एक भुक्कड़ खरगोश की कहानी

एक भुक्कड़ खरगोश की कहानी

एक भुक्कड़ खरगोश की कहानी

एक बार की बात है एक खरगोश था जिसके पास एक छोटा सा प्यारा सा घर था। और वह खरगोश अपने घर को बहुत ही साफ़ सफाई से रखता था ।लेकिन उसकी एक आदत थी वह सारे दिन खाता ही रहता था। वह जितना भी खा ले उसकी भूख ही नहीं मिटती थी। एक दिन खरगोश के कुछ दोस्त उसको मिलने आये उसने उनके साथ मिलकर एक Plan बनाया । और कहने लगा की ये खाना खा खा कर मेरा मन भर गया है, मुझे कुछ अच्छा खाना है। चलो पास वाले खेत में चलते हैं। वहां हमको जरुर कुछ अच्छा मिल जायेगा, और बाकि के खरगोशो ने भी सहमती जताई। और सारे खरगोश वहां से खेत की तरफ चल दिए। और जैसे ही वह खरगोश वहां पहुंचे तो उन्होंने देखा कि खेत में मटर मक्का और बहुत सारी  सब्जियां लगी हुई हैं ।

इस कहानी को भी पढ़ें :- घमंडी हाथी और चींटी की कहानी 

अब सभी अपने आपस में बाते करते हैं कि सभी जल्दी जल्दी खाना नहीं तो खेत का मालिक आयेगा और हमको बहुत मारेगा और फिर वे सभी खेत की सब्जियां खाने लगते हैं। इतने में खेत का मालिक उनको देख लेता है  एक खरगोश की नज़र खेत के मालिक पर पड़ी और उसने सबको सूचित किया, सभी खरगोश वहाँ से भाग खड़े हुए। लेकिन भुक्कड़ खरगोश अभी भी वहां खाने में लगा हुआ था ।

अचानक खरगोश की नज़र खेत के मालिक पर पड़ी जो लाठी लेकर खरगोश की तरफ आ रहा था। खरगोश ने भी खेत के मालिक को देखा और वहां से भागने लगा लेकिन उसने इतनी सब्जियां खा ली थी कि उस से भागा भी नहीं जा रहा था। और खेत  का मालिक उसके पीछे पीछे दौड़ रहा था। रस्ते में एक काँटों वाली झाडी थी जहाँ से बाकि के खरगोश आसानी से कूद गए थे मगर भुक्कड़ खरगोश वहां से आसानी से कूद नहीं पाया। उसने बहुत मेहनत की और झाडी पार की।

इस कहानी को भी पढ़ें :- जादुई चप्पल हिन्दी कहानी |the Magical slippers hindi story for kids

भुक्कड़ खरगोश ने झाडी पार तो कर ली मगर उसके पैरो पर बहुत सारे कांटे बैठ गए थे। खेत का मालिक झाड़ी पार नहीं कर सका इसलिए वह वहाँ से वापस अपने घर चला गया । मगर खरगोश को रस्ते में एक लोमड़ी मिली जो खरगोश के पीछे दौड़ने लगी। खरगोश जैसे तैसे करके घर के दरवाजे तक पहुंचा जहा उसके बाकी दोस्त उसका इन्तेजार कर रहे थे। जब खरगोश अपने दरवाजे पर पहुंचा तो वह दरवाजे से अंदर ही नहीं घुस पाया क्योंकि उसका पेट खा खा कर बहुत फूल गया था। उसके दोस्तों ने उसको अंदर खींचें की बहुत कोशिश की मगर उसको अंदर नहीं खींच पाए। इतने में दौड़ते दौड़ते लोमड़ी भी वहां पहुंची और भुक्कड़ खरगोश की पूँछ पकड़ ली ।

इस कहानी को भी पढ़ें :- हीरा और मोती दो बैलो की कहानी 

खींचा तानी में भुक्कड़ खरगोश के दोस्त उसको अंदर खींच रहे और लोमड़ी बाहर खींच रही थी। अचानक से भुक्कड़ खरगोश की पूंछ टूट गयी और लोमड़ी पूँछ के साथ बहुत दूर जाकर गिरी और भुक्कड़ खरगोश के दोस्तों ने उसको अंदर खींच लिया। और उन्होंने दरवाजे बंद कर दिए, और भुक्कड़ खरगोश में अपनी इस आदत की वजह से अपनी पूँछ गवां दी ।

भुक्कड़ खरगोश की कहानी से सीख –


तो चाहे वह खाना हो पीना या कुछ और जरुरत से ज्यादा हो तो नुकसान ही करता है। इसलिए जितनी भूख हो उतना ही खाना खाना चाहिये ।

reference

Share post, share knowledge

3 thoughts on “एक भुक्कड़ खरगोश की कहानी”

  1. Affe बंदर
    Delphin डॉलफिन
    Eichhörnchen गिलहरी
    Eisbär ध्रुवीय भालू
    Elefant हाथी
    Ente बतख
    Fisch मछली
    Giraffe जिराफ़
    Hirsch मृग
    Huhn मुर्गी
    Hund कुत्ता
    Kaninchen खरगोश
    Katze बिल्ली
    Känguruh कंगारू
    Kuh गाय
    Löwe शेर
    Maus चूहा
    Papagei तोता
    Pferd घोड़ा
    Pinguin पेंगुइन
    Robbe सील
    Schaf भेड़
    Schlange साँप
    Zebra ज़ेबरा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *