Koo App क्या है

Koo App क्या है

Corona Virus के समय में प्रधानमंत्री मोदी जी ने आत्मनिर्भर भारत की तरफ लोगो का ध्यान आकर्षित किया था। इस बीच दुनिया की सोशल मीडिया की कंपनियों का दोगलापन और मनमानी भी सामने आयी। Twitter जैसी application वामपंथियों की विचारधाराओ को बढ़ावा देता है, और ज्यादातर सोशल मीडिया की कम्पनिया दूसरे देशो की है और उनके सर्वर भी विदेशी ही हैं ऐसे में हम भारतीयों की इनफार्मेशन और डाटा विदेशों को आसानी से उपलब्ध हो जाता है। अभी तक कोई भी ऐसी Social Media की भारतीय कंपनी नहीं है जिसने  पूरे अंतराष्ट्रीय स्तर पर अपनी छाप छोड़ी हो, यानी कि हम सोशल मीडिया के लिए पूरी तरह से विदेशों पर निर्भर हैं, जबकि हमारे देश में टैलेंट की कोई कमी नहीं है। तो ऐसे में ही मोदी सरकार ने जब आत्मनिर्भर भारत की तरफ जोर दिया तो, काफी युवाओ ने अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया और अनेको Social Media App बना डाली, जिसका जिक्र मोदी जी मन की बात में भी कर चुके हैं। इन एप्लीकेशन में से कई दर्जन कंपनियों को तो पुरुस्कार भी दिया गया। लेकिन इस दौड़ में बाजी मारी है Koo App ने जिसके बारे में हम आज बात करेंगे। कि Koo App क्या है, इसको किसने बनाया,  और इसमें आपको क्या क्या फीचर मिलते हैं।

Koo App क्या है –

Koo App एक माइक्रोब्लॉगिंग अप्लीकेशन, यानी कि Twitter जैसी ही एप्लीकेशन है, जिसको साल 2020 में लॉन्च किया गया था। इस एप्प को अप्रमेय राधाकृष्ण और मयंक बिदावतका ने डेवलप किया है। 2020 में भारत सरकार द्वारा आयोजित AatmaNirbhar ऐप इनोवेशन चैलेंज में इसने प्रथम स्थान प्राप्त किया था। जब से ट्विटर और भारत सरकार के बीच तनातनी चली तब से इस एप्लीकेशन के यूजर की संख्या में काफी उछाल आया है, और तबसे कू एप्प को ट्विटर के Alternative के तौर पर देखा जा रहा है।

Koo App क्या है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मन की बात में भी Koo Application की चर्चा कर चुके हैं और इस एप्लीकेशन को उपयोग करने की बात कही, क्योंकि इस एप्लीकेशन के Server भारतीय है और भारत में ही हैं, यह पूरी तरह से Made In India है। और हम भारतीयों का डाटा Facebook, Twitter जैसी कंपनियों के पास रहता था जिनके सर्वर विदेशो में हैं और वह अपने काम के लिए हमारा डाटा उपयोग कर सकते थे।

अब क्योंकि Koo Application पूरी तरह से Made In India है तो इसमें आपका डाटा सुरक्षित और Secure रहेगा। कू एप्प को English के अलावा भारतीय भाषाओ जैसे हिंदी, तेलुगु, कन्नड़, तमिल, में भी उपयोग कर सकते हैं,  इसके अलावा कू एप्प में बंगाली, मलयालम, गुजराती, मराठी, पंजाबी, ओड़िया और आसामी भाषा को भी जल्दी जोड़ा  किया जायेगा।

Koo App को आप Google Play store और Apple App Store से डाउनलोड कर सकते हैं। अभी तक इस एप्प को 25 लाख लोगो से भी ज्यादा लोग डाउनलोड कर चुके हैं।और 4.6 star rating है। देसी ट्विटर कहे जाने वाली इस एप्प के बारे अधिक जानकारी पाने के लिए आप उनकी वेबसाइट kooapp.com पर जा सकते हैं।

जाने माने लोग Koo App ज्वाइन कर चुके हैं 

आत्मनिर्भर भारत अभियान को और भारत में बनाई गयी चीजों को अब हम भारतीय प्राथमिकता देने लग गए हैं जो अच्छी बात है, इसी कड़ी में Koo App को अब तक कई राजनेता, कलाकार, समाजिक कार्यकर्ता, पत्रकार, और  स्पोर्ट पर्सन ज्वाइन कर चुके हैं। जैस कंगना रनौत, अनुपम खैर, सुधीर चौधरी, अर्चना पुरण सिंह, योगी आदित्यनाथ, पियूष गोयल, प्रकाश जावड़ेकर, रजत शर्मा, अदनान सामी,  संबित पात्रा, और कई अन्य कवी और लेखक भी इस लिस्ट में शामिल हैं। जबसे सरकार और twitter के बीच तनातनी हुई तबसे कू एप्प को उपयोग करने वालो की संख्या तेजी से बढ़ी जा रही है। और इसको देसी ट्विटर के नाम से जाना जाने लगा। आइये थोड़ा सा इसके बारे में भी जान लेते हैं कि आखिर twitter और Government के बीच विवाद क्या था।

सरकार और ट्विटर के बीच क्या विवाद है ? 

तथाकथित किसान आंदोलन के बारे में तो आप सभी जानते ही होंगे कि वहां किसान काम और दंगा करने वाले लोग ज्यादा हैं। और इस किसान आंदोलन का फायदा उठाकर कुछ देश विरोधी लोग Twitter पर  दुष्प्रचार और भड़काऊ बातें फैला रहे थे ऐसे में ट्विटर को अपनी पालिसी के अनुसार ऐसे भड़काऊ बयान देने वाले फर्जी एकाउंट और देश विरोधी हैशटैग चलने वालो के अकॉउंट बैन कर देने चाहिए थे जो उसने नहीं समय रहते नहीं किये और बाद में जब भारत सरकार ने ट्विटर से नाराजगी जताई तो यह कहकर पल्ला झाड़ लिया की वह लोग को अभिव्यक्ति की आज़ादी दे रहा है।

जबकि कुछ ऐसे लोग जो देश के लिए और किसान आंदोलन पर अपनी अच्छी राय रख रहे थे उनको twitter वो जल्दी ब्लॉक कर दे रहा था। सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने स्पष्ट किया कि कंपनी के अपने भले ही कोई नियम हों, लेकिन उसे देश के कानूनों का पालन करना ही चाहिए। ऐसे में भारत सकरार की नाराजगी से ट्विटर को भी लगा की Tik Tok और PubG की तरह ही कही ट्विटर को भी भारत में बैन न कर दिया जाय, ऐसे में भारत में अपना अस्तिव बचाने के लिए ट्विटर ने किसान आंदोलन पर भड़काऊ पोस्ट करने वाले करीब 500 से ज्यादा अकाउंट को suspend कर दिया था।

आपको तो याद ही होगा की 2020 में जबसे मोदी सरकार ने कई प्रचलित चीनी एप्लीकेशन को बन करके सख्ती अपनाई है तबसे विदेशी कम्पनियां भी भारत में अपनी हदों में रहना सीख गयी हैं, अन्यथा चाहे कोई ऐप्प कितनी भी फेमस क्यों न हो पर देश के लिए हानिकारक हो, और देश की सुरक्षा के नजरिये से सही न हो तो मोदी सरकार के हमले से बच नहीं सकती।

Koo App के फीचर –

Koo App क्या है

Koo ऐप में यूजर्स अपनी राय, वीडियो, फोटो शेयर कर सकते हैं। और एक दूसरे से डायरेक्ट मैसेज करके बात चीत कर सकते हैं, जैसा बाकि Social Media App में होता है। Koo App में यूजर poll conduct कर सकते हैं। जिस से आप लोगो को एक सवाल के कई विकल्प देकर ये जान सकते हैं कि बेहतर विकल्प क्या है। जिस पर ज्यादा वोट आएंगे वही विकल्प सही रहेगा।

Koo App कहाँ से Downlaod करें ?

Koo App को आप Google Play Store से डाउनलोड कर सकते हैं और अगर आपके पास एप्पल का मोबाइल है तो आप ऐपल ऐप स्टोर से कू ऐप्प को बाकि Application की तरह आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं। sign up करने के लिए आपको मोबाइल नंबर Enter करके verify  होगा।और फिर आप अपनी राय Koo App पर पोस्ट करके सकते हैं।


यह भी पढें –

UPI क्या होता है समझिये सरल भाषा में 

Google Drive क्या है

CDN क्या होता है और इसके क्या फायदे हैं ?

Cloud Storage क्या है 

Roz dhan app ऑनलाइन पैसे कमाने का बढ़िया तरीका

Search Engine क्या है और कैसे काम करता है

One thought on “Koo App क्या है”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *