चाँद से जुड़े कुछ अनोखे रहस्य | chand ka rahasya

moon mystery hindi

चाँद ने मानव इतिहास में एक अहम् भूमिका निभाई है। हमने चाँद के आधार पर Calendars बनाये छुटिया बनायीं चाँद और सूर्य दोनों ही पृथ्वी को balance रखते हैं। हम चाँद के इतने करीब होते के बावजूद भी इसके बारे में बहुत सी बाते नहीं जानते आप इस पोस्ट को पूरा पढेंगे तो आपका चाँद के बारे में सोचने का नजरिया ही बदल जायेगा ।

चाँद से जुड़े अनोखे रहस्य

वैसे तो अभी तक चाँद के बनने की तीन theory सामने आई हैं ।

Fishing Theory

fishing theory के अनुसार चाँद कभी धरती का ही हिस्सा रहा होगा जो बाद में अलग हो गया होगा ।

The Condensation Theory

the condensation theory के अनुसार जब सौर मंडल बना होगा तभी चाँद भी धरती के साथ ही बना होगा ।

The Capture Theory

the capture theory के अनुसार चाँद अपने सौर मंडल का हिस्सा न होकर किसी और सौर मंडल का हिस्सा रहा होगा। और उसके orbit से निकल कर हमारे सौर मंडल में चला आया होगा। और धरती के गुरुत्वाकर्षण की वजह से वह  धरती के orbit में फंस गया होगा ।

अब इन theory में से कौन सी सत्य है इबता पाना तो मुश्किल है। मगर चाँद के बारे में चौका देने वाली एक बात सामने आती है की चाँद natural तरीके से नहीं बना है बल्कि इसको किसी उन्नत सभ्यता ने बनाया है और चाँद अंदर से खोखला ।है चाँद पृथ्वी का उपग्रह नहीं बल्कि एक space ship है जिसके अंदर सारा navigation system, engine, और अन्य उपकरण भी लगे हैं और चाँद को किसी intelligence सभ्यता ने धरती के orbit में स्थापित किया है। मतलब अगर धरती पर इतनी उन्नत सभ्यता नहीं थी तो इसको aliens ने ही बनाया है और धरती पर नज़र रखे हुए हैं ।

पुनर्जन्म का रहस्य 

मंगल ग्रह से जुड़े 10 अनोखे तथ्य

यह बात कितनी सच है कि चाँद एक natural satellite नहीं बल्कि एक यांत्रिक उपग्रह है वह भी छोटा नहीं बहुत बड़ा satellite चलिए इसको विस्तार से समझते हैं ।

20 नवम्बर 1969 को Apollo mission के दौरान apollo team ने एक luner model चाँद पर छोड़ा जिससे ही वह चाँद से टकराया तो वहां पर एक 30 foot चौड़ा गड्ढा बन गया और चाँद पर भूकंप जैसी हरकत पैदा  हो गयी जब वह  model चाँद की सतह से टकराया तब चाँद की सतह एक घंटे की तरह बजने लगी। और चाँद की सतह एक घंटे तक क्मपन करती रही जिसके result NASA के scientist ने record किये और वे चकित रह गए क्योंकि ऐसा तभी मुमकिन है। जब चाँद की सतह धातु की बनी हो और अंदर से खोखली हो ।

scientist के मुख्या धरा के अनुसार चाँद और धरती की उम्र सामान होनी चाहिए लेकिन तथ्य  और बैज्ञानिको द्वारा किये गयी research और  calculation से पता चलता है की चाँद धरती से भी पुराना है। क्योंकि खगोलविदों के द्वारा जब चाँद की  मिट्टी material की जांच की गयी तो पता चल कि चाँद 5.3  billion साल पुराना है ।जबकि पृथ्वी केवल 4.5 billion साल पुरानी है इस से पता चलता है की चाँद धरती का हिस्सा नहीं है बल्कि कहीं बाहर से आया है ।

ब्लैक होल क्या है

जाने ताजमहल के कुछ अजीबो गरीब तथ्यों के बारे में

चाँद पर पाए जाने वाले पत्थरो में uranium 236 व Neptunium 237 जैसे element जाये गए जो पृथ्वी पर प्राकृतिक तौर पर नहीं है चाँद की सतह titanium, uranium 236, Neptunium 237 जैसी element से  बना है। जिनको ज्यादातर space ship  चीजो की बहार की सतह में उपयोग किया जाता है। जिस से  सतह ज्यादा तापमान और दबाव को सहन कर सके और चाँद का center भी हलके  हलके तत्वों से बना है इसका मतलब तो साफ़ साफ़ यही निकला रहा है की चाँद अपने अप नहीं बना बल्कि इसको बनाया  है पृथ्वी की density 5.5 gram per centimeter cube है जबकि चाँद की density 3.3 gram per centimeter cube है। जिस से पता चलता है की चाँद अंदर से खोखला है ।चाँद पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र से बाहर है फिर भी वह लगातार पृथ्वी की परिक्रमा कर रहा है। और यह circular पथ पर प्रक्रिमा करता है जबकि इसका electrical path होना चाहिए ।

वज्ञानिक हैरान है की यह circular पथ पर बिना लडखडाये कैसे चलता रहता है। वज्ञानिको के अनुसार चाँद जितना बड़ा होना चाहिए यह उस से भी  बड़ा है और इसका mass जितना होना चाहिए उस से कम है।यह ऐसे तथ्य हैं जो बताते हैं की चाँद अपने आप में बहुत सारे रहय्स छिपाए हुए हैं ।

भारत की 10 रहस्यमयी  जगहें  

यदि हमारे चाँद को alience ने बनाया है। तो इतने बड़े चाँद को बनाये के पीछे उनका क्या प्लान होगा इतना तो तय है की जिन्होंने ने इस चाँद को बनाया  है। उनका प्लान भी बड़ा ही होगा ।

Share post, share knowledge

3 thoughts on “चाँद से जुड़े कुछ अनोखे रहस्य | chand ka rahasya”

  1. Universe is vaccume and our solar system is included in it and according to science sound cannot travel in vacume as no particle is present in vaccume for passing of sound energy from one particle to another so how can they heard a sound of bell

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *