10 सवाल जिनका जवाब विज्ञान के पास भी नही है

10 सवाल जिनका जवाब विज्ञानं के पास भी नहीं

मानव इतिहास में मानव ने काफी सारी तरक्की कर ली है। अणु परमाणु और god particle खोजने से लेकर ग्रह उपग्रहों पर पर जाना और Solar system से बाहर यान भेजने तक । कई महान महान कार्य कर चूका है । लेकिन अभी भी कुछ सवाल ऐसे हैं ,जिनका जवाब हमारा science भी नहीं ढून्ढ पाया। उनमे से 10 सवाल मैं आपको बताने जा रहा हूँ ।

10 सवाल जिनका जवाब विज्ञान के पास भी नही है

1.क्या भगवान है ? 


हम इश्वर को कई नामो से जानते हैं जैसे की God, अल्लाह, भगवान, खुदा, लगभग सभी मनुष्य यही मानते हैं कि इस श्रृष्टि का निर्माण ईश्वर ने ही किया है। परन्तु विज्ञानिको में इस बात का हमेशा से ही मतभेद होता आ रहां है । कुछ वैज्ञानिक ईश्वर को मानते हैं तो कुछ नहीं । मगर ज्यादातर मानते हैं। Science के अनुसार लगभग 14 अरब साल पहले एक भयंकर विस्फोट (big bang ) हुआ था जिस से इस ब्रह्माण्ड का निर्माण हुआ। परन्तु यह big bang क्यों हुआ ? और इस से पहले क्या था ?  इस सवाल का उत्तर विज्ञानं के पास नहीं है big bang धरती पर सबसे पहले जीवन कि हलचल कैसे हुई इस विषय पर भी Scientist आपस में उलझे हुए हैं।

यह भी पढ़े- विज्ञान vs भगवान

big bang Quantam physics कि रहस्यमयी दुनिया, जीवन जीने लायक धरती, सूर्य से इसकी बिलकुल सही दूरी, इसका वातावरण, इसका चन्द्रमा, ऋतुओ का आना जाना, दिन रात, नर-नारी का होना सब कुछ इतना व्यवस्थित है मानो किसी ने सोच समझकर बनाया हो । यही सारी बाते हमें यह सोचने पर मजबूर कर देती है कि सृष्टि अपने आप नहीं बनी बल्कि इसको किसी ने बनाया है और उसी को हम ईश्वर कहते हैं।  जितने भी हम पृथ्वी पर हैं सब उसके बच्चे हैं, मगर अफ़सोस कि धर्म और जात-पात के चक्कर में इंसान अपने ही भाई बहनों से लड़ता रहता है ।

2.ब्रह्माण्ड किस चीज से मिलकर बना है ?


जो material भी हम अपने आस पास देखते है  Atom से बना है मगर समस्त ब्रह्माण्ड का केवल 5% हिस्स्सा ही Atom से बना हुआ है। बाकी का 95% हिस्सा किस material से बना है ।यह हम  नहीं जानते अब तक Scientist ने जितना भी अध्यन किया उस  से पता चला है। कि Universe का ज्यादातर भाग दो चीजो से मिलकर बना है।

  1. डार्क मैटर – इसके बारे में कहा जाता है कि यह Galaxies को आपस में बाँधी रखती है।
  2. डार्क एनर्जी- इस उर्जा के कारण यह ब्रह्माण्ड लगातार फ़ैल रहा है।

क्योंकि Dark Energy और Dark matter ना तो दिखाई देते हैं ।और ना ही किसी electromagnetic radiation से डिटेक्ट किये जा सकते हैं इनके बारे में जानना विज्ञानं के लिए लगभग नामुमकिन है।

3.Black Hole के अन्दर क्या है 


जिनको ब्रह्माण्ड के बारे में जानने कि इच्छा हो उन्होंने एक न एक बार तो ब्लैक होल के बारे में जरुर सुना होगा।

Black hole (कला छिद्र) में गुरुत्वाकर्षण शक्ति इतनी अधिक होती है कि यह light को भी अपनी और खींच देता है। यानि अगर आप किसी टोर्च से ब्लैक होल के उपर से दूसरी तरफ प्रकाश भेजने कि सोचेंगे तो आपकी टोर्च कि रौशनी सीधे न जाकर मुड जाएगी और नीचे ब्लैक होल में चली जाएगी । पिछले कुछ दशको में हमने ब्लैक होल के बारे में काफी अध्ययन किया मगर हम अभी तक यह नहीं जानते कि उसकी ब्लैक होल के उस पार क्या है।

ब्लैक होल के बारे में अधिक जाने 

Einstein के अनुसार ब्लैक होल अनन्त रूप तक छोटा होता चला जाता है। जबकि वर्तमान खगोल शास्त्रियों के अनुसार यह दुसरे ब्रह्माण्ड में जाने का द्वार भी हो सकता है। जिसकी शक्ति का स्तेमाल करके हम काफी कम समय में दुसरे ब्रह्माण्ड में प्रवेश कर सकते हैं।

4.जीव चेतना कैसे काम करती है ? 


सभी जीवो में जागरूकता है, हम अपने आस पास के वातावरण को समझ सकते हैं, हम अपने अस्तित्व के बारे में सवाल कर सकते हैं, हम अपना मकसद जानने की उत्सुकता रखते हैं।  तथा एक दुसरे जीवो से बाते कर सकते है। जो हमें जीवो में सर्वोत्तम बनाती है मगर हमें नहीं पता कि यहाँ कहा से आती है ओर कैसे काम करती है। (चेतना को आप आत्मा भी कह सकते हैं )

हमारा दिमाग Central computer कि तरह काम करता है तथा सभी शारीरिक क्रियाओ को संभालता है। हमारे दिमाग के scanning से हमको ज्ञात होता है कि हमारे Mind के 100 अरब से भी ज्यादा nerve cells कितने जटिल तरीके से Electric signal का आदान प्रदान करते हैं मगर दिमाग और चेतना एक नहीं है। क्योंकि  Electric signal हमको यह नहीं बताते कि कैसे यह भौन्तिक दिमाग चेतना का निर्मान कर देता है।

यह भी पढ़े- भगवद्गीता के 10 श्लोक जो बदल सकते हैं आपका जीवन

neer death experience और से पता चलता है कि जीव चेतना तब भी काम करती है। जब दिमाग काम करना बंद कर देता है तो यह चेतना है क्या और कहा से आती है इसको आजतक विज्ञान भी नहीं समझ पाया ।

5.सपने क्यों होते हैं ?


Science इस बात का तो पता लगा चूका है कि हम सपने कैसे देखते हैं। क्योंकि सोते समय जब हमारे दिमाग के nerve cells Electric signal का आदान-प्रदान करते हैं तब हम सपने देखने लगते हैं।  मगर हम सपने क्यों देखते हैं ? इसका क्या कारण है इसका आजतक किसी को भी पता नहीं चल पाया है।

6.क्या भूत होते हैं ?


इस बारे में कुछ लोगो का मानना है कि भूत होते हैं तो कुछ लोग भूत प्रेत कुछ नहीं मानते । यूँ तो भूतो के देखे  जाने और उनके सबूत के तौर पर भूतो कि Photo और videos Internet पर भरे पड़े हैं ।मगर science को अभी तक कोई ठोस proof नहीं मिला है जिस से वो ये माने कि भूत होते हैं।

इसके लिए Science ने electromagnetic field detector और Thermal Imaging Camera भी बनाया था ।लेकिन उनके हाथ कुछ ऐसा नहीं लगा जिस से यह सिद्ध हो कि भूत होते हैं मगर कुछ लोग (जिन्होंने देखा है ) भूत होने का दावा  करते है ।

7.Placebo Effect कैसे काम करता है ?


placebo effect दरअसल डोक्टरो द्वारा बोले जाना वाला एक झूट है । जिसमें मरीज को कहा जाता है कि वह जल्दी ही ठीक हो जायेगा और वह सचमें ठीक होने लगता है। दुनिया में लाखो लोग इस effect से ठीक होते आ रहे हैं, Dr. यह इसका स्तेमाल हर मरीज पर नहीं करते, बल्कि जिनके ठीक होने की उम्मीद होती है उनपर करते हैं ।और research में पाया गया कि जीतने मरीजो पर भी Placebo effect का स्तेमाल किया गया वह जितनी जल्दी ठीक होने चाहिए थे उस से जल्दी ही ठीक हो गये।

8.मरने के बाद क्या होता है ?


पुरातन समय से चली आ रही प्रथा के अनुसार लोग यह मानते हैं कि मरने के बाद आत्मा अपने सम्पूर्ण कर्मो के अनुसार स्वर्ग या नर्क में जाती है तथा कुछ लोग पुनार्जीवन पर भी यकीन रखते है । डॉ. ये तो जान लेते है कि व्यक्ति अब करने वाला है मगर ये आज तक एक अनसुलझा रहस्य बना हुआ है कि मनुष्य मरने के बाद कहा जाता है।

9.Blood Types (खून के प्रकार ) ?


वैज्ञानिको  ने यह पता तो अलग लिया है कि blood cells कैसे बनते हैं और क्या करते हैं ।लेकिन अभी तक भी हमारी science इस बात का पता नहीं लगा पायी है कि इंसानों में ऐसे अलग अलग blood groups क्यों बनाये गए हैं ।इस से क्या सिद्ध होता है ये तो परमात्मा ही जाने ।

10.क्या हम ब्रह्माण्ड में अकेले हैं ?


जिन 10 सवाल का जवाब science के पास नहीं उनमे सबसे महत्वपूर्ण एक यह भी है कि ब्रह्माण्ड में अरबो खरबों कि संख्या में तारे मौजूद हैं और इन तारो के इनसे भी ज्यादा ग्रह है और ग्रहों के उपग्रहों कि तो गिनती ही नहीं । तो अब सवाल यह उठता है । कि क्या सिर्फ पृथ्वी ही एकमात्र ऐसा ग्रह है जहाँ जीवन है, या पृथ्वी के अलावा भी कोई और ग्रह है जहाँ जीव जंतु हैं ।और अगर हैं तो वो कैसे दिखते होंगे । हमसे जादा विकसित होंगे या हमसे कम इस बारे में हमारा विज्ञान कुछ भी नहीं जान पाया है।

पढ़े और जाने कि ब्रह्माण्ड कितना बड़ा है 

यदि पानी में जलचर जीव न होते तो शायद आज हम इंसान यही मानते कि पानी में तो जीवन संभव ही नहीं है। क्योंकि वहाँ पर्याप्त मात्र में ऑक्सीजन नहीं है जबकि हर जीव जंतु को oxygen कि जरुरत होती है मगर पानी में रहने वाले जीव जंतु यह साबित करते हैं कि पानी में भी जीवन संभव है भले ही जीने के लिए जरूरते अलग अलग हो।

10 सवाल जिनका जवाब विज्ञानं के पास भी नहीं

तो हो सकता है इसी प्रकार से दूसरे  Planet पर रहने  वाले जीवो के लिए भी जीने के लिए वह का ही Environment उचित हो। उन्हें जीने के लिए oxygen कि नहीं बल्कि अपने Planet के ही material की जरुरत हो। मगर इस बारे में स्पष्ट रूप से  हम न तो अभी जान पाए हैं, और ना ही कोई कल्पना कर पाए है।

यह भी पढ़ें :- ब्रह्माण्ड के अनसुलझे रहस्य

तो कैसा लगा आपको 10 सवाल जिनका जवाब विज्ञान के पास भी नही है article पढ़कर । अगर आपके पास भी कुछ ऐसे ही सवाल हैं तो नीचे कमेंट में जरूर लिखे ।

Share post, share knowledge

17 thoughts on “10 सवाल जिनका जवाब विज्ञान के पास भी नही है”

        1. किसी मरे हुए आदमी के अंदर आप ऑक्सीजन भी डाल सकते हैं। वाटर भी डाल सकते हैं फ़ूड भी डाल सकते हैं। लेकिन तो क्या वह फिर से जीने लगेगा, बिलकुल नहीं। तो इसका मतलब है इनके अलावा कुछ और भी है जो जीवन के लिए सबसे ज्यादा इम्पॉटेंट हैं। उसी को भगवान् कहते हैं

          1. Ham janm lete h jitani age hoti h utani jite h aur fir last me ham mar jate h
            Jab marna hi h to ham jite hi kyu h….jam lena marna ye kya h isse kya hota …

        1. mobile par baat karte waqt aapne radiowav ko dekha hai ?
          internet ko apne dekha hai ??
          pyar ko apne dekha hai ?
          bhukh ko apne dekha hai ?
          nahi na lekin fir bhi ye cheeje exist karti hain ..same god ko dekha nahi ja sakta lekiin nature men usko dekha ja skata hai ..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *