क्या गर्मी बढ़ने पर Coronavirus ख़त्म हो जाएगा ?

क्या गर्मी बढ़ने पर Coronavirus ख़त्म हो जाएगा?

आपको  सोशल मीडिया पर बहुत जगह यह पढ़ने को मिला होगा की गर्मी बढ़ने पर Coronavirus ख़त्म हो जाता है कुछ लोगो का कहना है कि पानी को गर्म करके पीजिये, कुछ लोग कह रहे हैं की पानी को गर्म करके नहाइये, कुछ लोग आइसक्रीम नहीं खाने की सलाह भी दे रहे हैं, और इसी तरह की अनेक बाते आपको सोशल मीडिया पर पढ़ने को मिलेंगी। तो गर्मी से यह वायरस ख़त्म होगा की नहीं इसके बारे में हम आपको आज इस आर्टिकल में बताएँगे।

कोरोना वायरस कैसे फैलता है ?

सबसे पहले हम यह जानने की कोशिश करते हैं कि कोरोना वायरस कैसे फैलता है ? कोरोना वायरस liquid  Droplet के जरिये बाहर आने वाली बूंदो से फैलता है यह बुँदे किसी संक्रमित व्यक्ति के छींकते समय, या खांसते समय बाहर आती हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दे की यदि कोई व्यक्ति छींकता है तो एक बार की छींक से करीब 3000 droplet बाहर आती हैं, और इन ड्रॉप्लेट्स में करोडो कोरोना वायरस प्रोटीन कवरिंग में होते हैं

क्या गर्मी बढ़ने पर Coronavirus ख़त्म हो जाएगा?

Coronavirus शरीर से बहार कितनी देर एक्टिव रहता है अमेरिकन इंस्टिट्यूट ऑफ़ नेशनल हेल्थ ने रिसर्च में पाया है कि यह वायरस liquid droplets  में 3 से 4 घंटे जिन्दा रहता है, यह ड्रॉप्लेट्स कुछ समय के लिए हवा में तैरता रहता है और अगर यह तैरते तैरते किसी लकड़ी पर बैठ जाता है तो फिर यह 24 घंटे से भी ज्यादा समय तक जिन्दा रहा सकता है। अगर वह स्टेनलेस स्टील पर पड़ा तो फर वह 2-3 दिन तक जिन्दा रहा सकता है। यदि अपने किसी ऐसी सतह को छू लिया जिसपर कोरोना वायरस हो और फिर आप अपने हाथ से अपने मुँह, नाक को छूते जिसके जरिये यह वायरस आपके शरीर में चला गया तो आपको कोरोना हो जायेगा। ध्यान रखने वाली बात यह है की कोरोना सिर्फ छू लेने से नहीं बल्कि आपके शरीर में जाने से होता है।

क्या गर्मी बढ़ने पर Coronavirus ख़त्म हो जाएगा ?

दोस्तों  सोशल मीडिया पर चाहे आप कैसी भी अफवाहों को देख रहे हों लेकिन सच्चाई यह है कि कोरोना वायरस 60° तापमान तक आसानी से जिन्दा रह सकता है।  और इतना तापमान आजतक न तो किसी देश में हुआ है और न ही हमारी बॉडी के अंदर इतना तापमान रहता है।  हाँ यह बात सत्य है कि शरीर का तापमान बढ़ने से कुछ वायरस नष्ट होते हैं लेकिन कोरोना वायरस पर क्या परिणाम होता है इसके बारे में British dr सारा जार्विस कहती हैं कि 2002 में SAARC महामारी नवंबर के महीने में शुरू हुई थी और  जुलाई में ख़त्म हो गयी क्या यह माहमारी तापमान बढ़ने के कारण रुकी यह कहना तो अब भी मुश्किल है।

बायोलॉजिस्ट परेश देशपांडेय का कहना है कि अगर कोई संक्रमित व्यक्ति भारी गर्मी में छींकता है या खांसता है तो Corona Drop जल्दी सूख सकते हैं जिसकी वजह से कोरोना का संक्रमण कम हो सकता है, लेकिन पूरी तरह से ख़त्म होगा यह कहना अभी भी ठीक नहीं होगा। हम इस बात को जानते हैं की फ्लू गर्मी के दौरान शरीर के बाहर नहीं रह पाता लकिन हमको इस बारे में नहीं पता कि कोरोना वायरस पर गर्मी का क्या असर पड़ता है, गर्मी में कोरोना खतम हो जायेगा इसका अभी तक किसी भी देश के पास कोई ठोस सबूत नहीं है।

इसलिए आप लोग तापमान के भरोसे मत बैठिये, Coronavirus दुनिया के 200 देशो में फ़ैल चूका है जिसमें ठण्डे इलाके का देश ग्रीनलैंड और दुबई जैसा गर्म शहर भी शामिल है। एक बार अगर यह वायरस शरीर में घुस गया तो इसको ठीक करने का तरीका अभी तक कोई भी देश इज़ाद नहीं कर पाया है।


यह भी पढ़ें – 

Coronavirus से जुड़े 10 सबसे ज़रूरी सवालों के जवाब

दिमाग की बत्ती जला देने वाले 10 सवाल

5 मजेदार पहेलियाँ अगर आप जीनियस हो तो जवाब दो

दिमाग घुमा देने वाले सवाल जवाब

30 अजब ट्रिकी सवाल और उनके गजब जवाब

Share post, share knowledge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *