ब्रह्माण्ड के रहस्य | mysterious Universe in hindi

brahmand ke rahasya ,tathya

यूँ तो ब्रह्माण्ड (Universe) के बारे में पूरा लिख पाना और इसे पूरा समझ पाना तो इंसानों के बस की बात नहीं है यह जितना विशाल है उतने ही अनोखे रहस्यों से भरा पड़ा है। और हर किसी को इसके बारे में ज्यादा से ज्यादा जानने की इच्छा रहती है क्योंकि चाँद तारे सूरज पृथ्वी ग्रह  आकाश बादल पानी जीव जन्तु पेड़ पौधे नजाने क्या क्या है। इस ब्रह्माण्ड के अंदर हैं आइये जानते हैं

ब्रह्माण्ड brahmand ke rahasya ,tathya ब्रह्माण्ड

ब्रह्माण्ड के रहस्य | mysterious Universe in hindi

सबसे पहली बात जो हम आपको बताने जा रहे हैं वो यह है की ब्रह्माण्डमें कुछ भी स्थिर नहीं है यानी कोई भी चीज ऐसी नहीं है जो हमेशा अपनी जगह पर टिकी हो ब्रह्माण्ड की हर चीज गतिमान है और साथ ही साथ परिवर्तनशील भी। चन्द्रमा हमारी धरती का चक्कर लगता है हमारी धरती सूरज का चक्कर लगाती है और सूरज भी हमारे सारे ब्रह्माण्ड के साथ मन्दाकिनी (The Milky Way) का चक्कर लगा रहा है और मन्दाकिनी यानि The Milky Way galaxy भी अंतरिक्ष में गति कर रही है। आपको यह जानकार आश्चर्य होगा की हमारी galaxy की तरह ही अंतरिक्ष में नजाने लाखो करोडो कितनी galaxies और भी हैं मगर अभी तक बैज्ञानिको ने यह पता लगाया है की हमारी galaxy के सबसे नजदीक वाली galaxy देवयानी है।  हमारी गेलेक्सी ब्रह्माण्ड में 552 Km/second  की तेजी से गति करती है और इस गति से वह मन्दाकिनी गेलेक्सी अरब सालो बाद देवयानी गेलेक्सी  से टकरा जाएगी।

Scientists के अनुसार अंतरिक्ष के कर्क तारामंडल में स्थित 55 Cancri e  नाम का एक Planet ऐसा भी है जो पृथ्वी से करीब तीन गुना ज्यादा बड़ा है और यह गृह Diamond का बना हुआ है ।

क्या आप जानते हैं की अंतरिक्ष में हम सुन नहीं सकते वो इसलिए की हमरी आवाज को एक जगह से दूसरी जगह पहुँचने के लिए हवा का होना जरूरी है जो धरती पर तो वातावरण की वजह से मौजूद है लेकिन अंतरिक्ष में कोई वातावरण नहीं है एकदम काला और सुनसान है । इसलिए वहाँ हम एक दुसरे की आवाज नहीं सुन पाते इसलिए अंतरिक्ष यात्री एक दुसरे से संपर्क बनने के लिए रेडियो तरंगो (Radio wave) का इस्तेमाल करते हैं।

ताज महल से जुड़े कुछ अजब गजब तथ्य

आपको इस बात पर यकीन नहीं होगा की ब्रह्माण्ड में एक बहुत ही बड़ा शराब का महासागर भी है जिस पर ethyl alcohol  (C2H6O) की मात्र बहुत ही ज्यादा है। इस  को हम  Sagittarius B2 (Sgr B2)  के नाम से जानते हैं और यह हमारी Milky way से 390 प्रकाशवर्ष (light years ) दूर है।

ब्रह्माण्ड में तैरता हुआ पानी याही H2o भाप के रूप में Universe में तैर रहा है और यह एक दो बूंद नहीं बल्कि हमरी पृथ्वी के पानी से लगभग 150 ट्रिलियन गुना ज्यादा पानी है ।

चन्द्रमा पर गए यात्रियों के पैरो के निशान अगले 10 करोड़ सालो तक नहीं मिट सकते क्योंकि चाँद पर न तो कोई हवा है न कोई वातारवरण और न कोई जीव जंतु इसलिए वह कोई भी धूल का कण  इधर से उधर नहीं होता, हाँ अन्तरिक्ष में सूक्ष्म रूप से घुमने वाला मेटल और अंतरिक्ष से गिरने वाले उल्का पिंड की वजह से  हो सकता है की आगे 10 करोड़ सालो में उन्हें मिटा दें वरना ये चिन्ह इस से भी ज्यादा समय तक यहाँ रहा सकते है ।

ब्रहस्पति ग्रह(Jupiter Planet ) जिसे अग्रेजी में  Jupiter भी कहा जा है के बारे में भी यह तथ्य है की ब्रहस्पति  वह 10 घंटे में अपनी प्रक्रिया पूरी करता है यानी ब्रहस्पति का एक दिन 10 घंटे का होता है साथ सी साथ आपको यह बता दें की ब्रहस्पति ग्रह हमर ब्राह्मांड का सबसे बड़ा गृह है ।यह गृह करीब  50,000 /hr की रफ़्तार से घूमता है ।

भारत की 10 रहस्यमयी घटनाएँ कैसे हुई 

Astronaut जब भी अंतरिक्ष में जाते है वो 2-3  इंच लम्बे हो जाते हैं, हैं न गज़ब की बात पर इसके पीछे का राज यह है की जब भी कोई आदमी अंतरिक्ष में जाता है तो वह use गुरुत्वाकर्षण (gravity) नहीं मिलती जिसकी वजह से उनकी रीड की हड्डियाँ के जोड़ ढीले हो जाते हैं और वो सीधी हो जाती हैं।

क्या आपको लगता है की हमारा सूर्य लाल रंग का है अगर हाँ तो आप गलत हैं क्योंकि यह लाल रंग का नहीं बल्कि सफ़ेद रंग का है। और हमारी  धरती से यह हमारे धरती के ऊपर के वातावरण के कारण लाल दिखाई देता है ।

एक रुसी संधोधन के अनुसार कोक्रोचो पर भी experiment किया गया जिस में यह पाया गया कि धरती पर पैदा हुए कॉक्रोचो के मुकाबले ब्रह्माण्ड में पैदा हुए काक्रोच ज्यादा मजबूत और तेज थे लेकिन ऐसा क्यों हुआ यह अभी रहस्य ही है ।

ब्रह्माण्ड के तारो को इंसान कभी नहीं गिन सकता और न ही उनकी कल्पना कर सकता है कि ब्रह्माण्ड में कितने तारे हैं ।

हमारे  ब्रह्माण्ड में एक जगह ऐसी भी है जहाँ पर बहुत बड़ा खालीपन है। वैसे तो ब्रह्माण्ड में ज्यादातर जगह खाली होती है मगर दृश्य ब्रह्माण्ड में  अक्षर कुछ दूरी पर कोई न कोई गृह उपग्रह तारा निहारिका अवकाशी पिंड  रहता है। मगर यह एक ऐसी जगह है जहां पर लाखो प्रकश वर्ष (light years) तक कुछ नहीं है यह बहुत ही बड़ा रहस्य है।

इन 10 जगहों की गुत्थी कौन सुलझा सकता है 

हर 15 साल बाद शनि के वलय पृथ्वी से दिखाई नहीं देते वैसे तो शनि के वलय टेलेस्कोप से हमेशा दिखाई देते हैं लेकिन एक समय ऐसा भी आता है जब शनि के वलय पृथ्वी से नहीं दिखाई देते और ऐसा समय तब आता है जब शनि, पृथ्वी और उसके वलय एक सीध में आ जाते हैं जिस से उसके वलय नहीं दिखते ।

और ब्लैक होल (Black hole) के बारे में तो अपने भी जरूर सुना ही होगा यह ब्रह्माण्ड का एक ऐसा दैत्य है जो अपने  गुरुत्वीय घेरे में आने वाले किसी भी चीज को अपने घेरे में समां लेता है इसका गुरुत्वीय शक्ति इतनी तेज होती है की यह प्रकाश को भी अपने पार नहीं होने देता एक ब्लैक होल पूरी की पूरी galaxy को निगल सकता है ।
Balck hole के बारे में पूरी जानकारी यहाँ पढ़ें 

दृश्य ब्रह्माण्ड, जो कि ब्रह्माण्ड  की सबसे बड़ी सरंचना है जो 10 अरब प्रकाश वर्ष चौड़ी है भौतिक विज्ञानं की थ्योरी के अनुसार अंतरिक्ष में इतनी बड़ी सरंचना का हो पाना एक रहस्य की ही बात है की आखिर ब्रह्माण्ड में इतनी बड़ी संरचना कैसे बनी होगी ।

यदि हम अपनी पृथ्वी की तुलना सूर्य से करना चाहे तो हमारी पृथ्वी कुछ इस तरह लगेगी जैसे किसी फुटबॉल के सामने मटर का दाना ।
जाने कैसे हुआ हमारे सूर्य का जन्म
ब्रह्माण्ड कैसे बना पूरी जानकारी

Share post, share knowledge

15 thoughts on “ब्रह्माण्ड के रहस्य | mysterious Universe in hindi”

    1. कोई आदम कोई मनु नहीं है इन्सान पहले आदिवासी था फिर धीरे धीरे उसने रहने का तौर तरीका बदला और आज वो यहाँ तक आ पहुंचा है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *