आमिर खान की पूरी जीवनी | Amir khan biography hindi

amir khan jeevani hindi
आमिर खान amir khan biography in hindi
आमिर खान

पूरा नाम – मोहम्मद आमिर हुसैन खान ( आमिर खान )
जन्म –  14 मार्च  1965
माता – जीनत हुसैन
पिता -ताहिर हुसैन
हाईट – 165 cm
जन्म स्थान – मुम्बई,महाराष्ट्र, भारत
आवास – बांद्रा, मुम्बई
पेशा – फिल्म अभिनेता, निर्माता, निर्देशक,  टेलीविज़न कलाकार
कुल सम्पति-  $200 मिलियन

आमिर खान   


आमिर खान बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता, निर्माता और  निर्देशक  होने के साथ साथ एक  सामाजिक कार्यकर्ता हैं। आमिर खान ने अपना करियर बतौर बाल  कलाकार फिल्म यादों की बारात से शुरू किया था। उसके बाद उन्होंने मेहनत की और बॉलीवुड को एक से बढ़कर एक फ़िल्में दी आमिर खान को हिंदी सिनेमा जगत में उनके अतुल्य योगदान के लिए उनको 2003 में पद्म श्री तथा 2010 में पद्म भूषण पुरूस्कार से नवाजा गया है वे बॉलीवुड में प्रसिद्ध सभी अभिनेताओ के मुकाबले कम फिल्मे करते हैं वजह यह है कि वह एक बार में एक ही फिल्म साइन करते हैं और एक एक स्क्रिप्ट को पढ़कर स्टोरी को समझ कर फिल्म करने का निर्णय लेते हैं । और हर बार दर्शको को के लिए कुछ नया करते हैं इसलिए आमिर खान को मिस्टर परफैक्शनिस भी कहा जाता है उनका वो अपनी एक फिल्म में कितनी जान झोंकते हैं वह इसी बात से पता चलता है जब बॉलीवुड की गिनी चुनी फिल्मो में से एक आमिर खान स्टारर फिल्म लगान 2002 में ऑस्कर पुरूस्कार के लिए भी नामांकित हुई जो छोटी बात नहीं है, क्योंकि  भारत की  किसी भी फिल्म को अभी तक ऑस्कर पुरूस्कार नहीं मिल पाया है बस जीतते जीतते रह ही जाती है।आमिर खान और सेलेब्रिटी की तरह न तो किसी अवार्ड फंक्शन में नज़र आते हैं, और ना ही वो किसी टीवी शो में अपनी फिल्म का प्रमोशन करने जाते हैं। मगर फिर भी  बॉक्स ऑफिस पर उनकी फ़िल्में धमाल मचाती हैं इसीलिए   तो  बॉलीवुड की सबसे ज्यादा कमाई करने   वाली फिल्मों की लिस्ट में पहले और  दुसरे नबर पर क्रमशा PK (792 करोड़ ) और दंगल (730 करोड़) है   तथा तीसरे नम्बर पर है प्रभास  की फिल्म बाहुबली (650 करोड़ ) और चौथे पर सलमान खान की बजरंगी भाईजान (626 करोड़) तो और ये ही नहीं बॉलीवुड की   सबसे ज्यादा  कमाई करने वाली फिल्मो की top ten लिस्ट में आमिर खान की    3 इडियट और धूम 3 भी शामिल है आमिर  खान अभी बॉलीवुड में कार्यरत हैं और अपनी Perfect फिल्मो को दर्शको तक पहुचाते रहते हैं ।

प्रारंभिक जीवन 


आमिर खान का पूरा नाम मोहम्मद आमिर हुसैन खान है ।जिनका जन्म 14 मार्च 1965 को मुंबई में हुआ आमिर खान के पिता का नाम ताहिर हुसैन खान है जो खुद एक फिल्म प्रोडूसर और मशरूर निर्देशक थे। आमिर खान की माँ का नाम जीनत हुसैन था ।वे  बनारस की रहने वाली थी लेकिन लखनऊ में रहती थी उनके पूर्वज उत्तर प्रदेश के जिला हरदोई के रहने वाले थे जहाँ आमिर खान बहरूपिया बनकर भी गए थे तथा पिता भोपाल के रहने वाले थे । आमिर खान दो भाई व दो बहने हैं जिनमे आमिर खान सबसे बड़े हैं।

शाह रुख खान की बायोग्राफी 

आमिर खान ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा J.B पेटिट स्कूल से पूरी की तथा माध्यमिक स्कूल की शिक्षा एनी हाई स्कूल से की और फिर 8 पास करके दुसरे स्कूल बोम्बे स्कॉटिश स्कूल में दखिला लिया। और हाई स्कूल की परीक्षा पास की इंटरमीडियट की पढाई उन्होंने नरसी मूंजी collage से पूरी की और फिर फिर फिल्मो की व्यस्तता के कारण उस वक़्त उन्होंने पढाई छोड़ दी थी। आमिर खान कहते थे की आर्थिक तंगी के चलते उनको बचपन में काफी परेशानियों  गुजरना पड़ा क्योंकि उनके पिता ताहिर खान एक फिल्म प्रोडूसर थे लेकिन उनकी फिल्मे असफल रही।  इसलिए जिनसे उन्होंने कर्ज ले रखा था उनके रोजाना  दिन  में  10 -12 कॉल आते रहते थे । लेकिन बाद में उनके पिता ने प्रोडूसर से निर्देशक का काम भी किया और तब जाकर थोडा हालत सुधरी जब आमिर खान 16 साल के थे तब  उन्होंने  40 मिनट की एक साइलेंट फिल्म (मूक फिल्म) बनाई। जिसे परानोईया का नाम दिया गया। इस फिल्म में आमिर खान मुख्य किरदार में थे ।और फिल्म का निर्देशन किया था उनके स्कूल के दोस्त आदित्य भट्टाचार्य ने इस फिल्म का पूरा खर्च श्रीराम लागू ने उठाया था जो आदित्य भट्टाचार्य को अच्छी तरह से जानते थे आमिर खान के पिता ताजिर खान जिनको कई मुश्किलों से गुज़रना पड़ा इसलिए वो नहीं चाहते थे कि उनका फिल्म लाइन में जाये।  वे आमिर को पढ़ा लिखा कर एक अच्छा डॉक्टर बनाना चाहते थे। लेकिन  आमिर खान ने फिल्मो में जाने का ही निर्णय लिया आमिर खान की शादी कम उम्र में ही रीना दत्ता के साथ हो गयी थी ।

अब स्कूल को छोडकर अभिनय को ही  उन्होंने अपना करियर चुन लिया था इसलिए पैसे कमाने के के लिए उन्होंने अवतार नाम का एक थिएटर ज्वाइन किया और एक साल तक उन थिएटर में काम किया जहाँ से उनोने काफी कुछ सीखा  इस दौरान उन्होंने एक गुजराती नाटक केसर बिना में भी एक छोटा सा रोल अदा किया तथा बाद में दो हिंदी नाटक और एक अंग्रेजी नाटक में भी काम किया। उसके बाद आमिर खान अपने चाचा नासिर हुसैन के साथ बतौर सहायक निर्देशक का काम करने लग गए जिन्हने उस वक़्त मंजिल मंजिल, जबरदस्त जैसी फिल्मो का निर्माण किया । असिस्टेंट की भूमिका से जब आमिर खान परदे पर  आये तो तब उन्हें किन इन मुसीबतों का सामना करना पड़ा वो जानते हैं उनके फ़िल्मी सफ़र के बारे में।

आमिर खान का फ़िल्मी सफ़र 


यूँ तो आमिर खान ने अभिनय की दुनिया में अपना नन्हा कदम अपने चाचा नासिर हुसैन खान की यादो की बारात (1973)  फिल्म से  बाल कलाकार के रूप में रखा था लेकिन उसको हम आमिर खान के फिल्म के करियर की शुरवात नहीं कह सकते क्योंकि उस वक़्त आमिर को ही पता नहीं रहा होगा की आगे चलकर मुझे स्टार बनना है या डॉक्टर बनना है या इंजिनियर ।

आमिर खान फिर 11 साल के बाद दुसरी बार परदे पर नज़र आये 1984 में आई फिल्म होली में जिसमें शायद आप उनको पहचान भी नहीं पाएंगे। लेकिन उनको असली कामयाबी मिली अपनी पहली फिल्म क़यामत से क़यामत तक से जो 1988 में रिलीज़ हुई इस फिल्म में पहली बार आमिर खान मुख्या किरदार में बड़े परदे पर जूही चावला ले साथ  नज़र आये। इन दोनों की जोड़ी ने इस फिल्म से बॉक्स ऑफिस पर धूम मचा दी थी इस में एक गाना है पापा कहते हैं बड़ा नाम करेगा में उनकी पहली पत्नी रीना भी नज़र अती हैं। क़यामत से कयामत फिल्म के लिए आमिर खान को सर्वश्रेष्ठ नवोदित कलाकार का अवार्ड दिया गया था अगले साल ही साल आमिर खान की फिल्म राख भी रिलीज़ हो गयी थी जिसने आमिर को काफी शौहरत दी।

आमिर खान को  फिल्म क़यामत से क़यामत और राख के लिए स्पेशल जूरी अवार्ड दिया गया था जो राष्ट्रीय पुरुस्कार है आमिर खान ने देवानंद की फिल्म अवल नबर में भी काम किया  था जिसमे आमिर खान एक क्रिकेटर की भूमिका निभा रहे थे आमिर का कहना है की यह एक ऐसी फिल्म है जिसको आमिर खान ने बिना स्क्रिप्ट पढ़े साइन कर दिया था क़यामत से क़यामत हिट हो जाने की बाद भी आमिर खान कुछ ऐसी फ़िल्में कर रहते थे जिस से उनको कुछ ख़ास सफलता नहीं मिल पा रही थी ।उसके बाद 1992 में  एक फिल्म आई जिस से वो बन गए थे बॉक्स ऑफिस के सिकंदर और उस फिल्म का नाम था जो जीता वही सिकंदर इस फिल्म से आमिर खान ने बॉलीवुड में खुद के पैर जमा लिए थे। और इंडस्ट्री में अच्छी खासी पहचान बना ली थी। आमिर खान उन एक्टर्स में से हैं जो अपनी फिल्म की एक एक डिटेल जानना कहते हैं तभी हर एक short  वे perfect नज़र आते हैं  90 के दशक में आमिर खान ने कॉमेडी एक्शन और रोमांटिक फिल्मे देकर एक जबर्दस्त मुकाम बना लिया था उन्होंने  रोमांटिक ड्रामा दिल (1990), रोमांटिक राजा हिन्दुस्तानी (1996), इसके लिए उन्हें फिल्मफेयर की तरफ से बेस्ट एक्टर का पुरस्कार भी मिला, और ड्रामा फिल्म सरफरोश (1999) भी शामिल है. हिंदी फिल्मो के अलावा उन्होंने एक कैनेडियन-भारतीय फिल्म अर्थ (Earth) (1998) में भी अभिनय किया है.जैसी फ़िल्में दी ।

मनीषा कोइराला के साथ आयी उनकी सुपरहिट फिल्म मन में उन्होंने बहुत ही अच्छी रोमांटिक स्टोरी को प्ले किया था जिसके गाने भी बहुत popular  हुए थे। और राजा हिन्दुस्तानी में उन्होंने अपने किरदार को इतने  शिद्दत से निभाया की उनको इस फिल्म के लिए फिल्म फेयर अवार्ड से भी नवाज़ा गया इस फिल्म के गाने परदेसी परदेसी जान नहीं मुझे छोड़ के गाना आज तक भी लोगो की जुबा पर रहता है ।

90 के दशक में आमिर इतनी बुलंदियों को छू चुके थे की उन्होने अपना production house खोल लिया और सुपर हिट फिल्म लगान  दी जिसको ऑस्कर में भी best foreign language film के लिए  नामांकित भी  किया गया इस फिल्म में आमिर ने बतौर अभिनय के साथ साथ बतौर निर्देशक भी काम किया  इस फिल्म के लिए उन्हें बेस्ट एक्टर का अवार्ड भी मिला। और ‘लगान’ को साल की सर्वश्रेष्ट फिल्म का दर्जा दिया गया। इसके बाद 4-5 सालो तक आमिर खान धीरे ले पद गए थे लेकिन 2006 में उन्होंने दो सुपरहिट फिल्म फना और रंग दे बसंती रिलीज़ की. उसी साल उन्होंने अपने करियर की शुरुवात एक निर्माता के रूप में भी की। और 2007 में तारे जमीन पर का निर्माण किया  ये तीनो फिल्मे बॉक्स ऑफिस पर हिट रही ।इसके लिए उन्हें सर्वश्रेष्ट निर्देशक (Best Director) का भी पुरस्कार मिला।

इसके बाद आमिर खान की ऐसी वापसी हुई की बॉलीवुड के बॉक्स ऑफिस पर बनाये गए कई रिकॉर्ड टूट गए उन्होंने गजनी (2008), 3-इडियट्स (2009), धुम-3 (2013), पीके (2014), दंगल (2016) लगातार 5 फ़िल्में ऐसी दी कि ये पांचो फिल्म बॉलीवुड की सर्वाधिक कमाई करने वाली 10 फिल्मो में शामिल हो गइ ।

प्रेम प्रसंग/ वैवाहिक जीवन  


आमिर खान  का विवाह 18 अप्रैल 1986 रीना दत्ता से हुआ जिन्होंने क़यामत से कयामत फिल्म में भी एक छोटी सी भूमिका निभाई    अपनी पहली पत्नी यानी  रीना दत्ता से उनके दो बचे हैं बेटा जुनैद  बेटी इरा जैसे कहते हैं की हर मर्द की सफलता के पीछे एक औरत का हाथ       होता है वैसे ही रीना ने भी आमिर के करियर को  बनाने में काफी सहयोग किया। मगर साल 2002 फिर भी दिसम्बर 2002 में  दोनों के बीच तलाक हो  गया और दोनों बचो की कस्टडी रीना को दे गयी खान का दूसरा विवाह किरन राव से हुआ, जो लगान फिल्म बनाते समय आशुतोष गोवारिकर की सह-निर्देशक थी. 5 दिसम्बर 2011 को उन्हें एक बेटा, जिसका नाम हे आजाद राव खान।

टीवी सीरियल 


स्टार प्लस पर आयोजित किये जाने वाले प्रोग्राम सत्यमेव जायते को आमिर खान होस्ट करते हैं और लोगो को शो के माध्यम से अच्छा सन्देश देते हैं राजनीती से उनका ज्यादा संबंद नहीं हैं इसलिए उस पर वो कोई टिप्पड़ी नहीं करते ।

तो कैसी लगी आपको आमिर खान की पूरी जीवनी | Amir khan biography hindi कमेंट में जरूर बताएं

Share post, share knowledge

4 thoughts on “आमिर खान की पूरी जीवनी | Amir khan biography hindi”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *