एक लोटा दूध प्रेरणा दायक हिंदी कहानी | hindi motivational story for kids

एक लोटा दूध प्रेरणा दायक हिंदी कहानी |

एक बार की बात है काफी दिनों से बारिश न होने के कारण एक गाँव में सुखा पड़ गया चारो तरह हाहाकार मच गया और पानी की कमी के कारण लोग मरने लगे  थे।  गाँव में एक ही आचार्य थे जो पढ़े लिखे थे ,लोग ने उनसे इस समस्या के समाधान के लिए कोई उपाय खोजने को कहा आचार्य ने सूखे को रोकने और गाँव में बारिश हो जाये इसके लिए बहुत से उपाय खोजे लेकिन कोई भी प्रयास सफल नहीं हुआ ।  गाँव में पानी की समस्या पहले की तरह बनी रही, गाँव के लोगो के सामने सभी रस्ते बंद हो चुके थे वे सभी लोग दुखी हो गये और भगवान से प्रार्थना करने लगे की :-

“हे भगवान अब तो तू ही हमको तबाह होने से बचा सकते हैं “

तभी वहां भगवान द्वारा भेजा गया एक दूत प्रकट हुआ और गाँव के लोगो से कहा कि

अगर आज रात गाँव का हर व्यक्ति उस कुंए में बिना देखे एक एक लोटा दूध डालेगा, तो सूखे की समस्या खत्म हो जाएगी,  और कल ही बारिश हो जाएगी यह कहकर वह दूत वहां से गायब हो गया।

एक लोटा दूध प्रेरणा दायक हिंदी कहानी |

अब सभी गाँव के लोग इस समाधान से बहुत खुश हुए और उन्होंने सभी ग्रामवासियों से निवेदन किया की सभी लोग उस कुए में बिना देखे बिना झांके एक एक लोटा दूध डाल दें , ऐसे में गाँव के एक कंजूस व्यक्ति ने सोचा की कुँए में तो सब लोग दूद डाल रहे हैं, और वो भी  बिना देखे तो अगर ऐसे में मैं अकेला उस कुएं में एक लोटा दूध की बजाये एक लोटा पानी दाल दूँ तो किसी को क्या पता चलेगा ।

यह कहानी भी पढ़ें :- जादुई चप्पल हिंदी कहानी | The Magical Slippers best hindi story

अगली सुबह लोग ने बारिश का इन्तेजार किया लेकिन अभी भी गाँव में सुखा पड़ा हुआ था, और बारिश की कोई उम्मीद नज़र नहीं आ रही थी। सबकुछ पहले के जैसा लग रहा था । सब लोग सोचने लग गए की आखिर बारिश क्यों नहीं हुई ।  इस बात का अपत लगाने के लिए  सभी लोग गाँव के बाहर उस कुएं में देखने चले गए ,जब उन्होएँ कुएं में झाँक कर देखा, तो सभी लोग हैरान हो गए, पूरा कुआँ पानी से भरा हुआ था और वो समझ गए की अब तक पानी समस्या ठीक क्यों नहीं हुई ।

यह कहानी भी पढ़ें :- अलसी तोते और शिकारी हिंदी कहानी  

ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि, जो बात उस कंजूस व्यक्ति के दिमाग में आई थी कि सब लोग तो एक एक लोटा दूध डाल रहे हैं और अगर मैं अकेला पानी डाल दूंगा तो कसी को पता नहीं चलेगा ,  यही बात सारे गाँव वालो के दिमाग में आई थी, और सभी गाँव वालो ने पानी ही डाला  था।

एक लोटा दूध प्रेरणा दायक हिंदी कहानी से सीख 


दोस्तों हम सोचते हैं, की अगर मैं बदल गया तो क्या मेरे बदलने से पूरा संसार बदल जायेगा।  लेकिन ऐसा नहीं है अगर हम बदलेंगे तभी संसार बदलेगा तभी समाज बदलेगा।  और बदलने की सम्भावना भी बढ़ जाती है ,पर अगर हम न बदले तो फिर तो इस बात की गारंटी है की समाज नहीं बदलेगा ।  क्योंकि —

भटकते-भटकते ही सही पर मजिल मिलेगी जरुर…. 
गुमराह तो वो लोग हैं जो घरो से निकले ही नहीं ….

इसलिए अपना हर काम को  जिम्मेदारी, इमानदारी और मेहनत  से करें ।  क्योंकि जब आप बदलेंगे तभी समाज बदलेगा । 

यह कहानी भी पढ़ें :-किसान और सांप की कहानी | Story of a farmer and snake in hindi

Share post, share knowledge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *