कुरान की 10 आयतें जो वैज्ञानिक तौर पर गलत सिद्ध हुई

कुरान की 10 आयतें जो वैज्ञानिक तौर पर गलत सिद्ध हुई

1. दूध गाय के पेट से आता है ?

कुरान की सूरह 16 आयात 66 में लिखा गया है कि  तुम्हारे लिए चौपायों में से एक बड़ी शिक्षा-सामग्री है, जो कुछ उनके पेटों में है उसमें से गोबर और रक्त के मध्य से हम तुम्हें विशुद्ध दूध पिलाते हैं, जो पीने वालों के लिए खुशगवार है, मतलब कुरान के हिसाब से दूध पेट से आता है जबकि Science इस बात को सिद्ध कर चुका है कि किसी भी मादा जानवर के थन (udder) में ही milk produce होता  है। क्योंकि हर अंग का अपना अलग अलग कार्य होता है आप गूगल पर भी Search करके देख लीजिये।

2. Birds कैसे उड़ती हैं ?

कुरान की सूरह 16 आयात 79 में लिखा गया है क्या उन्होंने पक्षियों को आकाश में वशीभूत नहीं देखा ? उन्हें तो बस अल्लाह ही थामे हुए होता है। निश्चय ही इसमें उन लोगों के लिए कितनी ही निशानियाँ हैं जो ईमान लाएँ। यानी आसमान में उड़ने वाली चिड़ियाँओं को अल्लाह ने थाम रखा है वरना वो नीचे गिर जाएँगी अरे भाई इसमें मुझे कुछ नहीं कहना आप खुद ही सोचें।

3. नाव कैसे तैरती है ?

कुरान की सूरह 17 आयात 66 के अनुसार  क्या तुमने देखा नहीं कि नौका समुद्र में अल्लाह के अनुग्रह से चलती है, ताकि वह तुम्हें अपनी कुछ निशानियाँ दिखाए। निस्संदेह इसमें प्रत्येक धैर्यवान, कृतज्ञ के लिए निशानियाँ हैं। मतलब जनाब का कहना है कि उसमें जो नौका चलाने वाला होता है उसका कोई रोल नहीं और कर्म नाम की कोई चीज ही नहीं होती यानी अगर इंसान किसी Ship को 60 km/hr की रफ़्तार से चलाना चाहे और अल्लाह की मर्जी हो कि वो 20 km/hr से   चले तो आप चाहे कितनी speed बढ़ा लो वह नहीं बढ़ने वाली, लेकिन आज तक के इतिहास में तो ऐसा हुआ ही नहीं। आप जितनी speed से ship या नौका को चलाना चाहे वह आपके निर्देशानुसार ही चलेगी अगर उसमें कोई खराबी न हो।

4. मरे हुए पन्छी फिर से जीवित हो सकते हैं ?

कुरान की सूरह 2 आयात 260 के अनुसार  “और याद करो जब इबराहीम ने कहा, ऐ मेरे रब! मुझे दिखा दे, तू मुर्दों को कैसे जीवित करेगा ? (रब ने) कहा,” क्या तुझे विश्वास नहीं ? उसने कहा, क्यों नहीं, किन्तु यह निवेदन इसलिए है कि मेरा दिल संतुष्ट हो जाए। रब ने कहा चार परिन्दे लो और उनको अपने पास मॅगवा लो और टुकड़े टुकड़े कर डालो फिर हर पहाड़ पर उनका एक एक टुकड़ा रख दो उसके बाद उनको बुलाओ फिर देखो  वह सब के सब तुम्हारे पास दौड़े हुए आते हैं और समझ रखो कि ख़ुदा बेशक ग़ालिब और हिकमत वाला है” लेकिन आजतक तो कोई पक्षी मरने के बाद जिन्दा नही हुआ। खैर कुरान है कुछ भी हो सकता है।

5. चाँद की रौशनी ?

कुरान की सूरह 71 आयात 16 में लिखा गया है “और उनमें चन्द्रमा को प्रकाश और सूर्य को प्रदीप बनाया ”  लेकिन सत्य तो यह है कि चाँद का अपना कोई प्रकाश नहीं है चाँद तो सूरज की रौशनी से प्रकाशित होता है और आपने  चन्द्रग्रहण तो देखा ही होगा,  ग्रहण तभी लगता है जब सूरज  की रौशनी चाँद पर नहीं पड़ती । यदि चाँद का अपना प्रकाश होता तो फिर ग्रहण कभी नहीं लगता, इस सत्य को तो अपने अपनी आँखों से भी देखा होगा।

6. चाँद के दो दुकड़े हुए थे ?

कुरान की 10 आयतें जो वैज्ञानिक तौर पर गलत सिद्ध हुई
इतने से भाग में है Rima Ariadaeus

कुरान की सूरह 54 आयात 1 में लिखा हुआ है “क़यामत क़रीब आ गयी और चाँद दो टुकड़े हो गया” लेकिन दुनिया भर के  Scientist चाँद के दो टुकडो की बात को सिरे से नकार चुके हैं,  कुछ कट्टरपंथी मुस्लिम जबरदस्ती सबूत देने की कोशिश करते है और दिखाते  है कि चाँद पर एक लम्बी लकीर है वह इस बात का सबूत है कि चाँद के दो टुकड़े हुए थे। लेकिन मैं आपको बता दूं कि चाँद पर एक 300 km लम्बी लाइन है जिसको scientists ने नाम दिया है Rima Ariadaeus अब पुरे चाँद का circumference 10,921 km है, अब अगर 10,921 km में 300 km छोटी सी लाइन दिखे तो भला कैसे कोई यकीन करे की चाँद के टुकड़े हुए थे। दूसरी बात मैं आपको बता दूं कि इस तरह की lines को Rill कहा जाता है जो मंगल ग्रह पर भी हैं और शुक्र ग्रह पर भी और एक नहीं बल्कि बहुत हैं।

7. सूर्यास्त धरती पर होता है ?

कुरान की सूरह 18 आयात 66 में लिखा हुआ है “यहाँ तक कि जब वह सूर्यास्त-स्थल तक पहुँचा तो उसे मटमैले काले पानी के एक स्रोत में डूबते हुए पाया और उसके निकट उसे एक क़ौम मिली। हमने कहा, “ऐ ज़ुलक़रनैन! तुझे अधिकार है कि चाहे तकलीफ़ पहुँचाए और चाहे उनके साथ अच्छा व्यवहार करे।”

अब धरती पर यह सूर्यास्त स्थल कहा से आ गया और सूरज तो धरती से diameter में 109 गुना बड़ा है और सूरज में 1300000 पृथ्वी समा सकती है तो भला सूर्य पृथ्वी में कैसे डूब सकता है ये तो बड़ा ही असत्य है।

8. धरती चपटी है ?

कुरान की 10 आयतें जो वैज्ञानिक तौर पर गलत सिद्ध हुई
आपको कौन सी धरती अच्छी लग रही है चपटी या गोल

कुरान की सूरह 20 आयत 53 में लिखा गया है कि  “वही है जिसने तुम्हारे लिए धरती को बिछौना बनाया और उसने तुम्हारे लिए रास्ते निकाले और आकाश से पानी उतारा। फिर हमने उसके द्वारा विभिन्न प्रकार के पेड़-पौधे निकाले। और फिर यही बात दुबारा सूरह 71 आयत 19 में भी लिखी है कि “और अल्लाह ने तुम्हारे लिए धरती को बिछौना बनाया ”

लेकिन आज इस बात से बच्चा बच्चा वाकिफ है की धरती Spheroid है इसी वजह से हमारा चाँद, International space station, Hubble space telescope और कई satellite हमारी धरती के चक्कर लगा रहे हैं ।

यह भी पढ़ें – International Space Station क्या है 

9. इंसानों का वीर्य कहा से निकलता है ?

अगर आप कुरान पढेंगे तो सूरह 86 आयत 5, 6 और 7  जरुर पढना जिसमें लिखा हुआ है कि

5 – ” अतः मनुष्य को चाहिए कि देखे कि वह किस चीज़ से पैदा किया गया है।”

6 – “वह उछलते हुए पानी से पैदा किया गया है।”

7- “जो पीठ और सीने की हड्डियों के बीच में से निकलता है।”

इस बात को आज science के student भली भांति जानते हैं कि वीर्य Testicle में बनता है और Testicle ( वृषण ) का काम ही यह है। जैसे हमारे शरीर में Heart, Lungs, Brain, Blood, Bones, Testicle, muscles, eyes सबका अलग अलग  काम है इसी   तरह से Testicle का काम वीर्य बनाना है ।

10. आकाश क्या है ?

कुरान की सूरह 20 आयत 53 में लिखा गया है “और जब आकाश की खाल उतार दी जाएगी” वही एक दूसरी आयत है सूरह 40 आयत 64 “अल्लाह ही तो है जिसने तुम्हारे वास्ते ज़मीन को ठहरने की जगह और आसमान को छत बनाया और उसी ने तुम्हारी सूरतें बनायीं तो अच्छी सूरतें बनायीं और उसी ने तुम्हें साफ सुथरी चीज़ें खाने को दीं यही अल्लाह तो तुम्हारा परवरदिगार है तो ख़़ुदा बहुत ही मुतबर्रिक है जो सारे जहाँन का पालने वाला है”।

यह भी पढ़ें – ब्रह्माण्ड कितना बड़ा है आइये जानते हैं

NASA, ISRO ESA कितनी दूर दूर अपने अंतरिक्ष यान भेज चुके हैं लेकिन उनके अंतरिक्ष यान आसानी से चले गए किसी छत से नहीं टकराए और न ही उन्हें आजतक आसमान किसी छत की तरह दिखा। आकाश का मतलब होता है शून्य (0) nothing, space तो फिर कुरान में यह आकाश छत कहा से बन गया। और सूरह 20 आयत 53 में तो हद ही पार हो गयी, आकाश की खाल उतार दी जाएगी, जब आकाश कुछ है ही नहीं तो फिर उसकी खाल कैसे उतारी जा सकती है ये अल्लाह ही जाने या मोहम्मद साहब ही जाने  ।

नीचे आपकी जानकरी के लिए कुछ महत्वपूर्ण लेख हैं जिन्हें आप पढ़ सकते है –

सौरमंडल से भी बहार चला गया NASA का वायेजर 2 अंतरिक्ष यान 

हब्बल स्पेस टेलेस्कोप क्या है और यह कैसे काम करता है | Hubble space telescope

अंतरिक्ष में इंसान की कामयाबी के 10 एतिहासिक क्षण

चाँद से जुड़े कुछ अनोखे रहस्य | chand ka rahasya

Share post, share knowledge

2 thoughts on “कुरान की 10 आयतें जो वैज्ञानिक तौर पर गलत सिद्ध हुई”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *