गोरिल्ला ग्लास क्या है और जानिए इसकी खासियत | Gorilla glass in hindi

गोरिल्ला ग्लास क्या है \What is gorilla glass in hindi

आजकल आपने  देखा होगा की बहुत सारे मोबाइल की स्क्रीन पर गोरिल्ला ग्लास की प्रोटेक्शन दी जाती है, ताकि उस पर कम से कम स्क्रेच आयें या आये ही ना। तो क्या आप जानते हैं वह गोरिल्ला गिलास है क्या कैसे बनता है और कितने हद तक उस पर स्क्रेच नहीं आ सकते तो चलिए जानते हैं गोरिल्ला ग्लास क्या है ? और इसकी खासियत क्या है ?

गोरिल्ला ग्लास क्या है ?


गोरिल्ला ग्लास, एक तरह का कांच होता है जो scratch-resistant होता है। इसीलिए इसका प्रयोग स्मार्टफोन, लैपटॉप टेबलेट,ATM मशीन और अन्य मोबाइल उपकरणों की डिस्प्ले की सुरक्षा के लिए किया जाता है ताकि उनपर कम से कम स्क्रेच आयें , यह हल्का और    मजबूत, टिकाऊ कांच होता है जिसके थ्रू हम किसी भी Device की screen को टच कर सकते हैं गोरिल्ला ग्लास को पहली बार 2007 में एक मोबाइल डिवाइस स्क्रीन आईफोन में लगाया गया गया था।

गोरिल्ला ग्लास क्या है \What is gorilla glass in hindi

लेकिन दोस्तों  गोरिल्ला ग्लास  बनाने वाली कंपनियां corning, और Gorilla glass की तरह ही मजबूत और scratch-resistant कांच (Dragontrail) बनाने वाली दूसरी कंपनी Asahi  भी यह कहती है की उनका यह ग्लास सिर्फ scratch-resistant है यानी कुछ हद तक स्क्रेच को रोक सकता है ।

यह भी पढ़ें – अपने कंप्यूटर की स्क्रीन को कैसे रिकॉर्ड करें

तो इसका ये मतलब नहीं है कि उनपर स्क्रेच आ ही नहीं आ सकता,  बिलकुल Gorilla glass में भी खरोच आ सकता है लेकिन वह कब आता है आइये जरा एक नज़र डाले इस पर ।

 गोरिल्ला ग्लास, पर कब स्क्रेच आता है ?


दरअसल आपको बताते चले  की Hardness को मापने का एक स्केल होता है जिसको हम कहते हैं Mohs scale of hardness । इसमें जो भी पदार्थ जितना मजबूत होता है उसको उतने ज्यादा नबर दिए जाते हैं तो आप नीचे दिए गए स्केल में देख सकते हैं की कौन सा पदार्थ कितना हार्ड है ।

10 – Diamond
9 – Corundum
8 – Topaz
7 – Quartz
6 – Orthoclase feldspar
5- Apatite
4 – Fluorite
3 – Calcite
2 – Gypsum
1 – Talc

तो यहाँ पर आप देख सकते कि 1 का मतलब सबसे सॉफ्ट और 10 का मतलब सबसे हार्ड तो यहाँ पर सबसे हार्ड चीज जो है वह है हीरा (diamond)।

तो  इस स्केल के अनुसार माना किसी पदार्थ का हार्डनेस स्केल है 5 । तो अगर हम उस पदार्थ पर 5 से कम हार्डनेस वाली चीजो से स्क्रेच करेंगे तो उसपर बिलकुल भी स्क्रेच नहीं आयेगा,  और अगर हम उस पर 5 नबर से ज्यादा की हार्डनेस वाली चीजो से स्क्रेच करेंगे तो उसमें आसानी से खरोच आ जायेगी।

तो इसी तरह से हमारा गोरिल्ला ग्लास का हार्डनेस स्केल है  वो है 6.5 और जो चीजे हम अपनी जेब में रखते हैं जैसे सिक्के चाबी इनका हार्डनेस स्केल 6 से कम होता है इसलिए आप कितनी भी कोशिश करेंगे तो सिक्के या चाबी या चाकू से Gorilla glass पर कोई खरोच नहीं आएगी।  क्योंकि इन सबका हार्डनेस स्केल Gorilla glass से कम होता है। अगर आप 6.5 से ज्यादा हार्डनेस वाली चीजो से गोरिल्ला गिलास पर स्क्रेच करेंग तो आसानी से उस पर स्क्रेच पड जायेंगे  | यहाँ पर मैं आपको एक बात बता दूँ की हमारी फिंगर का जो हार्डनेस स्केल है वह है 2.5 ।

यह भी पढ़ें –प्रोसेसर क्या होता है पूरी जानकारी

अब सारी चीजो से तो आपका मोबाइल बच जायेगा लेकिन एक चीज ऐसी है जो सभी जगह हो सकती है और उस से आसानी से आपके मोबाइल में स्क्रेच आजाएँगे  । और फिर आप कहेंगे की मेरे मोबाइल में तो गोरिल्ला ग्लास था फिर स्क्रेच कैसे आ गया। तो दोस्तों मैं आपको बता दूँ की अगर आपके मोबाइल में  रेत (sand) गिरती है और अगर अपने उसको हाथ से साफ़ करने की कोशिश की तो डेफिनेटली स्क्रीन पर स्क्रेच  आ जायेंगे क्योंकि रेट में  Quartz होता है जिसका हार्डनेस स्केल 7 से 8 के बीच में होता है जबकि गोरिल्ला ग्लास या dragontail ग्लास का 6.5 होता है । तो लाज़मी सी बात है कि स्क्रेच आएगा तो अपने मोबाइल को हमेशा रेत   बचा कर रखें चाहे उसमे गोरिल्ला ग्लास प्रोटेक्शन ही क्यों न दी गयी हो ।

गोरिल्ला गिलास 1,2,3,4 में क्या फर्क है ?


अगर गोरिल्ला ग्लास का हार्डनेस स्केल 6.5 है तो देफिनेटली इसको इस से जायदा मजबूत तो नहीं बनाया जा सकत है। क्योंकि जो नेचुरल वैल्यू है वो तो वही रहेगी 6.5 लेकिन हम इसमें एक बदलाव कर सकते हैं। और जो गोरिल्ला गिलास बनाने वाली कंपनिया अक्सर करती ही है और वो ये कि पहले गोरिल्ला गिलास 1 था जो काफी मोटा था । फिर गोरिल्ला ग्लास 2 आया जिसको उसकी उतनी ही ताकत रखते हुए और पतला कर दिया गया जिस से मोबाइल और भी पतला और अच्छा दिखे।

यह भी पढ़ें –जानते हैं RGB और CMYK में क्या फर्क होता है

इसी प्रकार गोरिल्ला ग्लास 3 में भी वही उसी क्षमता को बरक़रार रखते हुए और पतला कर दिया गया जिस से मोबाइल और भी स्लिम और स्मार्ट लगे और फिर इसी तरह से गोरिल्ला ग्लास 4 को उसी क्षमता और उसी मजबूती को रखते हुए और पतला बनाया गया है। बस यही फर्क है उनकी कैपेसिटी और और मजबूती वही है बस थिकनेस कम कर की गयी है ।

तो आशा करता हूँ कि गोरिल्ला ग्लास क्या है और जानिए इसकी खासियत  पोस्ट पढकर आपको गोरिल्ला ग्लास के बारे में पता चल गया होगा।  अगर कोई सवाल हो तो कमेंट   में पूछ सकते है   और इसी तरह की अन्य जानकारी के लिए hindish.com पर पढ़ते रहिये ।

About kailash

मेरा नाम कैलाश रावत है और मैं hindish.com का एडमिन व लेखक हूँ और इस ब्लॉग पर निरंतर हिन्दी में ,टेक,टिप्स,जीवनियाँ,रहस्य,व अन्य जानकारी वाली पोस्ट share करता रहता हूँ, मेरा मकसद यह है की जैसे बाकि भाषाए इन्टरनेट पर अपनी एक अलग पह्चान बना रही हैं तो फिर हम भी अपनी मात्र भाषा की इन्टरनेट की दुनियां में अलग पहचान बनाये न की hinglish में ।
Share post, share knowledge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *