएचडी की पढाई जारी रखी खगोल शाश्त्र में अपना शोध जारी रखा और दुनिया को आपेक्षिता का सिद्धांत और पुंज सिद्धांत मिलाकर एक महाएकीकृत सिद्धांत दिया। आपकी जानकरी के लिए बता दें कि हॉकिंग का IQ 160 है ,जो किसी जीनियस से भी कहीं ज्यादाहै।Stephen Hawking 1979 से 2009 तक वे कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में गणित के प्रोफेसर रह चुके हैं और रॉयल सोसाइटी ऑफ़ आर्ट्स के सम्माननीय सभासद है साथ थी साथ Epic Science Academy के जीवनपर्यंत(Lifetime) सदस्य है।उनके द्वारा एक बुक ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ़ टाइम भी लिखी गयी है जो सबसे ज्याद देर तक बिकने वाली किताबो में से एक है।

अजीत डोभाल के मिशन पढ़ें

उन्हें अब तक 12 पुरुस्कारो से नवाजा जा चुका है और वो में अंतरिक्ष की सैर भी कर चुके है जो उनको बहुत पसंद है वो कहते हैं की मैं अंतरिक्ष की सर करना चाहता हु चाहे वह मेरी मौत ही क्यों न हो जाये।

हॉकिंग आज एक टेक्नोलॉजी से लेस व्हील चेयर पर बैठते हैं और उनको कम्युनिकेशन के लिए कंप्यूटर जेनरेटेड स्पीच का स्तेमाल करना पड़ता है।

like and share

Share post, share knowledge

13 thoughts on “स्टीफन हॉकिंग जीवनी | Stephen Hawking biography in hindi”

  1. मुझे इस बात की दुःख है कि वह दुनिया को छोड़ कर चले गये।😭😯😭😯
    I MISS U😊😊

  2. Noted cosmologist of this century Stephen Hawking passed away today on 14th March 2018. He was not Noble Laureate, and my gut feeling is that Noble Committee missed the opportunity. Really he was larger than life.

  3. Well Stephen Hawkins Jesse log he apni jevan Ki sabse badi physical disabilities ko pichey karke. Apne andar ki atmashakti ka sahi pradarshan Kar dikhaya hai. Unhoney Ase lakho disables ko Apne prernadayak Jeevan se logo Ko paribhashit kiya hai.
    Worlds legend Stephen hawkin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *