आरोग्य सेतु ऐप ( Aarogya Setu app )

आरोग्य सेतु ऐप क्या है -

आरोग्य सेतु ऐप क्या है –

तमाम लीक्स रिपोर्ट सामने आने के बाद भारत सरकार ने आधिकारिक तौर पर कोरोना वायरस या COVID-19 ट्रैकिंग एप आरोग्य सेतु ( Aarogya Setu )  को लॉन्च कर दिया है। आरोग्य सेतु एप को राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र ने इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के साथ मिलकर तैयार किया है। कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए भारत सरकार ने आरोग्य सेतु ऐप लॉन्च किया है। इस ऐप यूजर को किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने पर जानकारी देगा। इसके साथ ही यह डेटा को भारत सरकार के साथ भी शेयर करता है ताकि संक्रमित व्यक्ति का जल्द से जल्द इलाज शुरू हो सके।

आरोग्य सेतु ऐप क्या है -

Aarogya Setu app कैसे काम करेगा ऐप –

Aarogya Setu app जिसका संस्कृत में अर्थ है हेल्थ ब्रिज। ऐप में एक चैटबॉट भी है, जिसमें यूजर को कोरोना महामारी से जुड़े सवालों के सही जवाब देते हैं। इसके जरिए न सिर्फ यूजर अपने अंदर कोरोना के लक्षणों की पहचान कर सकेंगा बल्कि ऐप यह भी पता लगाता है कि जाने-अनजाने में यूजर किसी कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में तो नहीं आया। इसके आधार पर यह यूजर को अगला कदम उठाने की सलाह देती है। अगर यूजर ‘हाई रिस्क’ एरिया में हैं तो ऐप उसको कोरोना वायरस टेस्ट कराने, हेल्पलाइन पर फोन करने और नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर जाने के लिए सलाह देती है। इसके लिए ऐप को कोरोना पीड़ितों के डेटाबेस से जोड़ा गया है, हालांकि यह धीरे-धीरे ऐप खुद का डेटाबेस भी तैयार करेगा। ऐप यूजर को इस महामारी से बचाने के टिप्स देती है बल्कि संक्रमित पाए जाने पर सरकार तक जानकारी पहुंचाती है।

ब्लूटूथ और जीपीएस का करेगा इस्तेमाल –

आरोग्य सेतु ऐप आपको यह बताने के लिए आप जोखिम में हैं, ब्लूटूथ और जीपीएस का इस्तेमाल करता है।  जहां जीपीएस रियल टाइम में व्यक्ति की लोकेशन को ट्रैक करता है, ब्लूटूथ जब व्यक्ति नोवल कोरोना वायरस से संक्रमित किसी व्यक्ति के नजदीक आने पर ट्रैक करेगा।  यह 6 फीट तक की दूरी पर आने पर ट्रैक करता है।  आरोग्य सेतु का भारत सरकार के सामने आए हुए मामलों का डेटा बेस का एक्सेस रहेगा।

कोरोना कवच की तरह इसमें भी यूजर्स को फोन नंबर के जरिए रजिस्टर करना होगा।  ऐप रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर वन टाइम पासवर्ड (OTP) भेजेगा।  आप अपना नाम, उम्र, आदि की जानकारी दे सकते हैं, लेकिन यह पूरी तरह वैकल्पिक है।  कोरोना कवच से अलग आरोग्य सेतु आपके आसपास के क्षेत्र को तब तक ट्रैक करता रहगा, जब तक आपने लोकेशन एक्शन ट्रैकिंग को अपने फोन की सेटिंग्स में ‘always’ पर सेट कर रखा है।  इसके अलावा आपको ब्लूटूथ भी ऑन रखना होगा।  कोरोना कवच में ट्रैकिंग के लिए एक घंटे का समय लगता है, इसमें ऐसा नहीं है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के Live Tweet भी देख सकेंगे

ऐप के होम स्क्रीन पर पहुंचने पर यह यूजर को लोकेशन के जरिए बताएगा कि वह सेफ जगह पर है या नहीं। एंड्रॉयड यूजर स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा किए गए लाइव ट्वीट भी देख सकेंगे। हालांकि एंड्ऱ़ॉयड और एपल दोनों ही वर्जन में लगभग एक जैसे फीचर्स मिलेंगे, जिसमें कोरोना से जुड़ी एडवायजरी भी शामिल हैं।

पिछले हफ्ते आई रिपोर्ट के मुताबिक नीति आयोग भी कोरोना ट्रैकर ऐप पर काम कर रहा है, जिसका नाम कोविन-20 है। नेक्स्ट वेब का दावा है कि आरोग्य सेतु ऐप कोविन-20 का ही फाइनल वर्जन है। इसके अलावा भी कई राज्य सरकारें कोरोना ट्रैकिंग ऐप लॉन्च कर चुकी है ताकि लोग सतर्क रहें और इस वायरस से जल्द से जल्द निपटा जा सके।

11 भाषाओ को सपोर्ट करेगा Aarogya Setu app

Aarogya Setu app को हिंदी, अंग्रेजी और मराठी समेत 11 भाषाओं में उपलब्ध है। इस एप में कोरोना वायरस के रोकथाम के भी तरीके बताए गए हैं। इसके अलावा यह एप आपकी लोकेशन और ट्रैवल हिस्ट्री के आधार पर बताएगा कि आपको कोरोना संक्रमण का खतरा है या नहीं।

6 फीट के दायरे में आने पर मिलता है नोटिफिकेशन –

यह ऐप डिवाइस से यूजर के डेटा को एनक्रिप्टेड फॉर्म में लेता है। एनक्रिप्शन कोड जानने के बाद यह यूजर के डेटा को सर्वर पर भेजता है। इसके बाद यूजर को पता चल जाता है कि वे किसी कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति से संपर्क में आए थे या नहीं। इसके लिए ऐप स्मार्टफोन का ब्लूटूथ इस्तेमाल करता है और संक्रमित व्यक्ति के 6 फीट के दायरे में आने पर यूजर को नोटिफाइ करता है।

Aarogya Setu app कैसे download करें ?

आरोग्य सेतु ऐप ( Aarogya Setu app ) ऐंड्रॉयड और iOS के लिए रोलआउट किया गया है। इसे आप Apple app store और Google Play Store से डाउनलोड कर सकते हैं।


यह भी पढ़ें –

नाम और जन्मतिथि से Online PAN number पता करें

PAN Card खो गया या चोरी हो गया तो नए पैन कार्ड के लिए कैसे apply करें

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना क्या है पूरी जानकारी

SBI ATM के लिए नया PIN कैसे बनायें पूरी जानकरी हिंदी में

क्या है भीम एप्प रेफेरल योजना BHIM cashback

घर बैठी महिलाओं के लिए मोदी का तोहफा E haat योजना

Share post, share knowledge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *