चमगादड़ के बारे में हैरान कर देने वाले तथ्य

चमगादड़ के बारे में हैरान कर देने वाले तथ्य

प्रकृति का संतुलन बनाए रखने के लिए हर जीव की अपनी भूमिका है। ऐसा ही एक स्तनधारी उड़ने वाला जीव है चमगादड़ । चमगादड़ एक ऐसा प्राणी है जिसे इंसानों के आस पास के इलाकों में रहना पसंद होता है। ये दो तरह के होते हैं। एक वे जो फल-फूल खाते हैं और पेड़ो पर रहते हैं। ये आकार में काफी बड़े होते हैं। इन्हें मेगा किरोप्टेरा, फ्लाइंग फॉक्स या फ्रूट बैट कहा जाता है। दूसरे कीट भक्षी छोटे चमगादड़ होते हैं। इनको माइक्रो किरोप्टेरा कहते हैं। ये घरों, पुराने खंडहरों, गुफाओं आदि में रहते हैं। वाइल्ड लाइफ साइंटिस्ट फ्लाइंग फॉक्स को ‘जंगल का किसान’ भी कहते हैं। चमगादड़ के बारे में आपने यूं तो ढेरों बातें सुनी और पढ़ी होंगी लेकिन आज हम आपको चमगादड़ों से जुड़ी कुछ ऐसी चीजों के बारे में बता रहे हैं जिनके बारे में आप शायद ही जानते होंगे।

चमगादड़ के बारे में हैरान कर देने वाले तथ्य

चमगादड़ यानि Bat विश्व में पाए जाने वाला एकमात्र ऐसा स्तनधारी जीव है जो पेड़ो पर उल्टा लटकता है और गुफा से उड़ते समय हमेसा बाई दिशा की तरफ मुड़ता है।  इंसानों के आसपास पुराने खंडरो,किलो व् वीरान इमारतों में पाया जाने वाला यह जीव दिखने में बेहद बदसूरत होता है।  और यह एक मात्र ऐसा स्तनधारी जीव है जिसे प्रकृति ने उड़ने के लिए बनाया है। और आज के इस आर्टिकल में मैं आपको बताने जा रहा हूँ चमगादड़ के बारे में हैरान कर देने वाले तथ्य

चमगादड़ो के बारे में हैरान कर देने वाले तथ्य –

चमगादड़ की 3100 ऐसी प्रजातियां है जो की उल्टी लटकती है

चमगाड का जंतु वैज्ञानिक नाम  ‘टैरोपस मीडिएस’  है और ये रात्रिचर  प्राणी है।

यह धरती पर उपस्थित जीवों का 30% है|

चमगादड़ स्तनधारी होते हुए भी अन्य पक्षियों से तेज उड़ सकता है।

चमगादड़ 130 डेसीबल की ध्वनि पैदा करते हैं यह आवाज बिजली के खड़कने से भी तेज होती है, लेकिन इसके pich बहुत ज्यादा होने की वजह से यह हमें सुनाई नहीं देती है |

चमगादड़ अंडे नहीं बल्कि बच्चे देती है।

बिहार के वैशाली जिले के सरसई गांव में चमगादड़ों की पूजा की जाती है।

चमगादड़ो की अपनी एक रडार प्रणाली होती है जिसकी मदद से ये अँधेरे में अपनी मंजिल से पहुँचते है मतलब की  रात में उड़ते समय चमगादड़ अपने मुख से उच्च आवृत्ति की पराध्वनिक तरंगें (20000 हर्ट्ज आवृत्तिवाली) उत्पन्न करता है।  जो सामने किसी ठोस वस्तु से परावर्तित होकर तत्काल चमगादड़ के मस्तिष्क को संदेश प्रेषित करती हैं, फलस्वरूप चमगादड़ अपनी दिशा बदल देता है। इसी कारण रात के अँधेरे में चमगादड़ किसी वृक्ष, पहाड़ी या मकान से टकराये बगैर अपने शिकार की तलाश में उड़ता चला जाता है। |

चमगादड़ के मूह और कान चूहे से काफी मिलते जुलते हैं।

चमगादड़ 20 सालों तक जीवित रह सकते है।

चमगादड़ के पंख इनके हाथ होते हैं यह हाथ की तरह ही काम करते हैं |

चमगादड़ फलाहारी और कीटभक्षी दोनों तरह के होते हैं।

सोते समय कुछ छोटे चमगादड़ों का दिल एक मिनट में सिर्फ 18 बार धड़कता है। जागने पर यह गति 880 तक पहुंच जाती है।

चमगादड़ में शरीर पर जो त्वचा होती है उसका आकर पैराशूट जैसा  होता है जिसको आप उड़नझिल्ली भी कह सकते हो।

चमगादड़ गुफा से निकलते समय हमेशा बांये तरफ मुड़ते है।

पृथ्वी पर अगर मन्युष्य सहित सारे स्तनधारी प्राणियो की आबादी की बात करे तो इसमें 20 प्रतिसद आबादी सिर्फ चमगादड़ की ही है।

क्या आप जानते हैं की 2 करोड़ से भी ज्यादा चमगादड़ अमेरिका के टेक्सास में रहते है।

चमगादड़ के बारे में हैरान कर देने वाले तथ्य

चमगादड़ के दुश्मन में नेवला, बाज और उल्लू सबसे आगे हे लेकिन पिस्सू और किलनिया भी उसको काफी परेसान करता हे क्यूंकि यह जिव चमगादड़ की त्वचा और पर के रक्त चूस लेते है

एक घंटे में चमगादड़ 600 खटमल खा सकते है।

ऑस्ट्रेलिया के एथर्टन शहर में स्थित टोल्गा बैट हॉस्पिटल में चमगादड़ों का इलाज किया जाता है।

दुनिया के सबसे बड़े चमगादड़ की पंख की लम्बाई 5 से 6 फुट की होती है।

वाइल्ड लाइफ एक्सपर्ट का मानना है कि बढ़ते प्रदूषण के बीच पॉश इलाकों में पेड़ों की अधिकता चमगादड़ों को पसंद आ रही है। मेरठ शहर के सिविल लाइन से माइग्रेट करने वाले फ्लाइंग फॉक्स (चमगादड़) फिर से अपने बसेरों पर लौट आए हैं। एसएसपी आवास, कमिश्नरी कार्यालय और सिंचाई विभाग कॉलोनी के पेड़ों पर दिनभर ये उलटे लटके नजर आते हैं। जंगल के किसान कहे जाने वाले ये चमगादड़ अंधेरा होते ही अपने भोजन की तलाश में निकल पड़ते हैं।

चमगादड़ हमेशा उल्टा लटककर सोते हैं।

वैज्ञानिक मानते है चमगादड़ों की उत्पति लगभग से 10 करोड़ साल पहले डायनासोरो के समय हुई थी और जिसे हम देख रहे हे वो चमगादड़ करीब 3 करोड़ साल से मोजूद है।

अमेरिकी गृह युद्ध के दौरान चमगादड़ो के मॉल का उपयोग Gunpowder बनाने के लिए किया जाता था।

एक पिशाच चमगादड़ एक दिन में अपने वजन के जितना ही खून पी सकता है।

दुनिया में पाए जाने वाले सबसे छोटे चमगादड़ की प्रजाति का नाम Bumblebee है और इस का वजन मात्र 215 ग्राम होता है।

चमगादड़ एक ऐसा जीव है जो किसानो के करोड़ो रुपयों की बचत करता है।  उदाहरण के तौर पर लगभग 140 बड़े भूरे चमगादड़ गर्मी के मौसम में बहुत सारे ऐसे कीटो के खा सकते है जो खीरो को नुकसान पहुँचाते है और इससे किसानो के प्रतिवर्ष करोड़ो रूपये बचते हैं।

तो उम्मीद है की आपको  “चमगादड़ के बारे में हैरान कर देने वाले तथ्य” लेख पसंद आया होगा और आपको चमगादडो के बारे में अनेको बाते पता चली  होंगी। ऐसे ही कुछ अन्य लेख हैं जिन्हे आप पढ़ सकते हैं।


Wikipedia के बारे में कुछ रोचक जानकारियां

हमारे इतिहास के बारे में रोचक तथ्य

मुकेश अंबानी से जुड़ी बातें जो आप नहीं जानते

Internet के बारे में रोचक तथ्य मजेदार बातें 

नालंदा यूनिवर्सिटी के बारे में 15 रोचक बातें

ये हैं दुनिया के 7 अजूबे

Titanic जहाज के बारे में रोचक जानकारी

अल्बर्ट आइंस्टीन के बारे में रोचक तथ्य | Eeinstein hindi facts

विज्ञान के बारे में रोचक तथ्य | amazing facts about science in hindi 

Share post, share knowledge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *