दुनियां के 10 क्रूर शाशक

benito mossolini hindi

जैसे अपने एक कहावत तो सुनी ही होगी की हर सिक्के के दो पहलू होते हैं वो कहावत बिलकुल सही है ।धरती पर भी कुछ लोग शांति की कामना करते हैं शांति लाना चाहते हैं ।तो कुछ लोगो को अपनी हुकूमत करना बहुत अच्छा लगता है। चाहे उसके लिए उन्हे किसी की जान देनी पड़े या कोई क्रूर सजा क्यों न देनी पड़े हम आपको आज ऐसे दुनियां के 10 क्रूर शाशको के बारे में बताने जा रहे है जिनको शाशक नहीं    बल्कि इंसानियत और शांति का दुश्मन कहा जाना चाहिये तो चलिए let’s start ।


1- ईडी अमीन दादा –

idi amin

दुनिया के सबसे क्रूर शाशको में से एक इडी अमीन दादा था। जिसने 1971 से लेकर और  1979 तक यूगांडा के सैन्य तानाशाह और  राष्ट्रपति के पद पर रहकर अपनी क्रुरु हुकूमत की, अमीन the British colonial regiment।  जिसको  the King’s African Rifles भी कहा जाता है ।उसमें 1946 में शामिल हुआ और बाद में उसको Colonial Ugandan Army में मेजर जनरल का कार्यभार सौंपा गया और फिर 1971 में वह कमांडर भी बन गया और फिर शुरू किया इसने अपना क्रूर शाशनकाल कहा जाता इडी अमीन ने अपने शाशन काल में 5 लाख से ज्यादा लोगो को टॉर्चर कर के मारा यह दुनिया का इतना क्रूर शाशक था कि सजा के तौर पर यह लोगो के प्राइवेट पार्ट, हाथ, पैर काट दिया करता था वह मौत की ऐसी ऐसी सजाएँ सुनाता था जो किसी भी इंसान को झकझोर कर के रख देता  है। कहा यह भी जाता है की यह दोषियों का सर हथोड़े से फोड़ दिया करता था और इसका शशन काल इतना ख़राब था कि उस वक़्त महिलाओ का रैप आम बात थी इसने कई महिलायों को भी रैप करके तडपा तडपा कर मौत के घात उतरा है। सदी अमीन की पांच पत्निय होते हुए भी वह अपने लिए हमेसः कम उम्र की लडियो को ढूंडता था ।,अपने इन आठ सालों के शाशन काल में ईडी अमीन अपने काले चेहरे को और भी काला कर के 16 August 2003 सऊदी अरब मे मर गया।


2-  एडोल्फ हिटलर –

adolf hitler
adolf hitler

अडोल्फ़ हिटलर के बारे में अपने इतिहास में जरूर पढ़ा होगा ये यह नाजी पार्टी का क्रूर शाशक था जो लग़भग 1.7 करोड़ लोगों की मौत का जिम्मेदार है हिटलर  ने करीब 12 वर्षों (1933 से 1945) तक जर्मनी पर  क्रूरता का शाशन किया जब    द्वितीय विश्व युद्ध हुआ तो हिटलर ने अपने विरोधियो को चुन चुन कर मारा जिनमें  महिलाएं और बच्चे भी शामिल थे  हिटलर ऐसा शशक तह जिसको बच्चो पर भी रहम नहीं आता था इसने सबसे ज्यादा अत्याचार यहूदी धर्म के लोगो पर किया जबकि इसका पहला प्यार भी यहूदी लड़की थी ।

दुनिया के 10 महान जांबाज योधा 

दुनिया के 10 सबसे खतरनाक देश 

इसी बात से पता चलता है कि यदि किसी मानवता के दुश्मन को अपनी हुकूमत करनी हो तो उसके लिए प्यार और इन्सानियत का मतलब ही कहाँ रह जाता है 30  अप्रैल 1945 को इस मानव एकता के दुश्मन का भी जर्मनी में अंत हो गया  और जर्मन के लोगो ने चैन की सांस ली होगी ।


3- सद्दाम हुसैन –

saddam husain
saddam husain

21 वीं सदी के सबसे कुख्यात इराकी तानाशाह सद्दाम हुसैन 20 लोगो का हत्यारा है जिसने अपने विरोधियों को नहीं छोड़ा सद्दाम हुसैन कुरदीश समुदाय के लोगो का सबसे बड़ा दुश्मन था इसलिए  इसने उन पर जहरीली गैस का स्तेमाल किया जिसमें  बच्चे बूढ़े और महिलाओ को जान से हाथ धोना पड़ा यह रो हम भी नहीं जानते मगर इतिहास के गवाहों के मुताबिक सद्दाम हुसैन लोगो को दर्दनाक मौत देकर मरता था और फिर उनकी आवाज रिकॉर्ड करता था फिर जब शाम को डिनर करता था तो उस चीख को सुनकर जोर जोर से हँसता रहता था जो मानवता का बहुत बड़ा उलंघन था लेकिन फिर 30 दिसम्बर 2006 को उसको मौत की सजा सुनाइ गयी ।


4- माओ से तुंग –

mau se tung
mau se tung

माओ से तुंग ये मानवता के लिए कितना घातक होता यदि इसका कार्यकाल और अधिक होता ज़रा सोचिये जब हर दिन  माओ से तुंग ने मात्र अपने पांच साल के कार्यकाल(1949-1954) में ही 7.8 करोड़ करोड़ लोगो को मौत की नींद सुला दिया जब इसने अपने कार्यकाल में दो नीतिओ को लागू किया था ।

  1. ग्रेट लीफ फारवर्ड।
  2. कल्चरल रेवॉल्यूशन।

और इसकी ख़राब नीतियों के कारण उस वक्त चीन के करीब 2 करोड़ लोगो  को भुखमरी से मौत का शिकार होना पड़ा इसने अपने पुरे शाशन काल में ऐसी उल्टी सुल्टी नीतियां लागू की जिस से इसके मात्र 5 साल    के ही   कार्यकाल में  लगभग साड़े सात करोड़ लोग मर गये  और फिर यह दुनिया के सबसे क्रूर शाशको की लिष्ट में शामिल हो गया और 9 सितम्बर 1976 कोयह भी धरती को अलविदा कह गया ।

5- जोसेफ स्टालिन –

Joseph-Vissarionaovich-Stalin
Joseph-Vissarionaovich-Stalin

जोसेफ स्टालिन, लेनिन की मौत के बाद 1924 में स्टालिन सोवियत यूनियन का नया कम्युनिस्ट नेता बना इसने अपने  कार्यकाल में करीब 2.3 करोड़ लोगों को मौत के घाट उतार दिया था उसने अपने कार्यकाल में किसानो के लिए एक पांच वर्षीय आर्थिक योजना लागू की और पूरे सोवियत यूनियन के किसानो को  “फार्मर को-ऑपरेटिव” से जुड़ने के लिए मजबूर कर दिया और सारे किसानो को सरकार  के अधीन कर दिया जिसका नतीजा यह हुआ कि पुरे सोवियत यूनियन में अकाल की स्थिति पैदा हो गयी ।

दुनियां के 10 सबसे बड़े जानवर 

टाइटैनिक जहाज से बचे 10 लोगो की दासता  

सिर्फ अकेले ही युक्रेन में 30 लाख से ज्यादा लोगो जी भुखमरी से मृयु हो गयी जिनकी मृयु हुई उनकी जमीन सरकार द्वारा हड़पी गयी और जो जिन्दा बचे थे उनको मजदूरी करने के लिए भेज दिया गया था जहाँ उनको ज़िन्दगी भर एक गुलाम की ज़िन्दगी जीनी थी जहाँ उनको मजदूरी करने के लिए भेजा जाता था वहां भी उसने ऐसे नियम बनाये थे की हर मजदूर को टारगेट दिया जाता था जिसको पूरा करना होता  था यदि वह पूरा नहीं होता तो वह उसे मौत की सजा सुना देता और यदि कोई बीच में काम छोड़ता तो उसे प्रताड़ित करता था ।

उसका एक ही उसूल था की जो उसकी नीतियों के खिलाफ बोलोगे उसको मार दिया जायेगा और वह यही करता था 5 मार्च 1953 को यह cerebral hemorrhage  के कारण मर गया था ।


6- रॉबर्ट मुगाबे –

robert mugabe
robert mugabe

लोगो को डरा धमका कर सत्ता हासिल करने वाला जिम्बाबे का राष्ट्रपति रोबेर्ट मुगाबे अभी भी जिंदा है और इसने जिसने अपने कार्यकाल में 20000 आम नागरिको को बिना किसी वजह के मौत के घात उतार दिया ।

उसने लैंड रिफॉर्म प्रोग्राम   प्रोग्राम को शुरू कर के 30 से ज्यादा लोगो को बेघर, बेरोजगार कर दिया था और इसकी तानाशाही इतनी थी की कोई इसका विरोध भी नहीं कर सका इसने रॉबर्ट मुगाबे ने 1987 से लेकर 2013 तक 26 सालों तक जिम्बाबे पर हुकूमत की । यह भी दुनिया के सबसे क्रूर शशको में एक था  ।

7- किम जोंग इल –

kim jong il
kim jong il

कोरिया में वंशवादी शासकों की परंपरा थी है इसलिए अपने पिता किम इल सुंग की मौत के बाद किम जोंग इल ही उसका उत्तराधिकारी बना और उसने फ़ोकट में मिली इस सत्ता की पदवी  को तानाशाह के रूप में उजागर कर दिया ।

एक कहावत कही जाती है जैसा बाप वैसा बेटा जो यहाँ किम जोंग इल पर फिट बैठती है क्योंकि इसके पिता ने भी  कई लोगो की हत्या की थी , किम जोंग इल ने अपने पिता का क्रूर तानाशाही पदवी सम्बह्लते हुए कोरिया पर साल 1994 से 2011 तक शाशन किया और कई मानवता के नियमो को तोड़करअशांति फैलाई और बहुत लगो की हत्या की इसके कार्यकाल में 3 लाख लोगो को गिरफ्तार किया गया ।


8-मुअम्मर अल-गद्दाफी –

muammar al gaddafi kroor neta
muammar al gaddafi

लीबिया का कुख्यात तानाशाह जो अपनी निर्दयी तानाशाही के लिए पूरी दुनिया में जाना जाता है ।

मुअम्मर अल गद्दाफी ने लीबिया पर सबसे ज्यादा 42 साल हुकूमत की यह अपने विरोधियों को    आवारा कुत्ता कहथा था और इसं अपने विरोधियो को चुन चुन   कर उनको मौत के घात उतारा उसने उन्हें आवारा कुत्ता करार देते हुए आदेश जारी किया था कि सबको मार दिया जाए।

समय यात्रा के 10 रहस्य 

गद्धाफी इतने सारे गुनाह कर चूका तह कि वह खुद डरने लगा था की कहीं उसे को मार न दे इसलिए वह बुलेट प्रूफ गाडी में ही कही जाता था और अपने आस पास हर वक़्त महिल गार्ड को तैनात रखता था गद्दाफी पर यह भी अरोप लगाया जाता की वह अपने बुजुर्ग दोस्तों के साथ मिलकर महिला गार्ड्स के साथ बलात्कार भी करता था अक्टूबर 2011 में उसे एक सैन्य हमले में मार गिराया गया ।


9-हुस्नी मुबारक –

hosni mubarak kroor neta
hosni mubarak

हुस्नी मुबारक ने 1981 से 2011 तक मिस्र की गद्दी संभली और  लोगो पर खूब अत्याचार किया जब मिश्र की जनता इसकी तानाशाही से परेशां हुई तो तब इसके खिलाफ आन्दोलन करना पड़ा और आखिरकार इसको बेइज्जत इसकी कुर्सी से उत्तर दिया गया ।

1981 से 2011 तक उसनें लोगो को मौत की दर्दनाक सजा सुनाई  जिस से मिश्र की जनता ने परेशां हो कर  2011 में हुस्नी मुबारक के खिलाफ एक आन्दोलन कर दिया और और उसको मजबूरन अपने पद से हटना पड़ा उसके खिलाफ कोर्ट में कई हत्या और भ्रस्ताचार के केस चल रहे थे इसलिए उसको साल 2012 में उम्र कैद की सजा सुंना दी गयी और अब वह जेल में सजा काट रहा है ।


10- बेनिटो मुसोलिनी –

benito mossolini hindi
benito mossolini

दुनिया के सबसे क्रूर तानाशाह में इटली का नेता रहा बेनिटो मुसोलिनी का नाम भी शुमार है  बेनितो मुसोलिनी ने  ही द्वितीय विश्व युद्ध की शुरवात   की थी क्योंकि इसने  1935 में अबीसीनिया पर हमला किया मगर इसे बहुत बार हार का मुह देखना पड़ा एक बार नहीं दो बार नहीं लगातार हार के कारण बेनिटो   मुसोलामिनी को उसके पद से हटा दिया गया और उसे हिरासत में ले लिया गया.  लेकिन तब हिटलर (चोर चोर मौसेरे भाई) ने उसको छुड़ा दिया था ।

लेकिन इसकी यह आजादी काफी दिन तक नहीं चली और 1945 में  मित्र देशो की सेना ने  इटली पर हमला कर दिया यह  अफ्ले से ही लगातार हरता आ रहता था तो अब जेल से छुटते  ही भला कैसे जीतता वह बह्गने की कोशिश कर रहा था लेकिन बाद में उसको पकड़ लिया गया और 28 अप्रैल 1945 को मौत की सजा दे दी गई ।


 

Share post, share knowledge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *