Cricket के वो 10 Record जिनको तोडना आसान नहीं है

Cricket के वो 10 Record जिनको तोडना आसान नहीं है

दोस्तों इस धरती पर आज तक अनेको इंसानो ने एक से बढ़कर एक Record बनायें हैं, कुछ लोग मेहनत करके पुराने रिकॉर्ड को समय के साथ धराशाही कर देते हैं लेकिन कुछ record ऐसे भी बन जाते हैं जिनको तोडना आसान नहीं होता। और आज हम आपको बताने वाले हैं क्रिकेट के उन 10 रिकार्ड्स के बारे में जिनको तोडना अब आसान नहीं होगा। ये जानना सबके लिए दिलचस्प होगा की यह रिकॉर्ड कब और कौन तोड़ता है। तो चलिए अब बिना समय गंवाए जानते हैं Cricket के वो 10 Record जिनको तोडना आसान नहीं है। 

Cricket के वो 10 Record जिनको तोडना आसान नहीं है

Cricket के वो 10 Record जिनको तोडना आसान नहीं है


1- Sir Donald George Bradman :-

सर डोनाल्ड जॉर्ज ब्रॅडमन को दुनिया के सबसे Best Cricket Players में से एक माना जाता है। इन्होने अपने पुरे जीवन में केवल 52 टेस्ट मैच खेले थे जिसमे उन्होंने 6996 रन बनाये और 29 शतक लगाए।  और इसमें भी दिलचस्प बात यह है कि 12 दोहरे भी शामिल हैं। जिसकी बराबरी करना किसी बल्लेबाज  के लिए बिलकुल भी आसान नहीं है। इनकी बल्लेबाजी को आंकने का सबसे अच्छा तरीका इनका औसत रन रेट से है, डोनाल्ड जॉर्ज ब्रॅडमन ने यह रन 99.94 के औसत से बनाये थे, इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाडी Steve Smith हैं जिनका औसत रन रेट 61.4 है।  अब आप सोच सकते हैं कि जब दूसरे नंबर का खिलाडी इस नंबर पर इतने पीछे है, तो 99.94 का रिकॉर्ड तोड़ने वाला बल्लेबाज़ तो भगवान ही जाने कब पैदा होगा।

2- Sunil Narine :-

अच्छा सुनील नाराइन को तो आप जानते हैं जो Trinidadian cricketer हैं लेकिन internationally वे  West Indies के लिए खेलते हैं। Caribbean Premier League  में सुनील नारायन Guyana Amazon Warriors की टीम में थे। उस वक़्त Situation ऐसी आ गयी थी की लास्ट ओवर में 12 रन बचाने थे। स्ट्राइक पर थे Red Giant Team के बैट्समैन Nicholas Pooran . सब लोग अपना दिल थाम के बैठे थे की और कोई अंदाज़ा नहीं था की क्या होने वाला है, फिर Sunil Narine ने जो ओवर कराया वो वाकई काबिल -ए -तारीफ था। उन्होंने वो ओवर कुछ इस तरह करवाया।

पहली बॉल खाली
दूसरी बॉल खाली
तीसरी बॉल खाली
चौथी बॉल खाली
पांचवी बॉल विकेट (कैच )
छटवी बॉल खाली
और जहाँ  Red Giant Team को लास्ट ओवर में 12 रन चाहिए थे वो 1 रन भी नहीं बना पाए और उल्टा एक विकेट भी आउट हो गया। सुनील नारायण द्वारा कराये गए इस ओवर को Sunni Narine super over maiden कहा जाता है। इस तरह की गेंदबाजी अब शायद ही कोई और गेंदबाज कर पायेगा, क्योंकि आखिरी ओवर में जब Situation ऐसी हो तो कोई भी खिलाडी 1 न 1 रन तो कोई बना ही लेगा।

3- M.S. Dhoni :-

महेंद्र सिंह धोनी विश्व के सबसे सर्वश्रेष्ठ क्रिकेट कप्तानों में गिने जाते जाते हैं।  और भारत की क्रिकट टीम को उन्होंने कहा से कहा तक पहुँचाया इसके लिए मुझे कुछ लिखने की आवश्यकता नहीं  है क्योंकि आप सभी जानते ही हैं। धोनी ने अपनी Captain ship में 2007 का T20 Cricket World Cup, 2011 का ODI  World cup, और 2013 की Champians Trophy भी जितायी थी। और वो इन तीनो मुकाबलों को जीतने वाले दुनिया के पहले और आखिरी क्रिकेट कप्तान बन गए। अब आपको लग रहा होगा कि फ्यूचर में ऐसा तो कोई भी आ सकता है जो इन तीनो को जीत सकता है, हैना ! लेकिन मैं आपको बता देता हूँ कि अब ICC ने Champians Trophy को समाप्त कर दिया है तो इस तरह से वो ऐसा करने वाले दुनिया के पहले और आखिरी कप्तान हुए कि नहीं। अपने M.S. Dhoni के बारे में और भी बहुत कुछ है लेकिन यहाँ ज्यादा नहीं लिखूंगा क्योंकि अभी और रेकॉर्डर भी बाकि हैं।

4- Phils Summon :-

बात है 1992 की जब वेस्ट इंडीज और पाकिस्तान के बीच मैच चल रहा था। और Phils Summon ने 10 over की गेंदबाजी में केवल 3 रन दिए थे और 4 विकेट भी लिए थे। अब जरा सोचिये एक ओवर में 6 बॉल होती हैं और और 10 ओवर में 60 बॉल और इसके बावजूद इस खिलाडी ने केवल 3 रन दिए।  और पाकिस्तान के चार विकेट भी चटकाए तो है न ये क्रिकेट हिस्ट्री का अजब गजब करिश्मा।

5- Jim Laker :-

तो यह बात है 1956 की England की टीम के Off Spinner जिम लेकर ने अपनी पहले पारी में 9 विकेट लिए थे। आजकल एक से बढ़कर एक धुरंधर बल्लेबाज आ रहे हैं और आज की डेट में एक ही मैच में 9 विकेट लेना एक बहुत ही बड़ा लक्ष्य है। लेकिन Jim Laker ने तो उस वक़्त 9 विकेट चटकाए वो भी एक ही मैच में, और इस से भी हैरान कर देने वाली बात तो यह है कि अपनी दूसरी पारी में उन्होंने 10 के 10 wicket लिए, है न कमाल अब तो आप भी मान गए होंगे कि न भाई न ये cricket history का ये record तो नहीं टूटने वाला। और इस रिकॉर्ड के साथ वे Test Cricket match की एक पारी में सबसे ज्यादा (19) wicket लेने वाले खिलाडी बन गए। हम भारतीय हैं इसलिए आपको इस record के साथ यह बताना भी मेरा फ़र्ज़ है कि साल 1999 में पाकिस्तान के साथ एक टेस्ट मैच में अनिल कुंबले ने भी 10 wicket लिए थे।  यह भी एक रिकॉर्ड तो है लेकिन एक मैच में सबसे ज्यादा विकेट लेने का खिताफ तो Jim Laker के पास ही है।

6- जब श्रीलंका ने बनाये 953 रन :-

साल 1997 में भारत टेस्ट क्रिकेट मैच खलेने के लिए कोलम्बो, श्रीलंका के दौरे पर गयी थी। इस मैच की पहली पारी में भारत ने बैटिंग करते हुए 8 विकेट ने नुकसान पर 537 रन बनाये  और डिक्लेअर कर दिया क्योंकि भारत को लगा था यह स्कोर भी बहुत बड़ा है, फिर श्रीलंका ने बैटिंग की और 537 रन तो उन्होंने 1 विकेट के नुकसान पर ही बना लिए थे उसके बाद श्रीलंका ने 6 wicket के नुकसान पर 952 रन बना डाले, हालाँकि यह मैच बाद में किसी कारण ड्रा हो गया था। लेकिन श्रीलंका ने जो स्कोर बनाया वह भविष्य में शायद ही कोई टीम बना पायेगी। इस पारी में श्रीलंका के बैट्समैन सनथ जयसूर्या ने 340 रनो की पारी खेली थी।

7- 1 बॉल में 286 रन :-

ये लो मुझे पता है आप चौंक गए कि भाई ये क्या बात कर रहा है १ बॉल में भला 286 रन कैसे हो सकते हैं ? हैना !  तो मैं आपको बता देता हूँ कि आज के हिसाब से Cricket में जो रूल है उसमे 1 बॉल पर ज्यादा से ज्यादा 8 रन बन सकते हैं और अगर नोबॉल हुयी तो फिर 9 भी बन सकते हैं। लेकिन आपको बता दे की 15 जनवरी 1894 को इंग्लैंड के एक न्यूज़ पेपर The Pall Mall Gazette में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार ऑस्ट्रेलिया में हुए मैच में 1 बॉल पर 286 रन बनाये गए थे। साल 1893-94 में स्क्रैच इलेवन और विक्टोरिया के बीच डॉमेस्टिक मैच के दौरान ये रिकॉर्ड बना ​था. दरअसल उस वक्त बैट्समैन एक बॉल पर जितने चाहे उतने रन दौड़ सकता ​था. मैच की पहली ही बॉल पर विक्टोरिया टीम के बैट्समैन ने शॉट जमा दिया जिसके बाद गेंद मैदान के पास एक पेड़ पर अटक गई. चूंकी गेंद मैदान से दिख रही थी तो अंपायर भी कुछ नहीं बोल सका. दूसरी टीम गेंंद को उतारने के लिए जुट गई और बैट्समैन रन के​ लिए लगातार दौड़ने लगा. कॉफी मुद्दतों के बाद भी जब गेंद नहीं उतरी तो अंपायर ने पेड़ काटने के आॅर्डर दिए पर ये प्रयास भी असफल रहा इसके बाद अंपायर ने गेंद का राइफल से शूट करके उतारने की बात कही, काफी कोशिशों के बाद जब गेंद उतरी तब तक 286 रन बन चुके थे. इस दौरान बैट्समैन ने करीब 6 किलोमीटर की दौड लगायी। मज़े की बात ये है कि गेंद के गिरने पर भी किसी ने कैच नहीं पकड़ा। हद हो गयी भाई।

8- मुथैया मुरलीधरन के 1347 International wickets :-

मुथैया मुरलीधरन ने 1992 से लेकर 2011 तक श्रींलकन क्रिकेट टीम में एक ऑफ स्पिन बॉलर के तौर पर अपनी भूमिका निभाई उन्होंने अपने करियर में टोटल 22.86 रन की औसत से 1347 इंटरनेशनल विकेट लिए हैं। उसके बाद दूसरे नंबर पर आते हैं शेन वॉर्न जिन्होंने 1001 विकेट लिए हैं और ये आंकड़ा 1347 से काफी पीछे है। इनके इस कीर्तिमान में 534 One Day  और 13  T20 मैच शामिल हैं।

9- Wilfred  Rhodes :-

Wilfred Rhodes ने अपना पहला मैच 1998 मे खेला था। इन्होने अपने 32 साल के लम्बे Cricket Career में अपने आल राउंडर होने का ऐसा करिश्मा दिखाया की शायद ही उनकी बराबरी अब भविस्य में कोई कर पाए। इन्होने 1010 मैच खेले जिसमे उन्होंने 19969 रन बनाये और साथ ही 4202 wicket भी लिए इस दौरान उन्होंने 16 बार दोहरे शतक भी लगाए और 287 बार एक मैच में 5 विकेट लिए और 68 बार 10 विकेट भी लिए उन्होंने England की टीम में खेलते हुए भी लाजवब परफॉरमेंस दी।

10- बापू नडकर्णी के लगातार 21 मेडेन ओवर :-

बापू नडकर्णी का जन्म 1933 को महाराष्ट्र के नासिक में हुआ था। इन्होने भारत के लिए 41 टेस्ट मैच खेले थे, जिसमे वे अपनी रहस्यमयी बॉलिंग के लिए जाने जाते थे, और इस बात का सबसे बड़ा साबूत है IND vs ENG के बीच 1963 में खेला गया मद्रास टेस्ट मैच जिसमे होनहोने 32 ओवर में सिर्फ 5 रन दिए थे जिसमे 27 ओवर मेडेन थे। इस मैच के दौरान बापू नडकर्णी के लगातार 21 maiden over फेंके गए थे। जो एक Cricket History का एक कभी न टूटने वाला Record बन गया।

तो क्यों दोस्त आया न मज़ा Cricket के वो 10 Record जिनको तोडना आसान नहीं है इस पोस्ट को पढ़कर अगर ऐसी ही पोस्ट पढ़नी है तो अपनी इसी वेबसाइट Hindish.com पर आते रहो और पढ़ते रहो।

यह भी पढ़े :-

दुनिया में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली 10 भाषाएँ 

दुनिया के टॉप 10 Most Wanted क्रिमिनल

दुनिया की 10 सबसे पुरानी भाषाएँ 

दुनिया के 10 सबसे सस्ते देश जहाँ भारतीय घूम सकते हैं सस्ते में

कुरान की 10 आयतें जो वैज्ञानिक तौर पर गलत सिद्ध हुई

Share post, share knowledge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *