राजस्थान के भानगढ़ किले का रहस्य क्या है

राजस्थान के भानगढ़ किले का रहस्य क्या है

भूत प्रेत की कहानियां पढने और सुनने में तो बहुत रोमांचक लगती है । लेकिन जरा सोचिये ऐसा ही वास्तव में आपके साथ घटित होने लगे तो क्या आप उसे रोमांचित कहेंगे या डर के मारे भागने लगेंगे किसी परलौकिक शक्ति की प्रेत आत्मा का आस पास होने का अहसास भी शरीर में एक अजब सी सिरहन पैदा कर देता है। तो ज़ाहिर सी बात है जब आपका सामना किसी ऐसी ताकत से हो जायेगा तो आपका रोमांच वही दम तोड़ देगा। वैसे तो कहने को बहुत सी ऐसी जगहें हैं जहाँ माना जाता है कि आत्माओं का वास है कोई वीरान और अकेला घर हो या एक लम्बे समय से खाली पड़ी इमारत इसके अलावा वह स्थान जहाँ किसी दुर्घटना की वजह से किसी की जान गयी हो उसको भी हम योग्य नहीं मानते कि हम वहां जाएँ । क्योंकि ऐसा माना जाता है कि जिन लोगों की जान किसी दुर्घटना में जाती है उनकी आत्मा को मुक्ति नहीं मिलती और वे भटकते रहते हैं । कहने को तो बहुत सी जगहें Haunted या भूतिया हैं जहां प्रमाणिक तौर पर कुछ न कुछ तो गड़बड़ जरुर है। और उनमे से एक है राजस्थान का भानगढ़ किला  ।

राजस्थान के भानगढ़ किले का रहस्य क्या है

राजस्थान के भानगढ़ किले का रहस्य क्या है ?

राजस्थान का भानगढ़ किला वह स्थान है जिसे पुरातत्वा वैज्ञानिको ने सामान्य नहीं माना है । तभी तो राजस्थान की State Government द्वारा भानगढ़ किले के चारो तरफ बहार चेतावनी के तौर पर एक Board लगा हुआ होता है। जिसमें साफ़ साफ़ लिखा हुआ है कि सूर्य उदय होने से पहले और सूर्यास्त के बाद कोई भी इस किले में नहीं रुकेगा और न ही आयेगा।  तो आखिर भानगढ़ में ऐसा क्या है जो आम लोगों को वहां रात के समय जाने से रोकता है अगर कुछ है तो उसके पीछे क्या कारन है ? हालाँकि पुख्ता तौर पर कोई भी वहां घटने वाली दुर्घटनाओ का कारण नहीं बता पाया लेकिन स्थानीय लोगों के बीच प्रचलित हैं। कुछ कहानियां जो साबित करती है कि वहां कुछ न कुछ तो जरुर हो सकता है।

लोगों का मनना है कि बहुत समय पहले राजस्थान के भानगढ़ किले  पर रत्नावती नाम की बहुत सुन्दर राजकुमारी रहती थी । जिस पर काला जादू करने वाले तांत्रिक की कुदृष्टि थी तांत्रिक अपने जादू से राजकुमारी को वश में करके उसका शारीरिक शोषण करना चाहता था। लेकिन एक दुर्घटना के चलते अचानक उस तांत्रिक की मृत्यु हो गयी और उस तांत्रिक की आत्मा आज भी वहां भटकती रहती है। तांत्रिक के श्राप के अनुसार वह स्थान कभी भी विकसित न हो सका वहां रहने वाले लोगों की मृत्यु हो जाती है लेकिन उनकी आत्मा को कभी मुक्ति नहीं मिलती है आइये जरा और विस्तार से जानते हैं इस कहानी को।

यह भी पढ़ें – पद्मनाभ स्वामी मंदिर का पूरा रहस्य 

प्रचलित कहानियों के अनुसार सिन्धु देवड़ा महल के पास स्थित पहाड़ पर तांत्रिक क्रियाएं करता था । वह रानी रत्नावती के रूप पर बहुत मोहित था। एक दिन भानगढ़ के बाज़ार में उसने देखा कि रानी की एक दासी रानी के लिए केश तेल लेने आई है सिन्धु देवड़ा ने उस तेल को अभिमंत्रित कर दिया कि वह तेल जिस पर भी लगेगा उसे वह तेल तांत्रिक के पास ले आयेगा। कहा जाता है की रत्नावती ने उस तेल को देखा तो वह समझ गयी कि यह तेल सिन्धु सेवड़ा द्वारा अभिमंत्रित है। क्योंकि रानी भी बहुत सिद्ध थी इसलिए उसने पहचान कर ली और दासी से उस तेल को तुरंत फेंक देने को कहा । दासी ने उस तेल को एक चट्टान पर गिरा दिया कहते हैं। अभिमंत्रित तेल ने चट्टान को उड़कर सुन्धु सेवदा की और रवाना कर दिया सिन्धु सेवड़ा ने चट्टान देख कर अनुमान लगाया की रानी उस पर बैठ कर उसके पास आ रही है। इसलिए उसने अभिमंत्रित तेल को आदेश दिया की वह रानी को सीधे मेरी छाती पर उतारे जब चट्टान पास आई  जब चट्टान पास आई तो तब तांत्रिक को असलियत पता चली तो उसने आनन फानन में चट्टान उसके उपर गिरने से पहले भानगढ़ नगर उजड़ने का श्राप दे दिया । और खुद चट्टान के नीचे दब कर मर गया रानी रत्नावती को यह समझने में देर न लगी और उसने तुरंत नगर खाली करने का आदेश दे दिया। इस तरह यह नगर खाली होकर उजाड़ गया और रानी भी तांत्रिक के श्राप की शिकार हो गयी।

यह भी पढ़ें – मिश्र के पिरामिड 10 रहस्य | mystery of pyramids in hindi

अब राजस्थान के भानगढ़ किले की इस कहानी में कितनी सच्चाई है इसका पता इसी  से लगाया जा सकता है। कि जन श्रुतियों में भानगढ़ किले की प्रचलित कहानी में कई लोग रत्नावती को राजकुमारी  तो कई लोग रानी बताते हैं। रानी रत्नावती का ज़िक्र तो हर कोई करता है लेकिन वह किस किस राजा की पुत्री थी ? या महाराजा की रानी थी ? और उस राजा का शाशनकाल कौन सा था ? नगर किस काल में उजड़ा इन सवालों पर आज भी प्रश्न चिन्ह लगे हुए हैं। अक्सर लोगो इस नगर को अनुमानित 400 साल पहले उजड़ा हुआ बताते हैं पर किले में मिले  विभिन्न राजाओ के शिलालेख  की तारिख देखने के बाद उसके उजड़ने की समय सीमा काफी कम हो जाती है। लेकिन बात चाहे जो भी हो राजस्थान के भानगढ़ किले को अब भी लोग सबसे ज्यादा डरावना मानते हैं । यह कह सकते हैं कि भारत का सबसे प्रचालित भूतो का किला राजस्थान का भानगढ़ किला ही है।

तो राजस्थान के भानगढ़ किले के बारे में आपकी क्या राय है नीचे comment में जरुर बताएं और ऐसी ही जानकारियों को पढ़ते रहे hindish.com  पर और नीचे दिए गए कुछ अन्य रहस्यों के बारे में भी आप पढ़ सकते हैं ।

समुद्र के अन्दर मिली कुछ रहस्यमयी चीजें

पुनर्जन्म का रहस्य क्या है ? आइये जानते हैं | punarjanm ka rahasya

भारत की रहस्यमयी घटनाये जिन्हें आप नहीं जानते होंगे

क्या आप जानते हैं भारत की इन रहस्यमयी जगहों के बारे में

Share post, share knowledge

One thought on “राजस्थान के भानगढ़ किले का रहस्य क्या है”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *