NEFT, RTGS, IMPS, UPI में क्या फर्क है ?

NEFT, RTGS, IMPS, UPI में क्या फर्क है ?

पहले हमको  बैंक में पैसे भेजने के लिए या किसी भी चीज का Bill Pay करने के लिए लाइन में लगना पड़ता था, लेकिन जबसे Internet आया तबसे घर बैठे Online इतनी सारी सुविधाएं हो गयी हैं की Bank Transaction से लेकर Recharge तक हम लोग घर बैठे ही कर लेते हैं और वो भी कुछ ही मिनटो में। और अगर आप भी घर बैठकर Money Transfer करते है तो आपने NEFT, RTGS, IMPS इन तीनो के नाम कभी न कभी जरूर सुने होंगे आज हम इसी के बारे में आपको विस्तार से बताएँगे कि NEFT, RTGS, IMPS में क्या फर्क है ?

NEFT, RTGS, IMPS, UPI में क्या फर्क है ?
NEFT, RTGS, IMPS, UPI में क्या फर्क है ?

NEFT –

सबसे पहले बात करते हैं NEFT  की।  NEFT की फुल फॉर्म होती है नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (National Electronic Funds Transfer) यह भी फंड ट्रांसफर का सरल और अहम तरीका है, लेकिन यह RTGS की अपेक्षा धीमा है। इसके तहत हम fund को एक निर्धारित समय पर ही भेज सकते है। सोमवार से लेकर शुक्रवार तक 8 am से  7 pm और शनिवार को 8 am से 1 pm तक ही Fund Transfer किया जा सकता है । । NEFT में न्यूनतम राशि का कोई प्रतिबंध नहीं है। एनईएफटी पर पैसे ट्रांसफर करने पर फीस लगती है और 2 लाख रुपये से अधिक के ट्रांसफर पर  25 रुपये तक फीस लगती है। जिसकी List मैं आपको नीचे दे रहा हूँ

  • दस हजार रुपये तक फण्ड ट्रांसफर पर – 2 रुपये 50 पैसे
  • दस हजार रुपये से ज्यादा, लेकिन एक लाख रुपये तक फण्ड ट्रांसफर पर- 5 रुपये
  • एक लाख से ज़्यादा, लेकिन दो लाख तक की राशि पर – 15 रुपये
  • दो लाख से ज्यादा, लेकिन पांच लाख तक की राशि पर – 25 रुपये
  • पांच लाख से ज्यादा, लेकिन दस लाख तक की धन राशि पर – 50 रुपये

आरटीजीएस/एनईएफटी से पैसे ट्रांसफर करने के लिए आपके पास लाभार्थी के खाते की जानकारी जैसे उसका नाम, बैंक का नाम, खाता संख्‍या और आईएफएससी कोड होना चाहिए।


RTGS –

RTGS का पूरा नाम है रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (Real Time Gross Settlement) फंड ट्रांसफर की सबसे तेज Process है। इस प्रक्रिया में Fund प्राप्त करने के तत्काल या फिर 30 Minute के भीतर बैंक को इसे निर्देशित खाते में ट्रांसफर करना होता है। यानी फंड को आगे प्रक्रिया के लिए नहीं टाला जा सकता है। आरटीजीएस का इस्तेमाल बड़े फंड ट्रांसफर के लिए किया जाता है। यहां न्यूनतम दो लाख रुपये का Transfer किया जा सकता है।
यदि किसी वजह से आपके द्वारा भेजे गए पैसे संबंधित व्यक्ति तक नहीं पहुंच पाते हैं तो पूरी राशि महज दो घंटे में आपके खाते में वापस पहुंच जाएगी। बैंकों में आरटीजीएस का इस्तेमाल कार्यदिवस के दिन 9 am से शाम 4.30 pm बजे तक किया जा सकता है, जबकि शनिवार को यह 9 am से 12 pm तक होता है। RTGS से दो से पांच लाख रुपये तक के Fund Transfer पर 30 रुपये तक फीस लगती है। जिसकी लिस्ट मैं आपको नीचे दे रहा हूँ

  • दो लाख रुपये से ज़्यादा, लेकिन पांच लाख रुपये तक की धन राशि पर – 25 रुपये
  • पांच लाख से ज़्यादा लेकिन दस लाख रुपये तक की धन राशि पर – 50 रुपये
  • जितना भी फण्ड ट्रांसफर किया जाता है उस पर सर्विस टैक्स लगता है। दोपहर 12:30 के बाद अगर कोर्इ भी ट्रांजेक्शन किया जाता है तो उस पर एक से पांच रुपये तक अतिरिक्त चार्ज लगता है।

हालांकि ये फीस घटाने का बैंकों को अधिकार है। RTGS से भेजा गया पैसा तुरंत सामने वाले के account में transfer हो जाता है।


IMPS –

IMPS का पूरा नाम Immediate Payment Service यानी तत्काल भुगतान सेवा है।  इस सेवा को सार्वजनिक तौर पर 22 नवंबर 2010 में शुरू किया गया था। इसकी मदद से आप एक बैंक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में रुपये कभी भी और किसी भी समय भेज सकते हैं।  इतना ही नहीं इस सेवा का लाभ आप मोबाइन फोन से भी उठा सकते हैं।  IMPS 24*7 available है, आप Sunday को भी Fund Transfer कर सकते हैं।  आईएमपीएस में पैसे ट्रांसफर करने के भी पैसे लगते हैं। जिसकी List मैं आपको नीचे दे रहा हूँ।

  • दस हजार रुपये तक की धन राशि पर – 2 रुपये 50 पैसे
  • दस हजार से ज्यादा, लेकिन एक लाख तक की राशि पर – 5 रुपये
  • एक लाख से ज्यादा, लेकिन दो लाख तक की राशि पर -15 रुपये
  • जो भी राशि ट्रांसफर की जाती है उस पर सर्विस टैक्स लगता है।

अब बात करते हैं UPI के बारे में।


UPI –

UPI का पूरा नाम यूनीफाइड पेमेंट इंटरफेस (Unified Payments Interface) इसका ऐप गूगल प्लेस्टोर पर मिलेगा जहां से इसे अपने स्मार्टफोन में डाउनलोड किया जा सकता है। यूपीआई के जरिए एक दिन में 50 रुपये से लेकर एक लाख रुपये तक ट्रांसफर किए जा सकते हैं। यूपीआई 24 घंटे और सातों दिन काम करेगा। UPI का उपयोग ऑनलाइन भुगतान के लिए  किया जाता है।  UPI एक मोबाइल बेस्ड पेमेंट सिस्टम है जोकि NPCI द्वारा संचालित होता है।  UPI सबसे एडवांस पेमेंट सिस्टम है जिसमे आपको सिर्फ मोबाइल नंबर या वर्चुअल id VPA  की जरुरत पड़ती है बाकि आपको अपना बैंक अकाउंट नंबर , ब्रांच नाम ,IFSC कोड आदि कुछ भी याद रखने की जरुरत नहीं। UPI दरअसल एक वर्चुअल आईडी से दूसरे वर्चुअल आईडी तक फंड ट्रांसफर करता है। यूपीआई में आपको अपनी वर्चुअल आईडी अपने बैंक से मिलेगी। अगर आपका फोन नंबर 9876543210 है और खाता एसबीआई में है तो आपका वर्चुअल आईडी 9876543210@sbi भी हो सकता है।

UPI App का उपयोग हम Online Payment Service के लिए कर सकते है जैसे –

  1. Money Transfer.
  2. Receive Money.
  3. Bill Payment.
  4. Online Shopping Payments.
  5. House Rent Payments.

UPI कैसे काम करता है?

UPI की सेवा लेने के लिए आपको एक वर्चुअल पेमेंट एड्रेस तैयार करना होता है. इसके बाद इसे आपको अपने बैंक अकाउंट से लिंक करना होता है।  वर्चुअल पेमेंट एड्रेस आपका वित्तीय पता बन जाता है।  इसके बाद आपका बैंक अकाउंट नंबर, बैंक का नाम या IFSC कोड आदि याद रखने की जरूरत नहीं होती। पेमेंट करने वाला बस आपके मोबाइल नंबर के हिसाब से पेमेंट रिक्वेस्ट प्रोसेस करता है और वह पेमेंट आपके बैंक अकाउंट में आ जाता है।


तो आशा है कि आपको NEFT, RTGS, IMPS, UPI के बारे में जान गए होंगे।  ऐसी ही अन्य जानकारी से पूर्ण आर्टिकल पढ़ने के लिए पढ़ते रहिये hindish.com

Debit,Credit,ATM card में क्या फर्क है ?

PAN Card खो गया या चोरी हो गया तो नए पैन कार्ड के लिए कैसे apply करें

adhar card से जुडी 10 बातें जो आपको जरूर जाननी चाहिए

SBI ATM के लिए नया PIN कैसे बनायें पूरी जानकरी हिंदी में

Share post, share knowledge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *