सोनू निगम का जीवन परिचय | sonu nigam biograrphy

sonu nigam biography in hindi
soonu nigam biography in hindi
sonu nigam

पूरा नाम – सोनू निगम

जन्म –  30 जुलाई 1973 (आयु 43 वर्ष)

पिता – अगम कुमार निगम

माता  -शोभा निगम

हाईट – 175 cm

जन्म स्थान – फरीदाबाद, हरियाणा

आवास – अँधेरी, मुम्बई

पेशा – Bollywood Playback singer, अभिनेता, हास्य कलाकार, TV होस्ट,

कुल सम्पति-  $8 मिलियन

फीस – 10-12 lack/song

सोनू निगम 


सोनू निगम बॉलीवुड के मशहूर पार्श्व गायक (playback singer) होने के साथ साथ एक अच्छे कॉमेडियन और टेलीविजन होस्ट भी हैं।  जो अपनी कलाकारी से घंटो तक ऑडियंस का मनोरंजन कर सकते हैं।  फरीदाबाद में जन्मे सुपरस्टार गायक सोनू निगम ने 4 साल की उम्र से ही गाना शुरू कर दिया था और अपनी स्कूली पढाई के दौर में वे शादी पार्टी में गया करते थे और समय समय पर गायकी के सभी प्रतियोगिताओ में भाग भी लेते थे।  1980 में मुंबई आकार उनको कई मुश्किलों का सामना करना पड़ा लेकिन सोनू निगम के अन्दर आत्मविश्वास मेहनत करने की लगन और धैर्य सब कुछ मौजूद है।  इसी लिए तो वो फर्श से अर्श तक की बुलंदियों पर पहुचे उन्होंने हिंदी के अलावा तमिल, तेलुगु, पंजाबी, कन्नड़, नेपाली, उड़िया ,गढ़वाली, असमिया भाषाओ में गाने गाये हैं।  उन्होंने अभिनय के क्षेत्र में भी हाथ अजमाया था लेकिन उनकी ज्यादा रूचि बचपन से ही गायकी में थी. इसलिए अभिनय से ज्यादा उनको गायकी ने ही शौहरत दी। multi talented  सोनू निगम बहुत स्टेज शो कर चुके थे बहुत एल्बम में भी गा चुके थे लेकिन बॉलीवुड में उन्होंने अपना पहला गाना फिल्म ‘जनम'(1990) के लिए गाया, जो फिल्म किसी कारण से रिलीज़ ही नहीं हो पायी।  उसके बाद  सोनू निगम ने फिल्म सनम के लिए ‘अच्छा सिला दिया’’ गीत गाया।  जिसको काफी सराहा गया । फिर 1995 में वे पापुलर टीवी शो सा रे गा मा पा होस्ट करने लगे । फिर उन्होंने 1997 में आयी फिल्म बॉर्डर में संदेसे आते हैं गाना गया जो सब की जुबान पर छा गया और उस गाने ने सोनू निगम को बॉलीवुड में एक प्रोफ्फेश्नल गायक के रूप में स्थापित कर दिया । उसके बाद से सोनू ने कल हो न हो, कभी अलविदा न कहना, सूरज हुआ मद्धम, दो पल , इन लम्हों के दामन में,  भी मुझमें कहीं बाकि थोड़ी सी है ज़िन्दगी, जैसे सदाबहार गाने दिए । इसीलिए सोनू निगम को golden voice of india  भी कहा जाता है । सोनू निगम के पास आज दर्जनों पुरुस्कार के साथ साथ धन दौलत और शौहरत सब कुछ है ।  और बॉलीवुड में डिमांड भी बहुत है।  फिर भी वे अपने  हर एक गाने को ध्यान से सोचने समझने के बाद ही गाते हैं, चाहे उनका साल में एक ही गाना क्यों न आये तो चलिए जानते हैं उनके बारे  में विस्तार से ।

सोनू निगम का प्रारंभिक जीवन 


अगम कुमार निगम और  शोभा निगम दम्पति के घर में जन्मे सोनू निगम का जन्म 30 जुलाई 1973 को फरीदाबाद हरियाणा में हुआ । सोनू निगम के पिता एक स्टेज सिंगर थे,  जिन्होंने बाद में बॉलीवुड के बहुत सारे हिट गाने गाए और खूब नाम कमाया तथा सोनू की माता एक गृहणी थी । सोनू निगम की दो  बहाने भी हैं जिनका नाम निकिता निगम और मीनल निगम है ।

सोनू निगम की प्रारंभिक शिक्षा JD tytler school स्कूल से हुई तथा इंटर कॉलेज की पढाई उन्होंने डेल्ही यूनिवर्सिटी से पूरी की। बचपन में उनके परिवार की आर्थिक स्थिति उतनी अच्छी नहीं थी इसलिए उनको ज़िन्दगी के साथ काफी कोम्प्रोमाईज़ भी करना पड़ा जब वो 12 पास करने के बाद सोनू ने अकादमिक एजुकेशन पर उतना जोर नहीं दिया इसलिए उन्हने डिग्री पत्राचार के माध्यम से हासिल की।सोनू निगम हमेशा अपने क्लास में टोपर रहे हैं । उन्होंने भारतीय शाश्त्रीय संगीत का जमकर रियाज किया । सोनू निगम के ममी और पापा दोनों अच्छा गाते हैं इसलिए संगीत उनके अन्दर भी बचपन से कूट कूट कर भरा था सोनू निगम कहते हैं कि 1976 में जब वो 3 साल के थे तब उनके पापा किसी स्टेज पर गा रहे थे तो सोनू निगम ने भी back stage पर रोना शुरू कर दिया। और गाने की जिद करने लगे तो उनकी मामी पापा परेशांन हो गए की ये कैसी जिद है, क्योंकि उस से पहले उनके मामी पापा ने सोनू को कभी गाते हुए नहीं था। तो वो सोचने लग गए की गा पायेगा या नहीं और ऐसे में किसी  ने सोनू की माँ को समझाया कि बच्चा है गाने दिजिये। तो तब सोनू निगम स्टेज पर गए और उन्होंने अपने पापा के साथ मोहम्मद रफ़ी साहब का गया हुआ गाना क्या हुआ तेरा वादा  गाना गाया। फिर उनके माता-पिता को भी सोनू के अंदर छुपी हुई प्रतिभा नजर आई फिर इस  तरह सोनू ने  अपने पिता से लाइट म्यूजिक सीखा। और वो भी धीरे धीरे स्टेज परफोर्मर बन गए। जब वो 10वी कक्षा में पढ़ते थे उस दौरान उन्होंने बहुत सारी प्रतियोगिताओ में भाग लिया और एक के बाद एक प्रतियोगिता जीतते गए । गौरतलब है कि सोनू ने अभी तक किसी भी संगीत के गुरु से शिक्षा नहीं ली थी लेकिन इस दौर में उन्होंने रफ़ी साहब, लता जी, आशा जी, किशोर कुमार जी, अनूप जलोटा जी, पंकज उदास, जी मन्ना डे जी, और भी बहुत सारे गायकों के गाने बहुत ध्यान से सुने और उनकी एक एक हरकत पहचानी और सुन सुन कर ही काफी कुछ सीख लिया । फिर 18-19 साल में उनको लगा कि वो संगीत में अच्छा कर रहे हैं इसलिए अब वो अपना करियर संगीत में गायकी में ही बनायेंगे । फिर उन्होंने सोचा कि वे अपने पिता के साथ मुंबई जायेंगे जहाँ उनके पिता  स्टेज परफोर्मर (singing) करते थे, तो सोनू निगम ने मुंबई जाने  से सिर्फ 4 महीने पहले ही उन्होंने ताहिर खान साहब से 6 महीने की संगीत की शिक्षा ली। और फिर वे अपने  पिता के साथ  मुंबई आ गए और फिर यहाँ शुरू हुई सोनू निगम के संगीत का उतर चढाव वाला musical safar तो आइये जानते हैं सोनू निगम का संगीत का सफ़र।

सोनू निगम की गायकी का सफ़र


वैसे तो सोनू निगम ने अपने पिता के साथ 3 साल की उम्र से शादियों पार्टियों और प्रतियोगिताओ में गाना शुरू कर दिया था ।जहाँ से सोनू निगम के दिल में गायक बनने की ललक जाग उठी थी जब एक से एक प्रतियोगिता जीतते गए तो उनक लगा की अब उनको संगीत के क्षेत्र में ही अपना मुकाम बनाना है ।और फिर 1991 में वो अपने पिता के साथ सपनो को सच करने फरीदाबाद से माया नगर मुंबई आ गए ।

शाहरुख़ खान बायोग्राफी पढ़ें 

मुंबई आने के बाद सोनू निगम के पिता अगम कुमार निगम ने उनक अन्नू मालिक, उषा खन्ना, आशा जी, और बहुत सारे प्रसिद्ध ख्यातिप्रद गीत कार संगीत कारो के घर दिखाए।  मुंबई आने के बाद सोनू निगम ने उस्ताद ग़ुलाम मुस्तफ़ा ख़ान से संगीत की शिक्षा लेना शुरू किया और अपना मुकाम बनाने में जुट गये । लेकिन उस वक़्त मुम्बई में उनकी ख़ास जान पहचान नहीं थी इसलिए उनको शुरवाती दौर में बड़ी कठिनाइयों और आर्थिक परेशानियों से गुज़ारना पड़ा।  मुंबई में जीवन यापन करने के लिए वे स्टेज पर मोहम्मद रफ़ी साहब के गानों को गाया करते थे। वे अपने गानों को रिकॉर्ड करें के लिए सुदीप रिकॉर्डिंग स्टूडियोज में भी गए लेकिन वो सोनू निगम की प्रतिभा का से आंकलन नहीं कर पाए और उनको मना कर दिया। और सोनू निगम फूट फूट कर रोने लगे थे। फिर वे उषा खन्ना जी के घर गए और वहां पर उषा जी ने उनको समझाया। लेकिन फिर उनकी किस्मत बदली और साल 1992 में जब उनकी सुरीली आवाज  T-series music company के मालिक और भजन गायक गुलशन कुमार के कानो में गयी तो उन्होंने सोनू निगम को आने स्टूडियो में बुला लिया और उनके गाने सुने और उनको सोनू निगम की आवाज उनके गाने का अंदाज़ बहुत पसंद आया और उन्होंने माया नगरी के इस संगीत के सफ़र में सबसे पहले सोनू निगम का हाथ पकड़ लिया । और फिर सोनू निगम ने T-series म्यूजिक कंपनी से अपने बहुत सारे भजन गए और बहुत सारे मोहम्मद रफ़ी के गानों को भी गया जिनको Rafi Resurrected cd1, cd2, cd3, “रफ़ी की यादे” के नाम से रिलीज़ किया गया। और सोनू निगम  को  इस से थोड़ी जान पहचान मिल गयी थी और फिर वे उच्च स्तर के स्टेज शो करने लगे, जिस से उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार हो गया था। और फिर उन्होंने दिल्ली में रह रही अपनी माँ और दोनों बहनों को भी मुंबई बुला लिया ।

सलमान खान बायोग्राफी 

फिर इस दौरान उनको रेडियो में कोमेर्सियल ऐड बनाने का मौका भी मिला उन्होंने अपना पहला फ़िल्मी गाना फिल्म जनम के लिए गाना गया था। लेकिन वो फिल्म अधिकारिक तौर पर रिलीज़ नहीं हो पायी, फिर  उसके बाद साल 1995 में गुलशन कुमार के निर्देशन में आई फिल्म सनम बेवफा में उनको दुसरा फिल्मी गाना गाने को मिला। जिसका नाम था “अच्छा सिला दिया तुंने मेरे प्यार का” जो उस दौर में बहुत हिट हुआ और हर एक की जुबा पर चढ़ गया इस से सोनू निगम एक कदम और उपर बढ़ गए ।

फिर साल 1995 में Z tv चैनल पर प्रसारित होने वाले singing reality show सा रे गा मा पा में उन्को show को host करने की ज़िम्मेदारी दी गयी, जिस से सोनू निगम घर घर में पहुच चुके थे फिर साल 1997 में आई फिल्म बॉर्डर  में उनको मौका मिला। जिसमे उहोने रूप कुमार राठौर के साथ मिल कर संदेसे आते हैं गाना गया और यह गाना सुपर डुपर हिट हुआ। और इस गाने के लिए सोनू निगम को बेस्ट playback  singer का अवार्ड भी मिला था लेकिन वो उस अवार्ड को लेने के लिए नहीं गए थे, क्योंकि उस गाने को रूप कुमार राठौर जी ने भी गाया था।और अवार्ड सिर्फ सोनू लेते तो उनको अच्छा नही लगता, इसलिए उन्होंने यह अवार्ड नहीं लिया अब यहाँ से सोनू निगम ने बॉलीवुड में अपनी एक अच्छी खासी पहचान बना ली थी फिर उसके बाद साल 1997 में आई फिल्म परदेश में उन्होंने दीवाना दिल गाना गाया ।जो  बहुत हिट हुआ। और उसके बाद सोनू निगम एक के बाद एक हिट गाने गाते चले गये जिनमे सबसे सबसे popular हैं ।

सोनू निगम Top 10 popular song 

  1. संदेसे आते हैं 
  2. दीवाना दिल 
  3. कल हो न हो 
  4. कभी अलविदा न कहना 
  5. पहली पहली बार बलिये 
  6. साथिया रे 
  7. तुम्ही देखो ना  
  8. सोनियो 
  9. सूरज हुआ मद्धम 
  10. शुकरान अल्लाह 

सोनू निगम classical,rock,pop  लगभग सभी शैलियों में गाने गाते हैं इसलिए उनको बॉलीवुड का versatile singer भी कहा जाता है।आज तक दर्जन फिल्म फेयर अवार्ड, मिर्ची म्यूजिक अवार्ड,जी सिने अवार्ड को अपने नाम कर चुके हैं।  वैसे तो उनके अवार्डो की लिस्ट बहुत लम्बी है लेकिन उनको मिले कुछ मुख्य अवार्ड देखते हैं ।

सोनू निगम अवार्डस लिस्ट 


2017 – हरियाणा गौरव सम्मान अवार्ड

2016 – Lions Gold Award

2015 – सोनू निगम और विक्रम घोष को “jal” की कम्पोजीशन के लिए नोमिनेट किया गया

2015 – Socialathon Person of the Year

2013 – MTV म्यूजिक एंड विडियो अवार्ड.

2013 – बेस्ट मेल वोकलिस्ट फॉर अभी मुझमे कही.

2013 – लायंस गोल्ड अवार्ड फॉर अभी मुझमे कही.

2013 – जी सिने अवार्ड फॉर बेस्ट मेल प्लेबैक सिंगर फॉर अभी मुझमे कही.

2013 – बिग स्टार एंटरटेनमेंट अवार्ड फॉर बेस्ट मेल प्लेबैक सिंगर फॉर अभी मुझमे कही.

2013 – रॉयल स्टैग मिर्ची म्यूजिक अवार्ड फॉर बेस्ट मेल वोकलिस्ट फॉर अभी मुझमे कही.

2012 – लायंस गोल्ड अवार्ड फॉर फेवरेट एवरग्रीन सिंगर.

2012 – GIMA फॉर बेस्ट ग्लोबल इंडियन कोलाब्रेशन.

2011 – GIMA फॉर MTV यूथ आइकॉन.

2011 – गीतांजलि वोव्व अवार्ड फॉर लाइव पर्सनालिटी.

2010 – GIMA फॉर बेस्ट लाइव परफ़ॉर्मर मेल.

2010 – GIMA फॉर मोस्ट पॉपुलर सोंग आल इज वेल.

2010 – अमर रिश्ते अवार्ड फॉर जी आइकॉन.

2010 – बिग स्टार एंटरटेनमेंट अवार्ड फॉर सिंगर ऑफ़ डिकेड.

2009 – इंडियन टेलीविज़न अकादमी अवार्ड फॉर बेस्ट मेल सिंगर.

2009 – फिल्म फयर अवार्ड.

2008 – एनुअल सेंट्रल यूरोपियन अवार्ड.

2008 – GBPA अवार्ड फॉर बेस्ट सिंगर.

2008 – फिल्म फेयर अवार्ड फॉर कन्नडा बेस्ट मेल प्लेबैक सिंगर.

2008 – इंडियन टेलीविज़न अकादमी अवार्ड फॉर बेस्ट सिंगर मेल.

सोनू निगम ने अभिनय में भी अपना हाथ अजमाया और जानी दुश्मन, लव इन नेपाल फिल्मो में भी काम किया लेकिन अभिनय में उनको   ज्यादा सफलता नहीं मिली। वो अपनी संगीत की कला के लिए ही पूरी दुनिया में मशहूर हैं सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि उनके गीत संगीत के फैन देश विदेशो के लोग भी है सोनू निगम आज बुलंदियों पर है ।और हिंदी सिनेमा जगत में एक मिसाल हैं ।वो अपने पसंदीदा सिंगर रफ़ी जी को मानते हैं आज बॉलीवुड में लीडिंग सिंगर में सोनू निगम का नाम सबसे उपर है। वो जो 10 लाख से लेकर 13 लाख रूपये एक गाने की फीस लेते हैं।

आमिर खान की पूरी जीवनी पढ़ें 

सोनू निगम एक अच्छे कलाकार होने के साथ साथ एक अच्छे व्यक्तित्व के इंसान भी हैं। जो बॉलीवुड के सदाबहार गायकों की लिस्ट में आते हैं ।

तो कैसी लगा आपको सोनू निगम का जीवन परिचय | sonu nigam biograrphy कमेंट में जरूर बताएं और शेयर करना मत भूलना ।

About kailash

मेरा नाम कैलाश रावत है और मैं hindish.com का एडमिन व लेखक हूँ और इस ब्लॉग पर निरंतर हिन्दी में ,टेक,टिप्स,जीवनियाँ,रहस्य,व अन्य जानकारी वाली पोस्ट share करता रहता हूँ, मेरा मकसद यह है की जैसे बाकि भाषाए इन्टरनेट पर अपनी एक अलग पह्चान बना रही हैं तो फिर हम भी अपनी मात्र भाषा की इन्टरनेट की दुनियां में अलग पहचान बनाये न की hinglish में ।
Share post, share knowledge

3 thoughts on “सोनू निगम का जीवन परिचय | sonu nigam biograrphy”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *